Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

प्रादेशिक

आरिफ मोहम्मद खान ने केरल के राज्यपाल के रूप में ली शपथ

Published

on

नई दिल्ली। राजीव गांधी की सरकार में केंद्रीय मंत्री रहे आरिफ मोहम्मद खान ने शुक्रवार को केरल के राज्यपाल के रूप में शपथ ली। शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन भी मौजूद रहे।

आरिफ मोहम्मद खान गुरुवार को तिरुवनंतपुरम पहुंचे थे। आपको बता दें कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा हाल ही में उन्हें केरल का राज्यपाल नियुक्त किया गया था।

राजनीतिक करियर

आरिफ मोहम्मद खान ने 1972-73 में अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के छात्र संघ चुनाव से अपने राजनीतिक करियर की शुरूआत की थी। 1972-73 में उन्हे एएमयू का अध्यक्ष चुना गया था।

हालांकि इससे पहले 1971-72 में वह विधानसभा चुनाव लड़ चुके थे जिसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। 1977 में वह फिर जनता पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़े और इस बार उत्तर प्रदेश विधानसभा के लिए चुन लिए गए और राज्य सरकार में मंत्री बने। लेकिन जल्द ही लखनऊ में हुए शिया-सुन्नी दंगों से आहत होकर मंत्रिपरिषद से इस्तीफा दे दिया।

आरिफ मोहम्मद खान तब महज 26 साल के थे। बाद में वो कांग्रेस पार्टी में शामिल हो गए और 1980 के लोकसभा चुनाव में जीतकर इंदिरा सरकार में उप मंत्री बने।

1984 में बहराइच से लोकसभा के लिए चुने गए और राजीव सरकार में कैबिनेट मंत्री बने, लेकिन 1986 में शाहबानो मामले में राजीव गांधी से मतभेद के बाद मंत्री पद से इस्तीफा देकर बाद में विश्वनाथ प्रताप सिंह के साथ कांग्रेस छोड़ दी।

1989 के लोकसभा चुनाव में जनता दल के टिकट से चुनाव जीतकर वो केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री व उर्जा मंत्री बने। बाद जनता दल छोड़कर उन्होंने बहुजन समाज पार्टी की सदस्यता ले ली।

1998 में बहराइच से लोकसभा का चुनाव लड़े, जीत गए। 2004 में आरिफ मोहम्मद खान फिर भाजपा में शामिल हो गए और कैसरगंज से लोकसभा का चुनाव लड़े लेकिन हार गए। 2007 में भाजपा के साथ सक्रिय राजनीति को भी अलविदा कह दिया।

प्रादेशिक

कोरोना की संभावित थर्ड वेव को देखते हुए विशेष सतर्कता बरतें अधिकारी: सीएम योगी

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज लोकभवन, लखनऊ में कोविड-19 के संबंध में गठित समितियों के अध्यक्षों के साथ बैठक की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री योगी ने कोविड के नए वैरिएंट ‘डेल्टा प्लस’ के संबंध में विशेष सतर्कता बरतने हेतु अधिकारियों को दिशा-निर्देश दिए। सीएम योगी ने कहा कि उत्तर प्रदेश की सीमा से लगे राज्यों में ‘डेल्टा प्लस’ वैरिएंट की पुष्टि को देखते हुए निकटस्थ जिलों से सैम्पल लेकर जीनोम सिक्वेंसिंग कराई जाए। जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए KGMU, लखनऊ में आवश्यक सुविधाएं यथाशीघ्र मुहैया कराई जाएं।

इस दौरान सीएम योगी को अवगत कराया गया कि प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन सुचारु रूप से संचालित है। जून माह में 01 करोड़ वैक्सीनेशन का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें 23 जून तक 97 लाख लोगों को टीका-कवर दिया जा चुका है। 06 जिले में 02 अंकों में कोविड मरीज मिले हैं। प्रदेश की टेस्ट पॉजिटिविटी दर लगातार एक फीसदी से कम बनी हुई है। विगत दिवस पॉजिटिविटी दर 0.08 फीसदी रही है।

मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि बीते 24 घंटे में 2.71 लाख से अधिक कोविड-19 के सैम्पल टेस्ट किए गए हैं। इसी अवधि में 20 जिलों में एक भी संक्रमित मरीज नहीं मिला है, जबकि 49 जिलों में इकाई की संख्या में संक्रमित पाए गए हैं। प्रदेश में अब तक 5.62 करोड़ से अधिक कोविड टेस्ट किए जा चुके हैं। अब तक उपचारित होकर स्वस्थ होने वालों को संख्या 16.79 लाख से अधिक हो गई है। सीएम योगी को अवगत कराया गया कि बीते 24 घंटों में 229 नए केस सामने आए हैं। वहीं, 308 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए हैं। वर्तमान में प्रदेश में कुल 3,552 संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है। प्रदेश में रिकवरी दर 98.5 फीसदी हो गई है।

सीएम योगी ने कहा कि देश के कई राज्यों में कोविड के नए वैरिएंट ‘डेल्टा प्लस’ संक्रमण के मरीज सामने आए हैं। इसे देखते हुए हमें विशेष सतर्कता बरतनी होगी। राज्य स्तरीय स्वास्थ्य विशेषज्ञ परामर्शदाता समिति से संवाद करते हुए आवश्यक रणनीति तय की जाए। जिलावार स्थिति का आकलन करते हुए पीडियाट्रिक विशेषज्ञ, नर्सिंग स्टाफ को लेकर पर्याप्त मानव संसाधन की व्यवस्था कराएं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श के अनुसार सभी जरूरी उपयोगी दवाओं की खरीद कर ली जाए। कोविड की संभावित थर्ड वेव को देखते हुए सभी जरूरी प्रयास यथाशीघ्र पूरे किए जाएं। PICU/NICU की स्थापना की प्रक्रिया तेज हो। बाइपैप मशीन, PICU, मोबाइल एक्स-रे मशीन सहित सभी जरूरी उपकरणों की उपलब्धता सुनिश्चित कराई जाए।

Continue Reading

Trending