Connect with us

प्रादेशिक

पुलिस के सामने ही दलित युवक को तलवार से काट डाला, ये थी वजह

Published

on

नई दिल्ली। गुजरात के अहमदाबाद में ऑनर किलिंग का एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। यहां वारमोर गांव में एक 25 साल के दलित युवक की उसके ऊंची जाति के ससुराल वालों ने पुलिस के सामने ही मौत के घाट उतार दिया। मृतक का नाम हरेश कुमार सोलंकी है। हरीश को उसकी पत्नी उर्मिला के घर के बाहर आठ लोगों ने तलवार लाठी-डंडो से पीटकर मार डाला।

पुलिस के मुताबिक घटना के वक्त वहां महिला हेल्पलाइन टीम भी मौजूद थी। फिलहाल हत्या में शामिल आठों आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। हत्या के मुख्य आरोपी उर्मिला के पिता दशरथसिन्ह जाला की तलाश कर रही है।

पुलिस के मुताबिक हत्या के पीछे की वजह प्रेम विवाह है। कच्छ के गांधीधाम के रहने वाले सोलंकी की शादी उर्मिला जाला से करीब छह महीने पहले हुई थी। लेकिन मई महीने में ही उसके माता-पिता उसे वारमोर वापस ले आए थे। पुलिस के अनुसार, उर्मिला अभी दो महीने की गर्भवती है और लापता है।

जब सोलंकी को पता चला कि उर्मिला गर्भवती है, तो उसने 181 अभयम टीम की मदद से ससुराल वालों को समझाने की कोशिश की। अभयम 181 हेल्पलाइन खासतौर पर मुश्किल में फंसी महिलाओं की मदद के लिए है। इसमें काउंसलर्स की टीम होती है। लेकिन सोलंकी के मामले में काउंसलर्स के साथ एक महिला कॉन्स्टेबल भी उसके ससुराल पहुंची थी।

पुलिस के अनुसार, जब काउंसलर उर्मिला के घरवालों को समझाने की कोशिश कर रही थी, उस वक्त सोलंकी घर के बाहर खड़ी एक सरकारी कार में बैठा था। सोलंकी के साथ जाने वाली काउंसलर भाविका ने पुलिस को बताया, ‘काउंसलिंग करीब 20 मिनट तक चली। सोलंकी कार की अगली सीट पर ड्राइवर के साथ बैठा था।

काउंसलिंग शाम करीब 7 बजे खत्म हुई। हम घर से बाहर निकल कर कार तक पहुंचे। उर्मिला के पिता दशरथसिन्ह भी वहां आठ लोगों के साथ पहुंच गए। उन लोगों ने सोलंकी को कार से बाहर खींचा और तलवारों, चाकूओं, डंडों और रॉड्स से उस पर वार करने लगे। उन्होंने अभयम की टीम पर भी हमला किया। हमने तुरंत पुलिस को कॉल किया।

पुलिस ने अपनी एफआईआर में दशरथसिन्ह जाला को मुख्य आरोपी बनाया है। अहमदाबाद रूरल के एससी/एसटी सेल के डिप्टी एसपी पीडी मानवर ने कहा, ‘हमने आरोपियों को पकड़ने के लिए अलग-अलग टीमें बनाई हैं। उन्हें जल्द से जल्द गिरफ्तार करने की पूरी कोशिश की जा रही है।’

नेशनल

बडगाम में आतंकियों ने भाजपा नेता को उतारा मौत के घाट

Published

on

जम्मू| जम्मू-कश्मीर में आतंकियों ने भाजपा नेता की गोली माकर हत्या कर दी। मृतक अब्दुल हमीद नाजर बडगाम जिले के ओमपोरा इलाके में भारतीय जनता पार्टी के अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) मोर्चा के जिलाध्यक्ष थे। अब्दुल हमीद नजर को आतंकवादियों ने रविवार की सुबह उनके घर के पास गोली मार दी थी। वह सुबह की सैर के लिए घर से निकले थे।

गोलियां लगने से गंभीर रूप से घायल हुए नजर को अस्पताल ले जाया गया जहां सोमवार सुबह उसकी मौत हो गई। इस घटना को लेकर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और जांच शुरू कर दी है।

आतंकी विशेष रूप से भाजपा नेताओं को निशाना बना रहे हैं। जून माह से अब तक चार भाजपा नेताओं पर हमले हो चुके हैं। 11 जुलाई को बांदीपोरा के पूर्व जिला अध्यक्ष वसीम बारी की उनके पिता और भाई समेत हत्या कर दी गई थी। इसके बाद 15 जुलाई को सोपोर में भाजपा नेता मेहराजुद्दीन मल्ला को अगवा किया गया था, हालांकि इन्हें दस घंटे में ही मुक्त करा लिया गया था। इसके बाद चार अगस्त को कुलगाम में पंच पीर आरिफ अहमद शाह को गोली मार दी गई थी,छह अगस्त को सज्जाद खांडे की हत्या कर दी गई।

Continue Reading

Trending