Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

जहां से बच्चों को निकालना था मुश्किल, अब वहां रखी जाएंगी मूर्तियां, बनेगा संग्राहलय

Published

on

नई दिल्ली। थाईलैंड की जिस गुफा में 12 बच्चे और उनके फुटबॉल कोच दो हफ्ते से ज्यादा समय तक फंसे रहे थे, उसे अब संग्रहालय में तब्दील किया जाएगा।

बीबीसी की रिपोर्ट के मुताबिक, बचाव अधिकारियों ने कहा कि संग्रहालय में यह दिखाया जाएगा कि कैसे थाम लुआंग गुफा में यह अभियान चलाया गया। यह थाईलैंड में एक बड़ा आकर्षण का केंद्र होगा। कम से कम दो फिल्म कंपनियां इस बचाव अभियान पर फिल्म बनाने की भी तैयारी कर रही हैं।

बचाए गए सभी बच्चे और कोच अभी अस्पताल में हैं। एक वीडियो रिलीज किया गया, जिसमें दिखाया गया है कि बच्चे स्वस्थ हैं। लेकिन, उन्हें अभी एक सप्ताह और डॉक्टरों की निगरानी में रहना पड़ेगा।

थाई नैवी सील ने भी अभियान का फुटेज जारी किया है, जिसमें दिखाया गया है कि कैसे विशेषज्ञों ने वाइल्ड बोर फुटबॉल टीम के सदस्यों को मुश्किल अभियान के बाद गुफा से बाहर निकाला। राहत अभियान के प्रमुख और पूर्व गवर्नर नारोंगस्क ओसोटानकोर्न ने बताया, क्षेत्र को जीवंत संग्रहालय बनाया जाएगा, यह दिखाने के लिए कि कैसे अभियान चलाया गया।

उन्होंने कहा, एक इंटरैक्टिव डाटा बेस स्थापित किया जाएगा। यह थाईलैंड के लिए एक बड़ा आकर्षण का केंद्र बनेगा।बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री प्रयुथ चान-ओछा ने कहा है कि पर्यटकों की सुरक्षा के लिए गुफा के बाहर और अंदर एहतियाती उपाय किए जाएंगे।

अन्तर्राष्ट्रीय

म्यांमार में बड़ी प्राकृतिक आपदा, बारिश के बाद खदान धंसने से 113 मजदूरों की मौत

Published

on

यंगून| म्यांमार के कचिन राज्य में गुरुवार को एक हरिताश्म खनन क्षेत्र में भूस्खलन की चपेट में आने के बाद करीब 113 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य लोगों के लापता होने की सूचना है। लोगों ने बताया कि भारी बारिश के बाद कीचड़ का एक बड़ा सैलाब लहर की तरह आया जिसके नीचे पत्थर इकट्ठा कर रहे लोग दब गए| म्यांमार में दुनिया में सबसे अधिक जेड पत्थर या हरिताश्म यानी हरे रंग के कीमती रत्न पाए जाते हैं|

सूचना मंत्रालय के एक स्थानीय अधिकारी टार लिन माउंग ने कहा कि अभी तक हमने 100 से अधिक शव बरामद किए हैं। अभी और शव कीचड़ में फंसे हुए हैं। मृतकों की संख्या बढ़ने वाली है। इस इलाके में पिछले एक हफ्ते से भारी बारिश हो रही है जिससे बचाव कार्य में भी परेशानी पैदा हो रही है।

बता दें कि जेड की इन खदानों में पहले भी भूस्खलन से कई लोगों की मौत हो चुकी है। हादसे के प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उन्होंने लोगों को मलबे के एक ढेर पर देखा जो ढहने के कगार पर था। थोड़ी ही देर बाद पहाड़ी से पूरा मलबा भरभराकर नीचे आ गिरा। जिसकी चपेट में आने से सैकड़ों लोग मारे गए।

#myanmar #death #mine

Continue Reading

Trending