Connect with us

उत्तराखंड

भूलकर भी अकेले मत जाइए यहां … नरकंकालों से घिरी हुई अदभुत रूपकुंड झील

Published

on

उत्तराखंड के गढ़वाल हिमालयी क्षेत्र में आना वाला रहस्यों से भरा स्थल रूपकुंड चारधाम यात्रा मार्ग पर पड़ता है। इस स्थल पड़ने वाली झील को रहस्यों से भरा इसलिए भी माना जाता है क्योंकि यहां चारोओर पाए जाने वाले रहस्यमयी प्राचीन विशाल नरकंकाल, अस्थियां, कपड़े, गहने और बर्तन सभी का ध्यान अपनी ओर खींचते हैं।

उत्तराखंड पर्यटन विभाग भी रूपकुंड की ओर यात्रियों का ध्यान आकर्षित करने के लिए अपने ट्विटर एकाउंट पर काफी सक्रिय है। चारधाम यात्रा पर निकले श्रद्धालुओं को इस झील के दर्शन करने की सलाह देते हुए पर्यटन विभाग अक्सर रोचक ट्विट भी करता रहता है।

रूपकुंड झील त्रिशूल पर्वत पर करीब 24000 फीट पर स्थित है। यह झील बागेश्वर से सटे चमोली जनपद में बेदनी बुग्याल के पास है। उत्तराखंड में हिमालय की अनेक चोटियों के बीच त्रिशूल की चोटियां हैं। भगवान शिव का त्रिशूल मानी जाने वाली त्रिशूल चोटी के नज़दीक ही रूपकुंड झील पड़ती है।

रूपकुंड झील के चारोओर पड़े हुए नरकंकाल। ( फोटो – गूगल ईमेज )

इस कुंड को लेकर कई लोगों का मानना है कि यहां भारी संस्था में बड़े-बड़े नर कंकाल खुलेआम पड़े रहते हैं ,जिन्हें देखकर डर भी लगता है। रात में यहां आने से लोग बचते हैं, यहां तक कि दिन में भी इस जगह पर अकेले आने में लोगों की सांसे फूलने लगती हैं।

रूपकुंड से जुड़ी पौराणिक कथा –

जब एक बार हिमालय पुत्री नंदादेवी भगवान शिव के साथ कैलाश मार्ग पर जा रही थी, तो एक स्थान पर उन्हें बहुत तेज़ प्यास लगी। नंदा-पार्वती के सूखे होंठों को देखकर शिव जल की तलाश में आस पास देखने लगे। अपने नज़दीक जल न मिलने पर शिव ने वहीं पर अपना त्रिशूल धरती पर मार दिया, इससे ज़मीन पर बड़ा जल कुंड बन गया और नंदादेवी ने उस जल को पीकर अपनी प्यास बुझाई थी।

#roopkund #uttarakhand #uttarakhandtourism #mysteriouslake

उत्तराखंड

रोहित शेखर तिवारी की हत्यारी पत्नी अपूर्वा को दिल्ली की अदालत ने दिया बड़ा झटका

Published

on

By

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित तिवारी की पिछले साल 16 अप्रैल को रोहित और अपूर्वा में मारपीट हुई। इस दौरान अपूर्वा ने रोहित को मौत के घाट उतार दिया था। इसके बाद अब दिल्ली की एक अदालत ने अपूर्वा शुक्ला को झटका देते हुए उनकी जमानत याचिका को खारिज कर दिया है।

शिवसेना में शामिल हुईं उर्मिला मातोंडकर, उद्धव ठाकरे भी रहे मौजूद

मंगलवार को अदालत ने कहा कि बेल मिलने पर आरोपी सबूतों को प्रभावित कर सकता है, ऐसे में याचिका खारिज की जाती है।अदालत ने अपने फैसले में कहा है कि बेल याचिका पर विचार करने से पहले आरोपी का स्टेटस देखना जरूरी है। याचिकाकर्ता मृतक की पत्नी रही हैं और परिवार से संबंधित है। ऐसे में अभी कई गवाहों से सवाल होने बाकी हैं, अगर बेल दी जाती है तो उन्हें प्रभावित किया जा सकता है।

अदालत ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक, अपूर्वा शुक्ला ही उस फ्लोर पर आखिरी व्यक्ति दिखी थीं जहां रोहित तिवारी की मौत हुई। ऐसे में उनपर शक अधिक होता है, इसलिए सबूतों से छेड़छाड़ की छूट नहीं दी जा सकती है।

Continue Reading

Trending