Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

प्रादेशिक

सुशांत सिंह राजपूत की बहन की बढ़ी मुश्किलें, SC ने याचिका रद्द करने से किया इनकार

Published

on

मुंबई। बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की बहन प्रियंका सिंह की मुश्किलें बढ़ती नजर आ रही हैं। दरअसल, आज यानी शुक्रवार को प्रियंका सिंह की ओर से दायर की गई याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद सर्वोच्च न्यायालय ने हाई कोर्ट के फैसले को पलटने से इनकार कर दिया।

बता दें कि प्रियंका सिंह ने रिया चक्रवर्ती द्वारा उनके खिलाफ दर्ज की गई याचिका को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। जिसपर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट इस मामले को सुन रहा है और एक याचिका को रद्द कर चुका है, ऐसे में हम इसमें दखल नहीं देना चाहते हैं।

मामले की सुनवाई के बाद रिया चक्रवर्ती के वकील की ओर से भी बयान जारी किया गया। जिसमें सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत किया गया।

प्रादेशिक

कोरोना से हुई मौत पर केजरीवाल सरकार परिवार को देगी 50000 मुआवजा

Published

on

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस की रफ्तार अब थोड़ी कम होती दिख रही है। राष्ट्रीय राजधानी में लंबे समय से कहर बरपा रहे इस वायरस की स्पीड पर ब्रेक लगता नजर आ रहा है।

ठीक होते हालात के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री पर मंगलवार को सीएम अरविंद केजरीवाल ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि इस संकट के वक्त में दिल्ली सरकार चार बड़े कदम उठाने जा रही है।

1-सीएम ने कहा कि जिनके पास राशन कार्ड है, पहले उनसे थोड़े पैसे लिए जाते थे, लेकिन अब उनसे पैसा नहीं लिया जाएगा। हर कार्डधारी को 10 किलो मुफ्त राशन मिलेगा। इसके अलावा जिनके पास राशन कार्ड नहीं है, अगर वो बताएंगे कि उन्हें राशन की जरूरत है तो उन्हें भी राशन मुफ्त दिया जाएगा।

2- सीएम ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जारी इस जंग में कुछ परिवार बेहद मुश्किल हालातों का सामना कर रहे हैं। प्रत्येक परिवार को जिसमें किसी की मौत कोरोना के कारण हुई है, अनुग्रह राशि के रूप में 50,000 रुपये दिए जाएंगे।

3- जिस परिवार में कमाने वाले व्यक्ति की कोरोना से मौत हुई उस परिवार को ₹50000 मुआवजे के साथ-साथ 2500 रुपये महीना पेंशन दी जाएगी।

4- ऐसे बच्चे जिनके दोनों मां बाप की मौत हो गई है उनके बच्चों को 25 साल उम्र तक हर महीने 2500 रुपये मिलेंगे। इसके अलावा शिक्षा का सारा खर्च दिल्ली सरकार उठाएगी।

Continue Reading

Trending