Connect with us

प्रादेशिक

गाजियाबाद में दबंगों ने पत्रकार को मारी गोली, भतीजी से छेड़छाड़ का किया था विरोध

Published

on

गाजियाबाद। यूपी के गाजियाबाद में बेख़ौफ़ बदमाशों ने एक पत्रकार को गोली मार दी। पत्रकार का कसूर सिर्फ इतना था कि उन्होंने अपने भतीजी के साथ हुई छेड़खानी का विरोध किया था। बदमाशों को ये बात इतनी नागवार गुजरी कि उन्होंने मौक़ा पाकर अपनी बेटी के साथ जा रहे पत्रकार विक्रम जोशी को गोली मार दी। फिलहाल विक्रम को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां वह जिंदगी और मौत से जंग लड़ रहे हैं।

परिवार के सदस्यों का आरोप है कि 4-5 दिनों पहले जोशी की भतीजी के साथ कुछ लड़कों ने दुर्व्यवहार और छेड़खानी की थी। इस मामले में विजय नगर पुलिस थाने में केस दर्ज कराया गया था। हालांकि पुलिस ने किसी भी आरोपी लड़कों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की थी। जोशी के परिजनों का दावा है कि इन्हीं लड़कों में से किसी लड़के ने विक्रम जोशी को गोली मारी है। पूरी वारदात एक सीसीटीवी कैमरे में भी कैद हुई है।

सीसीटीवी फुटेज में नजर आ रहा है कि कुछ बदमाश पहले विक्रम जोशी से लड़ाई करते हैं। इस दौरान उनकी बेटी दौड़ कर सड़क के दूसरे किनारे पर जाती है। थोड़ी देर तक विक्रम इन बदमाशों का अकेले ही मुकाबला करते हैं लेकिन फिर अचानक बदमाश उन्हें काफी नजदीक से गोली मार देते हैं इसके बाद पत्रकार जमीन पर गिर जाते हैं। उनकी बेटी दौड़ कर उनके पास आती है तब तक सभी बदमाश वहां से भाग जाते हैं। फिलहाल पुलिस का कहना है कि इस मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

#ghaziabad #journalist #police

प्रादेशिक

हापुड़: कोर्ट ने पेश की नज़ीर, रेप के दोषी को महज 22 दिन की सुनवाई में दी सजा

Published

on

हापुड़। हापुड़ में 6 साल की बच्ची के साथ रेप और अपहरण के दोषी को 22 दिन में सजा सुनाकर कोर्ट ने नजीर पेश की है। कोर्ट ने दोषी को उम्रकैद की सजा सुनाने के साथ ही 2 लाख रु का जुर्मना भी लगाया है। पांच दिन पहले दो दुष्कर्मियों को फांसी की सजा सुनाने वाली जिला एवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश(पाक्सो) वीना नारायण ने यह निर्णय दिया है।

मामला हापुड़ के थाना गढ़मुक्तेश्वर क्षेत्र का है जहां एक शख्स ने छह साल के बच्ची का अपहरण कर उसके साथ रेप किया था। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को एनकाउंटर के बाद गिरफ्तार कर लिया था।

सोमवार को इस मुकदमे की सुनवाई करते हुए अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश/विशेष न्यायाधीश (पोक्सो अधिनियम) वीना नारायण ने दलपत सिंह को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई है।

पुलिस ने इस मामले में 31 अगस्त को आरोपी के खिलाफ अदालत में आरोप पत्र दाखिल किया। जिसके बाद सभी गवाहों के बयान दर्ज किए गए। सोमवार को अदालत ने महज 22 कार्य दिवस में सुनवाई पूरी कर एक नजीर पेश की है।

Continue Reading

Trending