Connect with us

प्रादेशिक

महिला ने प्रेमी के लिए करा दी सीधे सादे शिक्षक पति की हत्या, जीती थी लग्जीरियस लाइफ

Published

on

बरेली। यूपी के बरेली में एक महिला ने अपने प्रेमी के लिए शिक्षक पति की हत्या करा दी। महिला ने इसके लिए भाड़े के हत्यारों को पांच लाख रु दिए थे। पुलिस ने हत्यारों को गिरफ्तार किया तो मामले का खुलासा हुआ। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर फिरोजाबाद में थाना क्षेत्र नारखी में एक गांव से गन्ने के खेत से अवधेश का शव बरामद किया है।

जिला फिरोजाबाद के थाना नारखी क्षेत्र के गांव खेरिया निवासी अवधेश सिंह थाना शीशगढ़ के गांव सहोड़ा के कुंवर ढांकन लाल इंटर कॉलेज में टीचर थे। 12 अक्टूबर की शाम को अवधेश ने अपनी मां अन्नपूर्णा से फोन पर अपनी जान का खतरा बताया था। इसके बाद से शिक्षक का मोबाइल बंद हो गया। मां ने कई बार बेटे को मोबाइल पर फोन किया लेकिन फोन लगातार स्विच आफ बता रहा था। इसके बाद जब वो बेटे के घर पहुंची तो वहां ताला लगा हुआ था। किसी अनहोनी की आशंका में उन्होंने पुलिस में बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई।

अपर पुलिस अधीक्षक (नगर) मुकेश चंद्र मिश्रा ने बताया कि बरेली के एक इंटर कॉलेज में प्राध्यापक के पर पर तैनात अवधेश की गुमशुदगी की रिपोर्ट पिछली 16 अक्टूबर को दर्ज कराई गई थी। वह मूल रूप से फिरोजाबाद के नारखी क्षेत्र भीतरी गांव के रहने वाले थे।

मिश्रा ने बताया कि फिरोजाबाद पुलिस ने चोरी के मामले में एक हिस्ट्रीशीटर शेर सिंह को गिरफ्तार किया है। पूछताछ में उसने बताया कि अवधेश की पत्नी विनीता ने उसकी हत्या के लिए उसे पांच लाख रुपये दिए थे। सिंह के मुताबिक वह अवधेश की हत्या कर शव को अपने साथियों पप्पू, भोला, अंकित और प्रदीप की मदद से गाड़ी से बरेली से फिरोजाबाद लाया और उसे जलाकर खेत में बने गड्ढे में दबा दिया। फिलहाल आरोपियों की तलाश में पुलिस टीमें लगी हुई हैं। आगरा में महिला के कथित प्रेमी से भी पूछताछ की जाएगी। उसे ट्रेस किया जा रहा है।

प्रादेशिक

गोरखपुर में सीएम योगी : कोविड-19 को लेकर कही ये बात

Published

on

By

गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद संस्थापक सप्ताह समारोह के उद्घाटन के मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोई व्यक्ति अचानक बड़ा नहीं होता इसके लिए प्रयास करना ज़रूरी है।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज़ आज से शुरू

सीएम ने कहा कि मैं रात में जनरल बिपिन रावत से चर्चा कर रहा था। मैंने कहा कि एक बात बताएं देश की सीमाओं की रक्षा करता हुआ हमारा एक सैनिक जब उन दुरूह क्षेत्रों में देश की रक्षा कैसे कर पाता है। ऐसी जगहों पर एक से दो दिन, चार दिन व्यक्ति गया और मौज-मस्ती कर वापस आ गया। लेकिन जवान दुरूह पस्थितियों में निरंतर दिन-रात देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए कैसे संभव हो पाता है।

इस पर जनरल बिपिन ने उत्‍तर दिया कि यह आसान कार्य है। सैनिकों को उन पहाड़ों पर नई ऊर्जा मिलती है।सीएम ने कहा कि हमको इस बात का ध्यान रखना होगा कि कोविड-19 हमारे सामने चुनौती जरूर प्रस्तुत किया। लेकिन आपदा में हमने नई कार्यपद्धि‍त को विकसित किया। इससे जीवन आसान हो गया।

Continue Reading

Trending