Connect with us

प्रादेशिक

मोदी सरकार के जूते बरसाने वाले नेता के बदले सुर, कही यह बड़ी बात…

Published

on

उत्तर प्रदेश के संतकबीर नगर जिले में बीजेपी सांसद और विधायक बुरी तरह आपस में भिड़ गए। संतकबीर नगर से बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी ने अपनी ही पार्टी के विधायक राकेश सिंह को जूते की बारिश शुरू कर दी। दोनों के बीच बुधवार शाम को सार्वजनिक रूप से मारपीट शुरू हो गयी। इस घटना का वीडियो देखते ही देखते ट्विटर पर नंबर वन ट्रेंड करने लगा।

दरअसल, सड़क निर्माण का श्रेय लेने के चक्कर में भाजपा सांसद और विधायक आपस में भिड़ गए और ऐसा भिड़े कि नौबत मारपीट तक आ गई जिसके बाद सांसद ने विधायक पर जूतों की बारिश कर दी। इस दौरान दोनों ने एक दूसरे के खिलाफ असंसदीय भाषा का इस्तेमाल किया और जमकर बवाल भी हुआ।

सूत्रों के मुताबिक कलेक्ट्रेट सभागार में जिला योजना समिति की बैठक चल रही थी, जहां जिला प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन भी मौजूद थे। इसी बीच संत कबीरनगर से भाजपा सांसद त्रिपाठी और मेंहदावल से भाजपा विधायक बघेल के बीच सडक निर्माण का श्रेय लेने को लेकर कहासुनी हो गयी। सूत्रों के अनुसार मामला कहासुनी तक ही सीमित नहीं रहा। दोनों आपस में भिड़ गये। एक ने दूसरे को मारने के लिए जूता निकाल लिया और फिर जूतों से मारपीट शुरू हो गई। प्रशासनिक एवं पुलिस अधिकारियों ने किसी तरह बीच बचाव कर मामला शांत कराया।

बीजेपी के सांसद और विधायक कि मारपीट का वीडियो वायरल होते ही होने के बाद भारतीय जनता पार्टी के सांसद शरद त्रिपाठी ने घटना पर खेद जताया। उन्होंने न्यूज एजेंसी ANI से कहा, ‘मुझे इस घटना पर खेद है और मैं बहुत शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूं। जो कुछ भी हुआ वह मेरे सामान्य व्यवहार के खिलाफ था। अगर मुझे राज्य प्रमुख द्वारा बुलाया जाता है तो मैं अपनी बात रख दूंगा।

नेशनल

योगी की सभा में खाली पड़ी रह गईं कुर्सियां, नहीं पहुंचे सुनने वाले

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश की एक चुनावी सभा से ऐसी तस्वीर सामने आई है, जिसने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और स्टार प्रचारकों में शुमार हेमा मालिनी की लोकप्रियता पर सवाल खड़े कर दिए हैं। मथुरा की विजय संकल्प सभा में योगी आदित्यनाथ और हेमा मालिनी के एक मंच पर मौजूद रहने के बावजूद भी सभा की अधिकतर कुर्सियां खाली पड़ी रही।

एक वरिष्ठ पत्रकार ने मथुरा की सभा का फ़ोटो को अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया है, जहां योगी आदित्यनाथ और हेमा मालिनी की मौजूदगी के बावजूद भी दर्शकों का अभाव रहा। बता दें कि मथुरा की सांसद और भाजपा की स्टार प्रचारक हेमा मालिनी ने सोमवार को लोकसभा चुनाव में मथुरा से अपना नामांकन पत्र भरा। इसके बाद इन दोनों नेता जनसभा को संबोधित करने गए थे।

योगी आदित्यनाथ ने चुनाव आयोग के आदेशों को दिखाया ठेंगा

सूबे के मुखिया योगी आदित्यनाथ ने हेमा के नामंकन के बाद मथुरा में विजय संकल्प रैली को संबोधित करते हुए दिखा दिया चुनाव आयोग को ठेंगा। दरअसल फिर से सत्ता पर काबिज होने की जद्दोजहद में माननीय मुख्यमंत्री यह भूल गए कि चुनाव आयोग ने पुलवामा, बालाकोट व सेना से जुड़े मुद्दों को मंच से उठाने व होर्डिंग इत्यादि लगवाकर राजनीत करने पर रोक लगा दी है लेकिन उसके बाद भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए व मौजूदा केंद्र में बैठी बीजेपी की मोदी सरकार की तारीफ में कसीदे पढ़ते हुए इन्ही मुद्दों को मंच से उछाला।

मौका था हेमा के नामांकन के तुरंत बाद भाजपा की विजय संकल्प रैली का इस बाबत जब माननीय मुख्यमंत्री से बात करने का प्रयास किया तब वह कैमरे पर आकर कुछ नही बोले व सभा समाप्ति के तुरंत बाद हेलीपैड को रवाना हो गए जहां पहुंच वह अपने अगले गंतव्य को निकल गए।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending