Connect with us

नेशनल

CM चंद्रबाबू नायडू के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी, 21 सितंबर तक पेशी के आदेश

Published

on

महाराष्ट्र की एक स्थानीय अदालत ने आंध्रप्रदेश के मुख्‍यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू समेत 15 अन्य के खिलाफ अरेस्ट वॉरंट जारी किया है। अदालत ने महाराष्ट्र पुलिस को सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर 21 सितंबर तक पेश करने के निर्देश दिए हैं।

दरअसल, साल 2010 में गोदावरी नदी की बाबली परियोजना के खिलाफ प्रदर्शन करने के एक मामले में महाराष्ट्र की कोर्ट ने इन लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है।

गौरतलब है कि अविभाजित आंध्र प्रदेश में तब विपक्ष में रहे नायडू और अन्य को महाराष्ट्र में बाबली परियोजना के समीप विरोध करने पर गिरफ्तार किया गया था और उन्हें पुणे में जेल में डाल दिया गया था।

दरअसल, वे इस आधार पर परियोजना का विरोध कर रहे थे कि इससे निचले हिस्से में लोग प्रभावित होंगे। बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया था लेकिन उन्होंने जमानत नहीं मांगी थी।

कोर्ट द्वारा वॉरंट जारी किए जाने के बाद टीडीपी के प्रवक्ता लंका दिनकर ने कहा, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ अरेस्ट वॉरंट जारी हुआ है। ऐसा लगता है कि इसमें नरेन्द्र मोदी और अमित शाह की कोई साजिश है।

यहां बता दें कि चंद्रबाबू नायडू का कहना था कि ‘बाबली परियोजना से निचले इलाकों में रहने वालों के लिए खतरा पैदा हो जाएगा।’

 

 

अन्तर्राष्ट्रीय

भारत को आंख दिखाने वाले पाक के पास बांध बनाने के पैसे भी नहीं, लोगों से मांग रहे हैं चंदा

Published

on

कभी भारत को आंख दिखाने वाले पाकिस्तान खुद इस समय कंगाली की कगार पर खड़ा है। पाकिस्तान के ऊपर अरबों रुपए का कर्ज है। इसी के चलते पाकिस्तानी पीएम इमरान खान सऊदी अरब की यात्रा पर गए थे। पाकिस्तान दो बांध मोहमंद और डायमर भाषा बनाना चाहता है। लेकिन बांध बनाने के लिए पाकिस्तान के पास पैसे नहीं हैं।

दरअसल, दोनों बांध (मोहमंद और डायमर) की अनुमानित लागत 12.4 अरब डॉलर (करीब डेढ़ लाख करोड़ पाकिस्तानी रुपए) है। सरकार के पास इसके लिए सिर्फ 143 करोड़ रुपए बचे हैं। विश्व बांध आयोग के मुताबिक- ‘बड़े बांध बनाने में अनुमानित लागत से 63% ज्यादा पैसा लग जाता है।’

पाकिस्‍तान के आर्थिक मामलों जानकार खुर्रम हुसैन का कहना है कि “हर व्‍यक्ति के लिए चंदा देना आसान नहीं है। बांध बनने के लिए काफी बड़ी रकम की जरूरत है, जिस रफ्तार से पैसा जुटाया जा रहा है, उससे लगता है काफी समय लग जाएगा।”

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending