Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखंड: कोतवाली के सिपाहियों पर बरपा डेंगू का कहर

Published

on

देश में इन दिनों वर्षा ऋतु अपनी छटा बिखेर रही है। कही बारिश मौसम के मिजाज़ को खुशनुमा बना रही है तो कही लोग बाढ़ के कहर से अपनी जान बचाए फिर रहे है। महाराष्ट्र और केरल जैसी जगहों पर लोग बारिश से त्राहिमाम बोल गए है। जन जीवन अस्त व्यस्त हो चुका है लोग दाने दाने को मोहताज हो गए है । हर साल की तरह ही बारिश के मौसम में इस साल भी एक और आफत ने जन्म ले लिया है जिससे पिड़ित ना जाने कितने लोगों को हर साल अपनी जान से हाथ धोना पड़ता है और इस आफत का नाम है डेंगू। वैसे तो सरकार की तरफ से इसके लिए कई तरह के कड़े कदम उठाने का दावा किया जाता है पर ज़मीनी स्तर पर ज़्यादातर दावे दम तोड़ते हुए ही नज़र आते है। डेंगू की ऐसी ही शिकायत अब सामने आई है उत्तराखंड की कोतवाली से जहां डेंगू की चपेट में वहीं के सिपाही आ गए है।

दरअसल, डालनवाला कोतवाली में अचानक डेंगू ने कहर बरपा दिया। कई दिनों से बुखार से पीड़ित छह सिपाहियों में डेंगू की पुष्टि हुई है। ये सभी सिपाही कोतवाली और इसके अंतर्गत तीन चौकियों से संबंधित हैं। यह स्थिति ज्यादा गंभीर न हो इसके लिए चौकियों और कोतवाली परिसर में दिन में दो बार फॉगिंग कराई गई है। आपको बता दें कि डालनवाला कोतवाली के अंतर्गत आराघर, करनपुर, हाथीबड़कला और नालापानी चौकी आती है। इनमें से हाथीबड़कला को छोड़कर बाकी तीनों चौकियों में तैनात छह सिपाही बीते कई दिनों से बुखार से पीड़ित थे। कोतवाल राजीव रौथाण ने बताया कि इन छह सिपाहियों में डेंगू की पुष्टि हुई है, इसके अलावा एक चौकी के प्रभारी भी काफी दिनों से बुखार से पीड़ित थे, हालांकि जांच रिपोर्ट में उनको टाइफाइड होना पाया गया है।

मंगलवार को सभी जगह पर फॉगिंग कराई गई है। इसके अलावा करनपुर सड़क के किनारे, डालनवाला कोतवाली के सामने और नालपानी चौकी के आसपास सफाई भी कराई गई है, जिससे वहां डेंगू का मच्छर और न पनप सके। इल मामले पर स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि मंगलवार को डेंगू के 14 नए मरीज सामने आए हैं जिसके बाद डेंगू के कुल मरीजों की संख्या 352 पहुंच गई है। हालांकि 12 मरीज जनपद से बाहर के हैं, जिनमें से देहरादून में कुछ का इलाज चला और कुछ भर्ती हैं इस तरह कुल मरीजों की संख्या 364 है।

उत्तराखंड

यूपी और उत्तराखंड के बीच लंबित मामलों का जल्द होगा निस्तारण

Published

on

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि उत्तराखण्ड व उत्तर प्रदेश के मध्य लम्बित मामलों का जल्द से जल्द निस्तारण किया जाए।

शनिवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय व अन्य अधिकारियों ने मुख्यमंत्री से शिष्टाचार मुलाकात की। मुख्यमंत्री  त्रिवेन्द्र ने कहा कि किसी विषय को जितना टाला जाता है, उतना ही जटिल हो जाता है।

पिछले दो वर्षों में दोनों राज्य सरकारों के प्रयासों से बहुत से मामलों पर सहमति बनी है। अनेक मामलों को निस्तारित किया गया है। अब कुछ मामले शेष रह गए हैं, इन्हें भी आपसी सहमति से हल कर लिया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव ने कहा कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी लम्बित मामलों के समयबद्ध निस्तारण पर बल दिया है। दोनों राज्यों के अधिकारियों के बीच सकारात्मक बातचीत हुई है। इस अवसर पर उत्तराखण्ड के मुख्य सचिव  उत्पल कुमार सिंह भी मौजूद थे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending