Connect with us

प्रादेशिक

एक सीएम जो सरकारी फाइलों पर हस्ताक्षर नहीं कर रहे हैं जनिए क्यों ?

Published

on

अग्नाशय कैंसर से पीड़ित गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर इस समय अमेरिका के एक अस्पताल में उपचाराधीन हैं और वह संक्रमण के खतरों के कारण सरकारी फाइलों पर हस्ताक्षर नहीं कर सकते हैं।

यह बात सूचना का अधिकार (आरटीआई) के तहत मांगी गई जानकारी के आधार पर आरटीआई दाखिलकर्ता ने बताई। शहर के कारोबारी केनेथ सिल्विरा ने आरटीआई के जरिए 28 फरवरी को पर्रिकर द्वारा हस्ताक्षरित ज्ञापन प्राप्त किया है। उन्होंने गोवा पुलिस की अपराध शाखा के पास एक शिकायत दर्ज की है जिसमें उन्होंने सरकारी पत्राचार पर पर्रिकर के बदले गोवा के मुख्यमंत्री कार्यालय में सचिव के हस्ताक्षर व टिप्पणी होने का दावा करते हुए इसे अवैध बताया है। उन्होंने मामले की जांच करने की मांग की है।

28 फरवरी का यह ज्ञापन शनिवार को एक प्रेसवार्ता के दौरान मीडिया को जारी किया गया जिसमें पर्रिकर ने कहा, मुझे चिकित्सकों ने अभी फाइल छूने से मना किया है क्योंकि इससे संक्रमण होने की संभावना है।

उन्होंने कहा, इसलिए मैं मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव और उनकी अनुपस्थिति में मुख्यमंत्री के सचिव को मेरे फैसले/निर्देश फाइलों/टिप्पणियों पर रिकॉर्ड करने और उनके हस्ताक्षर के साथ आगे के आदेश तक निपटान करने के लिए अधिकृत करता हूं।

सिल्विरा को पिछले महीने मुख्यमंत्री के निधन का संकेत देते हुए एक फेसबुक पोस्ट अपलोड करने के लिए गिरफ्तार कर लिया गया था। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा अधिकृत प्रतिनिधि के माध्यम से सरकरी फाइलों को अग्रसारित करना अवैध है। खासतौर से तब जब मुख्यमंत्री पद संभालने से असमर्थ हैं।

इनपुट आईएएनएस 

प्रादेशिक

13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता का लखनऊ में हुआ शुभारम्भ

Published

on

लखनऊ। 13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता का शुभारम्भ सोमवार को बाबू के.डी.सिंह स्टेडियम के बहुउद्देशीय हाल में हुआ। इस प्रतियोगिता का उद्घाटन भारतीय कुंग फू फेडरेशन के अध्यक्ष डा. सुधीर.एम. बोबड़े और खेल निदेशक डा. आर.पी.सिंह  ने दीप प्रज्जवलित करके किया।

यह जानकारी भारतीय कुंग फू फेडरेशन की महासचिव मंजू त्रिपाठी ने देते हुए कहा कि आज से तीन दिवसीय राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता का शुभारम्भ शुरू हो गया। इस प्रतियोगिता में 18 राज्यों के 500 कुंग फू खिलाड़ी भाग लेंगे।

प्रतियोगिता के उद्घाटन के मौके पर भारतीय कुंग फू फेडरेशन के अध्यक्ष डा. सुधीर.एम. बोबड़े ने कहा कि आज इस खेल की समाज को आवश्यकता है, खास तौर से हमारी बहन-बेटियों को आत्मा रक्षा की इस कला को जरूर सीखना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस खेल का प्रशिक्षण अनिवार्य किया जाए। सरकार  सभी बच्चों को स्कूलों में अनिवार्य रूप से प्रशिक्षण दिलाए।

इस अवसर पर खेल निदेशक डा. आर.पी. सिंह ने कहा कि मार्शल आर्ट्स यानी कुंग फू खेल स्वस्थ भारत, समर्थ भारत और अनुशासित भारत तथा अनुशासित नागरिक तैयार कर सकता है।

आज अधिकतर युवा पीढ़ी खेलों से दूर होती जा रही है। खेलों के बजाय मोबाइल में लगकर अपना जीवन अंधकार में कर रहे है। महिला सशक्तिकरण के लिए ही यह खेल बहुत ही आवश्यक है। इस खेल के जरिए अपनी आत्मा रक्षा कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि इस खेल को हर नागरिक को सीखना चाहिए।

इस अवसर पर भारतीय कुंग फू संघ के उपाध्यक्ष डा. चंद्र सेन वर्मा, उपकार के अध्यक्ष कैप्टन विकास गुप्ता, उपनिदेशक शिक्षा कृष्ण कुमार गुप्ता, राजेंद्र कुमार, जे.पी. शुक्ला आदि गणमान्य व्यक्ति व भारी संख्या में जनता मौजूद थी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending