Connect with us

नेशनल

आतंक के रास्ते पर निकला छात्र घर वापस लौटा, माता-पिता हाथ जोड़कर कही थी ये बात!

Published

on

नई दिल्ली। पढ़ाई छोड़कर आतंकवाद के रास्ते पर निकल पड़ा कश्मीर का एक छात्र माता-पिता की भावुक अपील के बाद वापस घर लौट आया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक श्रीनगर के खानयार का रहने वाला एहतेशाम अक्टूबर में अचानक नोएडा की एक यूनिवर्सिटी से गायब हो गया था। इसके बाद सोशल मीडिया पर इस्लामिक स्टेट के कपड़ों में उसकी एक तस्वीर वायरल होने लगी थी।

एहतेशाम के इस्लामिक स्टेट में शामिल होने की खबर मिलने से पूरे परिवार में हड़कंप मच गया था। परिवार ने उसे लौटने के लिए राजी करने के लिए हर मुमकिन कोशिश की जिसमें स्थानीय पुलिस ने भी उनका भरपूर साथ दिया।

इसके बाद परिवार के सदस्यों की हाथ जोड़े हुए तस्वीरें स्थानीय अखबारों में छापी गई। जिसमें एहतेशाम से ‘कम से कम अपने माता-पिता के शव को कंधा देने के लिए घर लौटने’ की अपील की गई थी।

साथ ही उसके माता-पिता ने आतंकवादी संगठन से उनके बेटे को भेजने की भावुक अपील की थी। उन्होंने अपील में कहा था कि, ‘वह पूरे सोफी कबीले में उनका इकलौता बेटा है और उसे अपने परिवार के पास लौटने दिया जाए।’

अपील में उसके पिता बिलाल सोफी के हवाले से कहा गया, ‘मेरे बेटे, तुम कहते थे कि जन्नत अम्मी-अब्बू के पैरों में है, इसलिए आ जाओ और फिर से हमारे साथ रहो।’

इन अपीलों और पिछले दरवाजे से बातचीत के आखिरकार सकारात्मक नतीजे निकले और वह रविवार को अपने घर लौट आया। इसके तुरंत बाद पुलिस की एक टीम उसे मेडिकल जांच के लिए ले गई।

इस बीच एहतेशाम को पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने की खबरें भी आई, लेकिन एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने उन दावों को खारिज करते हुए कहा, ‘हम भी इंसान हैं। हम युवक के माता-पिता के साथ हैं। उसके खिलाफ कोई मामला दर्ज नहीं है और उसे केवल मेडिकल जांच के लिए ले जाया गया है। परिवार के सदस्य उसके साथ हैं।’

 

नेशनल

उन्नाव में गैंगरेप पीड़िता को पेट्रोल डालकर जलाया, हालत गंभीर

Published

on

उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार सुबह छह युवकों ने पेट्रोल डालकर जला दिया। पिता की सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर दिया गया। कानपुर के बाद अब पीड़िता को लखनऊ रेफर कर दिया गया है।

पीड़िता ने बयान दिया है कि गुरुवार सुबह चार बजे वह रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी। गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर शुभम, शिवम, उमेश ने घेर लिया और सिर पर डंडे से और गले पर चाकू से वार किया। वह चक्कर आने से गिरी तो पेट्रोल डालकर आग लगा दी। शोर मचाने पर भीड़ को आता देख वह भाग निकले।

पीड़िता ने बताया कि पूर्व में आरोपियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। उधर, घटना की जानकारी मिलने पर डीएम देवेंद्र पांडे, एसपी विक्रांत वीर समेत कई थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची। पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर दिया गया। इसके बाद उसे लखनऊ सीविल हॉस्पिटल भेजा गया है।

बताया जा रहा है कि हमलावरों में से तीन युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। उधर, घटना के बाद पूरे जिले में हड़कंप मचा गया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending