Connect with us

प्रादेशिक

गिरिराज सिंह का विवादित बयान, दारुल उलूम को बताया आतंक की गंगोत्री

Published

on

लखनऊ। दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद भी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के नेताओं का विवादित बयानबाजी रुकने का नाम नहीं ले रही है।

मंगलवार को उत्तर प्रदेश के देवबंद पहुंचे केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने दारुल उलूम को आतंक की गंगोत्री कहा। इसके साथ ही मुस्लिम राष्ट्र बनाने की साजिश का इशारा किया। हालांकि, दिल्ली विधानसभा के चुनाव में महज 8 साटें पाने को उन्होंने चूक बताया।

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि वह नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ लड़ाई नहीं लड़ रहे हैं, बल्कि वह गजवा-ए-हिंद के लिए लड़ाई लड़ रहे हैं।

गजवा-ए-हिंद को भारत में लाकर मुस्लिम राष्ट्र बनाना चाहते हैं। हम उनका यह मकसद कामयाब नहीं होने देंगे। दिल्ली की हार पर गिरिराज ने कहा कि अगर चूक ना होती तो हम जीती बाजी हारते नहीं।

देवबंद के देवीकुंड में महाकालेश्वर ज्ञान मंदिर आश्रम के स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती से मिलने आए केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि यह नागरिकता कानून के विरोध में धरना नहीं कर रहे हैं।

यह देश में खिलाफत आंदोलन कर रहे हैं। शाहीन बाग में शरजील इमाम जैसा पढ़ा लिखा शख्स कह रहा है कि हम भारत से असम को काट देंगे, फिर हम इनको मजबूर करेंगे और इस्लाम स्टेट बनाएंगे।

 

प्रादेशिक

हरियाणा में कोरोना वायरस से पहली मौत, बुजुर्ग ने तोड़ा दम

Published

on

चंडीगढ़। हरियाणा में कोरोना वायरस की वजह से गुरूवार को एक बुजुर्ग ने दम  तोड़ दिया। राज्य में कोरोना वायरस के कारण हुई यह पहली मृत्यु है। कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गंवाने वाले 67 साल के यह बुजुर्ग अंबाला के निवासी थे।

चंडीगढ़ स्थित पीजीआई अस्पताल में उनका इलाज चल रहा था। 31 मार्च को उन्हें चंडीगढ़ पीजीआई में भर्ती करवाया गया था। मंगलवार शाम को उनका सैंपल लिया गया था।

बुधवार दोपहर उनकी रिपोर्ट आई जिसमें वह कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गवाने वाले यह बुजुर्ग टिंबर मार्केट अंबाला छावनी के निवासी व सिंडिकेट बैंक के रिटायर्ड कर्मचारी थे।

कोरोना वायरस से हुई 67 वर्षीय बुजुर्ग की मृत्यु के बाद अंबाला के टिंबर मार्केट इलाके को पूरी तरह से सैनिटाइज करने का काम किया जा रहा है। हरियाणा सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, अभी तक उनकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं आई है।

बताया जा रहा है कि वह दिल के मरीज थे। उनके परिवार में उनकी पत्नी, उनका बेटा और पुत्रवधू और एक पौत्री है। पुत्रवधू बैंक में कार्यरत हैं। स्वास्थ्य विभाग अब इन सभी परिजनों की जांच करवा रहा है साथ ही इन सभी लोगों को क्वॉरेंटाइन भी किया गया है।

अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक लॉक डाउन से पहले यह बुजुर्ग लगातार स्थानीय गुरुद्वारे जा रहे थे। अब गुरुद्वारे में उनके संपर्क में आए लोगों की जांच भी शुरू कर दी गई है। इतना ही नहीं गुरुद्वारा में सैनिटाइजेशन का काम भी शुरू कर किया गया है।

कोरोना वायरस के कारण अपनी जान गवाने वाले बुजुर्ग को 2017 में स्वाइन फ्लू भी हुआ था। इसके अलावा वह शुगर, ह्दय रोग और बीपी के मरीज भी थे। पीजीआई भर्ती करने से एक दिन पहले उन्हें अंबाला छावनी के लाइफ लाइन अस्पताल में भी एडमिट करवाया गया था।

इसके बाद 31 मार्च को उन्हें छावनी के नागरिक अस्पताल में फ्लू ओपीडी में ले जाया गया, जहां से उन्हें सीधे पीजीआई चंडीगढ़ भेज दिया गया। वहीं पर उन्होंने दम तोड़ा।

वहीं, केंद्रीय गुप्तचर एजेंसी इंटेलिजेंस ब्यूरो द्वारा इनपुट दिए जाने के बाद हरियाणा में तबलीगी जमात के मरकज से आए 500 से अधिक व्यक्तियों को क्वारंटीन किया गया है।

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में निजामुद्दीन क्षेत्र की असावधानी का उल्लेख करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, हमें पुलिस और इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) से इनपुट मिले हैं कि कुछ कोरोना पॉजिटिव लोगों ने मार्च के महीने में देश की राजधानी दिल्ली के निजामुद्दीन क्षेत्र में एक जमात में भाग लिया।

हरियाणा ने इस पर तुरंत कार्यवाही करते हुए दिल्ली के निजामुद्दीन से हरियाणा में आए 500 से अधिक लोगों को न्यूनतम 14 दिनों की अवधि के लिए क्वारंटीन में भेज दिया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending