Connect with us

नेशनल

भारतीय लोकतंत्र का वह काला दिन जब आपके और आपके अधिकारों के साथ बदसलूकी हुई, जानिए इमरजेंसी से जुड़ी ये बातें

Published

on

इमरजेंसी का वह दौर कौन भूल सकता है जब पहली बार किसी सरकार ने खुद के नागरिकों के अधिकारों के साथ बदसलूकी की। एक लोकतांत्रिक देश में लोकतंत्र का खुलेआम माखौल उड़ाया गया। एक ऐसा स्याह वक़्त जब अंधेरे को जबरदस्ती देश की हकीकत बना दी गयी। उस दौर की वह महत्वपूर्ण बातें जो शायद आप नही जानते होंगे हम आपको बताने जा रहे हैं।

इंदिरा गांधी ने आख़िर क्यों लगाई Emergency? – इसकी असल वजह इलाहाबाद हाईकोर्ट का एक फै़सला बना। इसमें अदालत ने राज नारायण सिंह की याचिका पर सुनवाई करते हुए रायबरेली सीट से इंदिरा की जीत को निरस्त कर दिया था। इसके साथ ही 1972 के भारत-पाक युद्ध के बाद से लगातार गिरती अर्थव्यस्था, बेरोज़गारी, महंगाई, भ्रष्टाचार और बिहार में हुए छात्र आंदोलन ने भी इंदिरा को असहज कर दिया था और आख़िर में उन्होंने राष्ट्रपति के साथ मिल कर ये कर डाला।

1990 और उसके बाद की पीढ़ी ने बस इसके बारे में सुना है, लेकिन इसे करीब से कभी महसूस नहीं किया। आज जब इमेर्ज़ेंसी को लगे पूरे 43 साल हो गए हैं, तब इतिहास के उस काले अध्याय को याद करना ज़रूरी है, ताकि आज की पीढ़ी को भी ये एहसास हो सके कि आज़ादी के मायने क्या हैं।

मारे गए लाखों लोग – लाखों बेगुनाह लोग मारे गए जिनमें से कई के बारे में पता भी नहीं चला।

संजय गांधी – इंदिरा के छोटे बेटे संजय गांधी ने अपनी ख़ुद की राजनीति चमकाने के लिए इसे एक अवसर की तरह इस्तेमाल किया। बिना किसी सरकारी पद के उन्होंने नौकरशाहों और नागरिकों पर अपने हुक्म चलाने शुरू कर दिए। जबरन नसबंदी और स्लम एरियाज़ में बुलडोज़र चलाना इसके कुछ उदाहरण हैं।

साभार – internet

कानून – इंदिरा गांधी ने भारतीय कानून को अपने हिसाब से बदलना शुरू कर दिया ताकि वो अपनी मनमानी जारी रख सकें।

ऑल इंडिया रेडियो – ऑल इंडिया रेडियो पर 25 जून 1975 के इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल लगाने की घोषणा की थी। उस रात देश के कई लीडिंग अख़बारों के दफ्तरों की बिजली काट दी गई थी। इसी कारण देश के बहुत से लोगों को इसकी ख़बर 27 जून को मिली।

चुनाव – इस दौरान सभी तरह के चुनावों पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

साभार – internet

जेपी का आंदोलन – जयप्रकाश नारायण ने इंदिरा की इस मनमानी के ख़िलाफ देशव्यापी आंदोलन की घोषणा की। नारायण ने पत्र लिखकर इंदिरा के विरोध में सत्याग्रह करने का संदेश भेजा। उस दौर में उनके द्वारा दिया गया नारा, ‘सिंहासन खाली करो की जनता आती है’, ख़ूब प्रचलित हुआ।

नेताओं को जेल में ठूंस दिया गया – आपातकाल के दौरान जबरन देश की विपक्षी पार्टियों के नेताओं को जेल में कैद कर दिया गया। मजबूरन कई लीडर्स को अंडरग्राउंड होना पड़ा. रेलवे यूनियन के नेता जॉर्ज फर्नांडिस को भी गिरफ़्तार कर लिया गया।

मीडिया पर सेंसरशिप – देश में मीडिया पर सेंसरशिप थोपी गई, जो भी अख़बार आपातकाल के विरोध में लिखते, उन्हें तरह-तरह की यातनाएं दी गईं। विदेशी मीडिया और उनके पत्रकारों को देश से जाने के लिए बाध्य कर दिया गया। इमरजेंसी के विरोध में इंडियन एक्सप्रेस के संस्थापक और संपादक रामनाथ गोयनका ने अपने संपादकीय कॉलम को कोरा प्रकाशित किया था।

लोगों के मरनोरंजन पर लगा अंकुश – दूरदर्शन पर देव आनंद की फ़िल्मों को रोक दिया गया और एक कार्यक्रम में किशोर कुमार द्वारा शामिल होने से मना करने पर उनके गाने रेडियो पर बैन कर दिए गए।

आध्यात्म

राम मंदिर भूमि पूजन के मुहूर्त को अब 48 घंटे बाकी, घट सकते हैं मेहमान

Published

on

By

अयोध्या में राम मंदिर बनने में अब घंटे दर घंटे कम हो रहे हैं। पांच अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अयोध्या पहुंचकर भूमि पूजन करेंगे।

अयोध्या होगी सील, 4 अगस्त से नहीं मिलेगा प्रवेश

 

इस मौके के लिए अयोध्या की गली-गली को सजाया जा रहा है। लेकिन अब जब भूमि पूजन के मुहूर्त को 48 घंटे का वक्त बचा है तब इस भव्य कार्यक्रम में कौन-कौन शामिल होने जा रहा है ये साफ नहीं हो पाया है।

कोरोना वायरस संकट को देखते हुए मेहमानों को कम किया जा सकता है। लेकिन इन कम मेहमानों में भी कौन आएगा ये पता नहीं चल पाया है।

#rammandir #ayodhya #devdipawali #rama #lordrama

Continue Reading

Trending