Connect with us

प्रादेशिक

रमज़ान के मौके पर यूपी में भाजपा विधायक ने सील कराई मस्ज़िद, जानिये क्या है पूरा मामला

Published

on

माह ए रमजान मुसलमानों का सबसे पाक माह माना जाता है। इस ही माह में यूपी के सिद्धार्थनगर में एक मस्जिद को सील कर दिया गया है। दरअसल, इस मस्जिद को भारतीय जनता पार्टी के विधायक की शिकायत के बाद सील कर दिया गया है।

रमज़ान के मौके पर तनाव को देखते हुए मस्जिद के आस-पास बडी संख्या में पुलिस बल भी तैनात कर दिया गया है। ताकि शुक्रवार को अलविदा की नमाज के मौके पर किसी भी प्रकार का तनाव या कोई अप्रिय स्थिति न बने इसके लिये मस्जिद के सुरक्षा व्यवस्था और कड़ी कर दी गयी।

सूत्रों के मुताबिक, सिद्धार्थनगर के सदर थानान्तर्गत बेलसड़ के सरोजिनी नगर में कुछ लोग दो मंजिली मस्जिद व मदरसे का निर्माण करा रहे थे। 17 मई को उस भवन पर लाउडस्पीकर लगाकर यह ऐलान किया जाने लगा कि यह मस्जिद और मदरसा है।

इसकी जानकारी होने पर भारतीय जनता पार्टी के विधायक श्यामधनी राही की ओर से इसके खिलाफ शिकायत की गयी। दावा किया गया कि यह नगर पालिका से आवासीय भवन का नक्शा पास कराकर उसकी आड़ में मस्जिद व मदरसा बनवाया जा रहा है।

जानकारी होने के बाद एसडीएम नौगढ़ और सीओ सदर ने संयुक्त रूप से इसकी जांच की और जांच में निर्माण कार्य अवैध मिलने का हवाला देकर बीते 19 मई को निर्माण कार्य रुकवा दिया गया। इधर अलविदा की नमाज के ठीक एक दिन पहले गुरुवार को एसडीएम सदर की ओर से निर्माणाधीन भवन (जिसे मस्जिद मदरसा कहा जा रहा है) को कुर्क करते हुए उसे सील कर दिया।

हाल में ही जिले के प्रभारी मंत्री चेतन चौहान सिद्धार्थनगर में थे। यहां उन्होंने बैठक भी ली। बैठक के दौरान मस्जिद का मामला उठा, जिस पर पुलिस अधीक्षक ने कार्यवाही से सभी को अवगत कराया।

प्रादेशिक

सीएम योगी बोले, कोरोना की रोकथाम के लिए लखनऊ, कानपुर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाएं अधिकारी

Published

on

लखनऊ। यूपी में कोरोना के मामलों को देखते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ ने सोमवार को अपने सरकारी आवास पर एक उच्चस्तरीय बैठक करते हुए अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा की। उन्होंने लखनऊ , कानपुर नगर और मेरठ में कोविड-19 के सम्बन्ध में विशेष रणनीति बनाकर कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए हैं।

उन्होंने कहा कि टेस्टिंग और सर्विलांस जितना सुदृढ़ होगा, कोरोना के प्रसार को रोकने में उतनी ही अधिक सफलता मिलेगी। योगी ने मुख्य सचिव को निर्देश दिए कि माइक्रो कन्टेनमेन्ट जोन, टेस्टिंग और सर्विलांस के सम्बन्ध में निरन्तर फीडबैक लेते हुए उचित कार्रवाई करें। कोविड की रोकथाम के लिए लखनऊ , कानपुर नगर व मेरठ के लिए विशेष रणनीति बनाई जानी चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दर को नियंत्रित करने में सफलता मिली है। पिछले एक सप्ताह में सक्रिय कोरोना के मामलों की संख्या में काफी कमी आई है, यह एक अच्छा संकेत है और ये दर्शाता है कि राज्य सरकार की कोविड-19 के प्रति अपनाई गई रणनीति कारगर रही है। कोविड-19 नियंत्रण सम्बन्धी कार्य सक्रियता के साथ निरन्तर जारी रखें जाएं। उन्होंने फोकस्ड टेस्टिंग किए जाने पर बल देते हुए कहा कि कोविड बेड्स की संख्या में बढ़ोतरी सुनिश्चित की जाए।

Continue Reading

Trending