Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

जम्मू-कश्मीर : 6 महीने से लगा था राज्यपाल शासन, 22 सालों बाद लागू हुआ राष्ट्रपति शासन

Published

on

19 दिसंबर को जम्मू-कश्मीर में राज्यपाल शासन के छह महीने पूरे हो जाने के बाद अब राष्ट्रपति शासन लागू हो गया है। देर रात इस बात का एलान किया गया।

अधिकारियों ने कहा कि ‘जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक के राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की सिफारिश वाली रिपोर्ट केंद्र सरकार को भेजने के बाद ये फैसला किया गया।’

आपको बता दें, जम्मू-कश्मीर में 22 साल बाद राष्ट्रपति शासन लागू हो रहा है। इससे पहले साल जम्मू-कश्मीर में राष्ट्रपति शासन 1990 से अक्टूबर 1996 तक रहा था।

जानकारी के मुताबिक – विधानसभा में 25 सदस्यों वाली बीजेपी द्वारा समर्थन वापसी के बाद जून में महबूबा मुफ्ती सरकार अल्पमत में आने के बाद गिर गई थी। उसके बाद राज्य राजनीतिक संकट में फंस गया था। जिसके बाद राज्यपाल शासन लगा दिया गया था। जिसकी अवधि 19 दिसंबर को पूरी हो रही थी।

नेशनल

कोरोना की दवा 2DG हुई लॉन्च, स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दूसरी लहर से भारत के कई राज्य बहुत अधिक प्रभावित हुए हैं। इस खतरनाक वायरस ने अब तक लाखों लोगों की जान ले ली है। इसके अलावा भारत में फैले कोरोना का यह वैरिएंट लोगों को तेजी से अपना शिकार बना रहा है। संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए राज्य सरकारें वैक्सीनेशन और लॉकडाउन का सहारा ले रही हैं। इस बीच कोरोना से जंग में भारत को एक नया हथियार मिल गया है।

DRDO द्वारा डेवलेप की गई दवाई 2-DG अब अस्पतालों में उपलब्ध होगी, जो मरीजों को कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने में मदद करेगी। सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन की मौजूदगी में इसे लॉन्च किया गया।

इसके बाद स्वास्थ्य मंत्री की ओर से इस दवा को एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया को सौंपा गया। दवा को रिलीज किए जाने के मौके पर स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि डीआरडीओ के सहयोग और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की लीडरशिप में इस वैक्सीन को तैयार किया गया है। यह भारत की पहली पूर्ण स्वदेशी वैक्सीन हो सकती है, जो कोरोना संकट से निपटने में मदद करेगी।

यही नहीं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि इस वैक्सीन के जरिए कोरोना से रिकवरी का टाइम कम होगा। इसके अलावा ऑक्सीजन पर निर्भरता भी कम होगी।

Continue Reading

Trending