Connect with us

नेशनल

मोदी सरकार को घेरने के चक्कर में शरद यादव ने कर दी ऐसी चूक, बीजेपी तारीफ करते नहीं थक रही!

Published

on

नई दिल्ली। कोलकाता में शनिवार को ममता बनर्जी की अगुवाई में विपक्षी पार्टियों की संयुक्त भारत रैली हुई। इस रैली में 23 पार्टियों के नेताओं ने मोदी सरकार कई मुद्दों पर जमकर घेरा। रैली के दौरान जनता दल यूनाइटेड के पूर्व अध्यक्ष और शरद यादव ने कुछ ऐसा कह दिया कि भाजपा उनकी तारीफ करते नहीं थक रही।

दरअसल लोकतांत्रिक जनता दल के अध्यक्ष शरद यादव ने अपने संबोधन में गलती से राफेल की जगह बोफोर्स का जिक्र कर दिया।  इस मौके पर कांग्रेस के प्रतिनिधि के रूप में अभिषेक मनु सिंघवी और लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे भी मंच पर मौजूद थे।

शरद ने कहा कि ”बोफोर्स की लूट, फौज का हथियार और फौज का जहाज यहां लाने का काम हुआ। भारत के लोग सीमा पर शहादत दे रहे हैं और डकैती डालने का काम बोफोर्स में हुआ है, डकैती हो गई है।” उन्होंने बार-बार राफेल की जगह बोफोर्स शब्द का इस्तेमाल किया। गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के कार्यकाल में बोफोर्स घोटाले के आरोप लगे थे।

शरद यादव की इस गलती ने विपक्ष की किरकिरी होते देख तृणमूल के नेता डेरेक ओ ब्रायन ने शारद यादव के पास जाकर उनकी गलती बताई जिसके बाद गलती को सुधारते हुए कहा कि उनका मतलब राफेल से था।

शारद यादव के भाषण के बाद भाजपा ने ट्वीट करके चुटकी ली है। बीजेपी के ट्विटर हैंडल से लिखा गया कि बोफोर्स के बारे में हिम्मत जुटाने के लिए थैंक्यू शरद जी। भाजपा ने वीडियो ट्वीट किया जिसमें लिखा था महागठबंधन के मंच पर नेताओं की जुबान से निकला सच।

नेशनल

पीएम मोदी ने दी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बधाई

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार सुबह भारत के 71वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर देशवासियों को हार्दिक बधाई दी। प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर देशवासियों को बधाई दी और बधाई संदेश में कहा, “सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की बहुत-बहुत बधाई। जय हिन्द!”

इससे पहले शनिवार को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने राष्ट्र को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं दी।

कोविंद ने गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर राष्ट्र को संबोधित करते हुए कहा, “गांधीजी के सत्य और अहिंसा के संदेश को आत्मसात करना हमारी दिनचर्या का हिस्सा होना चाहिए, जो हमारे समय में और ज्यादा आवश्यक हो गया है।”

वहीं, नायडू ने कहा, “आइए हम अपने संवैधानिक रूप से अनिवार्य मौलिक कर्तव्यों का निर्वहन करने और देश के विकास में सक्रिय भागीदारी निभाने वाले जिम्मेदार नागरिक होने का संकल्प लें।”

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending