Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

ODOP Summit: मुझे आशा है कि इससे लोगों को रोजगार मिलेगा-राष्ट्रपति

Published

on

राष्ट्रपति

लखनऊ। लखनऊ के इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में (एक जनपद एक उत्पाद) ओडीओपी का आयोजन किया गया। ओडीओपी के पहले समिट में शिरकत करने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए उन्हे अंगवस्त्र और सहारनपुर काष्ठकला का उपहार भेंट किया। राष्ट्रपति ने समिट का उद्घाटन दीप प्रज्जवलन के साथ किया।

ओडीओपी समिट का उद्घाटन करने के बाद मंच पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने अपने संबोधन में कहा,” मुझे बताया गया है कि ‘एक जनपद एक उत्पाद’ योजना द्वारा पांच वर्षों में 25,000 करोड़ रुपए की वित्तीय सहायता के ज़रिए 25 लाख लोगों को रोजगार दिलाने का लक्ष्य है। मुझे आशा है कि इस योजना से युवाओं के लिए बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर मिलेंगे।”

भारत में M.S.M.E. उद्यमों को अर्थ-व्यवस्था का मेरुदंड कहा जाता है। ये उद्यम समावेशी विकास के इंजन हैं। कृषि क्षेत्र के बाद सबसे अधिक लोग इन्ही उद्यमों में रोजगार पाते हैं। देश के सर्वाधिक M.S.M.E. उद्यम उत्तर प्रदेश में हैं।

राष्ट्रपति ने आगे कहा कि देश के कुल हस्त-शिल्प निर्यात में उत्तर प्रदेश का योगदान 44 प्रतिशत है। उत्तर प्रदेश के विकास में M.S.M.E उद्यमों की महत्वपूर्ण भूमिका है। ‘ओ.डी.ओ.पी.’ योजना छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों तक M.S.M.E. उद्यमों के लिए सहायक परिस्थितियाँ पैदा करेगी।

इसके बाद रामनाथ कोविंद ने वहां मौजूद उत्पादों की प्रदर्शनी देखी। प्रदर्शनी देखने के बाद राष्ट्रपति ने ‘ओडीओपी कॉफी टेबल बुक’ का विमोचन के साथ ओडीओपी हेल्पलाइन नंबर और वेबसाइट का भी उद्घाटन किया। इसके बाद कोविंद ने 75 जिलों के सूक्ष्म उद्यमियों को टूल किट 40 हजार रुपए और प्रमाण पत्र वितरित किए। आपको बता दें कि ओडीओपी के तहत यूपी के 75 जिलों के छोटे उद्यमियों के लिए 1006 करोड़ लोन की सौगात दी गई है। राष्ट्रपति ने सभी उद्यमियों को बटन दबाकर ई प्रणाली के जरिए ऋण पत्र वितरित किए।

 

नेशनल

कोरोना की दवा 2DG हुई लॉन्च, स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर से भारत के कई राज्य बहुत अधिक प्रभावित हुए हैं। इस खतरनाक वायरस ने अब तक लाखों लोगों की जान ले ली है। इसके अलावा भारत में फैले कोरोना का यह वैरिएंट लोगों को तेजी से अपना शिकार बना रहा है। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए राज्य सरकारें वैक्सीनेशन और लॉकडाउन का सहारा ले रही हैं। इस बीच कोरोना से जंग में भारत को एक नया हथियार मिल गया है।

DRDO द्वारा डेवलेप की गई दवाई 2-DG अब अस्पतालों में उपलब्ध होगी, जो मरीजों को कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने में मदद करेगी। सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की मौजूदगी में इसे लॉन्च किया गया।

इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री की ओर से इस दवा को एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया को सौंपा गया। दवा को रिलीज किए जाने के मौके पर स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि डीआरडीओ के सहयोग और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की लीडरशिप में इस वैक्सीन को तैयार किया गया है। यह भारत की पहली पूर्ण स्वदेशी वैक्सीन हो सकती है, जो कोरोना संकट से निपटने में मदद करेगी।

यही नहीं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि इस वैक्सीन के जरिए कोरोना से रिकवरी का टाइम कम होगा। इसके अलावा ऑक्सीजन पर निर्भरता भी कम होगी।

Continue Reading

Trending