Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

सपा लखनऊ में लगवाएगी परशुराम की 108 फीट ऊंची मूर्ति, ब्राह्मणों को लुभाने के लिए चला दांव

Published

on

लखनऊ। समाजवादी पार्टी ने बीजेपी के वोट बैंक में सेंध लगाने के लिए ब्राह्मण कार्ड खेला है। समाजवादी पार्टी की ओर से उत्तर प्रदेश के हर जिले में भगवान परशुराम की प्रतिमा लगाई जाएगी। दरअसल कानपुर के गैंगस्टर विकास दुबे के एनकाउंटर के बाद ब्राह्मणों का एक तबका यूपी की योगी सरकार से नाराज है। इसको लेकर सोशल मीडिया पर भी ब्राह्मणों ने अपना विरोध दर्ज करवाया था। ऐसे में सपा ने ब्राह्मणों को लुभाने के लिए ये दांव चला है।

सूत्रों की मानें तो समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ कुछ ब्राह्मण नेताओं की बैठक हुई है। बैठक के बाद फैसला लिया गया कि हर जिले में भगवान परशुराम की प्रतिमा स्थापित की जाएगी। इसके लिए चंदा भी जुटाया जाएगा।

बैठक में कहा गया कि यूपी की लखनऊ में लगने वाली भगवान परशुराम की यह प्रतिमा यूपी में सबसे ऊंची होगी। इस मूर्ति की ऊंचाई 108 फीट की होगी। कहा जा रहा है कि पार्टी के कुछ ब्राह्मण नेता प्रतिमा लेने के लिए जयपुर पहुंचे हैं।

#parshuram #sp #samajwadiparty #uttarpradesh #brahman

नेशनल

आईएमए के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ केके अग्रवाल का कोरोना से निधन

Published

on

नई दिल्ली। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ केके अग्रवाल का सोमवार को कोरोना वायरस की वजह से निधन हो गया। दिल्ली के एम्स में उन्होंने अंतिम सांस ली।

62 वर्षीय केके अग्रवाल पिछले कई दिनों से एम्स में भर्ती थे। उन्हें एक सप्ताह से वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। 2010 में उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा दिल्ली में की और नागपुर विश्वविद्यालय से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की थी।

पिछले एक साल से, वह कोविड महामारी पर वीडियो पोस्ट कर रहे थे और बीमारी के विभिन्न पहलुओं और इसके प्रबंधन के बारे में बात कर रहे थे। उनके ट्विटर प्रोफाइल पर पोस्ट किए गए एक बयान में कहा गया, “महामारी के दौरान भी, उन्होंने जनता को शिक्षित करने के लिए निरंतर प्रयास किए। इस दौरान उन्होंने कई वीडियो और शैक्षिक कार्यक्रमों के माध्यम से 10 करोड़ लोगों तक पहुंचने में सक्षम थे और अनगिनत लोगों की जान बचाई। वह चाहते थे कि उनके जीवन का जश्न मनाया जाए और शोक न किया जाए।”

Continue Reading

Trending