Connect with us

प्रादेशिक

आतंकी गेटअप में घूम रहे दो युवकों को पुलिस ने पकड़ा, निकले फिल्म कलाकार

Published

on

मुंबई। महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो आतंकवादी के छिपे होने की सूचना मिलने के बाद पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया, लेकिन बाद में जब उन्हें इसकी सच्चाई पता चली तो शर्मिंदगी उठानी पड़ी। दरअसल, दोनों युवक आतंकी नहीं बल्कि स्ट्रगलिंग एक्टर्स हैं। दोनों रोड पर आतंकियों जैसी पोशाक में घूम रहे थे जिससे लोगों को उनपर शक हुआ। इसके बाद उन्होंने पुलिस को इसकी जानकारी दी। पुलिस वालों ने बिना किसी जांच के दोनों युवकों को गिरफ्तार कर लिया।

दरअसल महाराष्ट्र के पालघर जिले में दो आतंकवादी के होने की सूचना ने पुलिस वालों को भी चौंका दिया। पुलिस ने आनन-फानन में पूरे जिले में आतंकवादी सर्च ऑपरेशन और अलर्ट जारी कर टेरिरिस्ट को धर पकड़ा। लेकिन बाद में जब आतंकवादी के तौर पर पकड़े गए लोगों की रियल पहचान सामने आई तो सब हैरान रह गए। क्योंकि वो आतंकवादी नहीं बल्कि किसी फिल्म की शूटिंग कर रहे कलाकार थे।

दोनों ही कलाकार की सामने आई जानकारी के मुताबिक, ये यशराज फिल्म की शूटिंग कर रहे थे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ये स्टार ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ की अपकमिंग फिल्म की शूटिंग कर रहे हैं। एक्टर की पहचान बलराम गिनवाला(23) और अरबाज खान(20) है। जानकारी को पुख्ता कर पुलिस ने उन्हें छोड़ दिया और शूटिंग सेट पर पहुंचा कर आए।

प्रादेशिक

यूपी में दारोगा के 5 हजार पदों पर बंपर भर्तियां, इस दिन जारी होगा नोटिफिकेशन

Published

on

लखनऊ। सरकार नौकरी का सपना संजोए युवाओं के लिए खुशखबरी है। उत्तर प्रदेश में दारोगा के 5 हजार से अधिक पदों के लिए अगले महीने से भर्ती प्रक्रिया शुरू होने जा रही है।

दारोगा के इन पदों के लिए पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड सितंबर के अंत में विज्ञापन निकालेगा जबकि नवंबर के अंत में या दिसंबर की शुरुआत में लिखित परीक्षा कराए जाने की संभावा है वहीं फरवरी 2020 में दौड़ कराने पर विचार किया जाएगा।

भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष राजकुमार विश्वकर्मा ने बताया कि भर्ती परीक्षा के लिए एजेंसी का चयन किया जा रहा है। टेंडर आमंत्रित किए गए हैं। एक माह में एजेंसी का चयन हो जाएगा।

आपको बता दें कि अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों के लिए पहली बार सोनभद्र में अलग से परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। लिखित परीक्षा पास करने वाले आदिवासी अभ्यर्थियों की दौड़ भी यहीं कराई जाएगी, ताकि वे अधिक से अधिक संख्या में भर्ती में शामिल हो सकें।

पिछली भर्ती में अनुसूचित जनजाति से एक भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला था। गौरतलब है कि सर्वाधिक आदिवासी इसी जिले में हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending