Connect with us

प्रादेशिक

उप्र : अपने चहेते को मुख्य सचिव बनवाने में जुटे योग गुरु बाबा रामदेव!

Published

on

उत्तर प्रदेश का मुख्य सचिव, आलोक रंजन, योग गुरु बाबा रामदेव, दीपक सिंघल
उत्तर प्रदेश का मुख्य सचिव, आलोक रंजन, योग गुरु बाबा रामदेव, दीपक सिंघल

baba ramdev

लखनऊ| उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव आलोक रंजन 30 जून को सेवानिवृत्त हो रहे हैं। उन्हें सेवा विस्तार नहीं दिया गया है, जिसे देखते हुए इसकी अटकलें तेज हो गई हैं कि राज्य का अगला मुख्य सचिव कौन होगा? उक्त पद पर नियुक्ति के इच्छुक कुछ अधिकारियों ने लॉबिंग भी शुरू कर दी है।

सूत्र बताते हैं कि योग गुरु बाबा रामदेव भी अपने चहेते अधिकारी को मुख्य सचिव बनवाने के लिए जोर लगाए हुए हैं। सूत्रों के अनुसार, आलोक रंजन खुद भी अब अपने सेवा विस्तार के पक्ष में नही हैं। राज्य सरकार की ओर से केंद्र को इस आशय का कोई पत्र भी नहीं भेजा गया है। इसलिए नए मुख्य सचिव को लेकर जोड़तोड़ शुरू हो गई है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, “मुझे नहीं लगता की चुनावी वर्ष में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव नए मुख्य सचिव की नियुक्ति मामले में कोई जल्दबाजी करेंगे। वह इस महीने के अंत में परिवार के साथ बाहर जा रहे हैं और जुलाई के पहले सप्ताह में लौटेंगे। इसके बाद ही अगले मुख्य सचिव के नाम पर विचार हो सकता है।”

इस बीच नए मुख्य सचिव बनने की होड़ में वरिष्ठ आईएएस (भारतीय प्रशासनिक सेवा) अधिकारी संजय अग्रवाल, संजीव सरन, दीपक सिंघल व अनिल कुमार गुप्ता के शामिल होने की बात सामने आ रही है। कहा जाता है कि इन सभी वरिष्ठ आईएएस अधिकारियों ने अपनी तरफ से जोडतोड़ भी शुरू कर दी है।

सूत्रों का दावा है कि दीपक सिंघल के लिए तो योग गुरु बाबा रामदेव ने भी अपनी ओर से पैरवी की है। उन्होंने कई कद्दावर लोगों से सिंघल को अगला मुख्य सचिव बनाए जाने की गुजारिश की है।

शासन से जुड़े सूत्र बताते हैं कि आलोक रंजन के सेवानिवृत्त होने के बाद फौरी तौर पर उप्र के कृषि उत्पादन आयुक्त (एपीसी) प्रवीर कुमार को मुख्य सचिव का अतिरिक्त कार्यभार सौंपा जा सकता है और विदेश से लौटने के बाद ही मुख्यमंत्री नए मुख्य सचिव के नाम पर मुहर लगाएंगे।

प्रादेशिक

लखनऊ की दिव्यांशी ने CBSE की 12वीं की परीक्षा में रचा इतिहास, हासिल किए 600 में 600 अंक

Published

on

लखनऊ। लखनऊ के नवयुग रेडियंस कॉलेज की छात्रा दिव्यांशी जैन ने 12वीं की परीक्षा में 100% अंक हासिल कर इतिहास रच दिया है। दिव्यांशी ने 600 में 600 अंक हासिल किए हैं। दिव्यांशी जैन हिस्ट्री, ज्योग्राफी, इकोनॉमिक्स, इंश्योरेंस, संस्कृत और इंग्लिश विषयों से 12वीं की पढ़ाई कर रही थीं। इस साल की परीक्षा में उनके सभी विषयों में 100 फीसदी मार्क्स आए हैं।

दिव्यांशी ने कहा कि उसने कभी कोचिंग नही ली और सिर्फ स्कूल में पढ़ाए गए पाठ को रटने के बजाय समझ कर कंठस्थ करने का प्रयास किया। उसने शॉर्ट नोट्स बनाए, लेकिन कभी गाइड का सहारा नहीं लिया, बल्कि एनसीईआरटी की किताबो से ही पढ़ा। दिव्यांशी के पिता राजेश जैन स्टेशनरी का व्यवसाय करते हैं। वहीं मां सीमा जैन गृहणी हैं। उनकी बड़ी बहन श्रेयांशी जैन स्नातक में पढ़ती हैं। उनके पिता राजेश प्रकाश जैन ने कहा कि हमें बेटी पर गर्व है। उसने अपनी मेहनत से हमारा सपना पूरा कर दिया है।

दिव्यांशी को यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने बधाई दी है। ट्विटर पर अखिलेश ने लिखा है कि ‘सीबीएसई बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में शत प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाली लखनऊ की छात्रा दिव्यांशी जैन को बहुत-बहुत बधाई एवं उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’

यह है दिव्यांशी की रिपोर्ट कार्ड
अंग्रेजी 100
संस्कृत 100
भूगोल 100
अर्थशास्त्र 100
इंश्योरेंस 100
इतिहास 100

#lucknow #divynashijain #12th result #cbse

Continue Reading

Trending