Connect with us

नेशनल

अयोध्या मामले में कोर्ट ने उठाया ये बड़ा कदम, जानकर हैरान रह जाएंगे आप!

Published

on

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने लंबे समय से चल रहे राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद अयोध्या विवाद पर अहम कदम उठाया है। 10 जनवरी से शुरू हो रही सुनवाई के लिए कोर्ट ने संविधानिक पीठ का गठन किया है। इस पीठ की अध्यक्षता चीफ जस्टिस रंजन गोगोई करेंगे।

अतिरिक्त रजिस्ट्रार (लिस्टिंग) द्वारा मंगलवार को जारी सूची के अनुसार, पीठ में शामिल अन्य न्यायाधीशों में न्यायमूर्ति एस.ए. बोबडे, न्यायमूर्ति एन.वी. रमना, न्यायमूर्ति यू.यू. ललित और न्यायमूर्ति डी.वाई. चंद्रचूड़ हैं।

सर्वोच्च न्यायालय ने शुक्रवार को कहा था कि अयोध्या मामले में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के 2010 के आदेश को चुनौती देने वाली याचिकाओं की सुनवाई करने वाली पीठ सुनवाई पर भावी कदम के बारे में निर्णय लेगी।

जल्द सुनवाई के आवेदनों पर न्यायमूर्ति गोगोई और न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की एक पीठ ने कहा था कि सुनवाई को लेकर अगला आदेश 10 जनवरी को गठित की जाने वाली पीठ पारित करेगी।

इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने 2010 में अपने निर्णय में विवादित स्थल को तीन हिस्सों में राम लला, निर्मोही अखाड़ा और मुस्लिम मुद्दई में बांट दिया था। प्रधान न्यायाधीश ने पिछले सप्ताह कहा था कि लंबे समय से विवादित मामले को उचित पीठ के सामने लाया जाएगा।

नेशनल

जेपी नड्डा को बधाई देते हुए अमित शाह ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को सोमवार को नया अध्यक्ष मिल गया। जगत प्रकाश नड्डा निर्विरोध पार्टी के अध्यक्ष चुन लिए गए।

इसके साथ ही दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में स्वागत समारोह चल रहा है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान इशारों में उन्होंने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी परिवारवाद से नहीं चलती है। अमित शाह ने कहा कि आज हम सबके लिए हर्ष, आनंद और गौरव का विषय है कि बीजेपी ने एक बार फिर अपनी परंपरा का नेतृत्व करते हुए एक सामान्य कार्यकर्ता के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाले जेपी नड्डा को हमारा राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्विरोध चुना।

उन्होंने कहा कि बीजेपी देश की सभी पार्टियों से इसलिए अलग पार्टी दिखाई पड़ती है, क्योंकि ये पार्टी न तो जात-पात के आधार पर चलती है और न ही वंशवाद के आधार पर चलती है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending