Connect with us

नेशनल

बढ़ते प्रदूषण पर सुप्रीम कोर्ट ने राज्य सरकारों को लगाई फटकार, कही ये बात

Published

on

दिल्ली व आसपास के इलाकों में वायु प्रदूषण की ‘बहुत ही गंभीर स्थिति’ बताते हुए सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को राज्य सरकारों को जमकर फटकार लगाई और कहा कि वे (राज्य सरकारे) जिम्मेदारी नहीं दिखा रही हैं।

शीर्ष अदालत ने आईआईटी से एक पर्यावरण विशेषज्ञ व पर्यावरण मंत्रालय से एक को प्रस्तुत होने के लिए समन भेजा है।न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा की अध्यक्षता वाली शीर्ष अदालत की पीठ ने कहा, “राज्य सरकारें चुनाव में व्यस्त हैं और अपने राज्यों व पड़ोसी राज्यों में वायु प्रदूषण के संबंध में जिम्मेदारी नहीं दिखा रही है..दिल्ली हर साल प्रदूषण को झेल रही है।”

वायु प्रदूषण में कमी लाने को लेकर केंद्र व दिल्ली सरकार की रणनीति के बारे में पूछते हुए कोर्ट ने कहा, “हमें अदालत में एक विशेषज्ञ की जरूरत है। यह बहुत गंभीर हालत है।”

न्यायमूर्ति मिश्रा ने इस पर नाराजगी जताई। उन्होंने कहा, “कोई जगह प्रदूषण से सुरक्षित नहीं है। यहां तक कि बेडरूम भी सुरक्षित नहीं है।”

कोर्ट ने पंजाब, हरियाणा व उत्तर प्रदेश में पराली जलाए जाने से निपटने के उपाय के बारे में पूछा। कोर्ट ने कहा, “आप लोगों को मरने के लिए छोड़ रहे हैं। क्या पंजाब व हरियाणा का प्रशासन यही चाहता है?.. फसल जलाना एक गंभीर मुद्दा है और हमें इसे रोकने के लिए उपाय की जरूरत है।”

कोर्ट ने वायु प्रदूषण के संकट से निपटने के लिए दीर्घकालिक योजना पर भी जोर दिया, क्यों हर साल दिल्ली गंभीर वायु प्रदूषण को झेल रही है। शीर्ष अदालत ने कहा, “लोगों को दिल्ली का दौरा नहीं करने की सलाह दी गई है। यह क्या हो रहा है?”

 

नेशनल

हैदराबाद एनकांउटर पर बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने उठाए सवाल, कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। सुल्तानपुर से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) सांसद मेनका गांधी ने शुक्रवार को तेलंगाना में हुए एनकाउंटर पर सवाल उठाए हैं। मेनका गांधी ने कहा कि हैदराबाद में जो हुआ वह सही नहीं है।

एनकाउंटर इसका सॉल्यूशन नहीं है। आरोपियों को एक न्यायिक प्रक्रिया के तहत सजा मिलनी चाहिए। ये आरोपी तो थाने या जेल में होंगे, कहां भाग कर जा रहे थे। मेनका गांधी ने कहा, ‘वहां पर जो भी हुआ है, वह बहुत भयानक हुआ इस देश के लिए, क्योंकि आप कानून को हाथ में नहीं ले सकते हैं। वैसे भी उनको फांसी मिलती। अगर आप उनको पहले ही बंदूक से मार दोगे, तो फिर फायदा क्या है, अदालत का, पुलिस का, कानून का। फिर आप बंदूक उठाओ और जिसको भी मारना है मारो।’

आपको बता दें कि शुक्रवार की सुबह यह एनकाउंटर नेशनल हाइवे-44 के पास हुआ। पुलिस आरोपियों को एनएच-44 पर क्राइम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर गई थी।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending