Connect with us

हेल्थ

बैरिएटिक सर्जरी : मोटापे से परेशान लोगों के लिए वरदान

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश  के करीब 125 लैप्रोस्कोपिक सर्जनों को बैरिएटिक सर्जरी का एक सजीव सत्र देखने का सुुअवसर प्राप्त हुआ आलमबाग स्थित अजंता हाॅस्पिटल में शनिवार को हुई एक कार्यशाला में।

अहमदाबाद से आए बैरिएटिक सर्जरी के पुरोधा डाॅ महेन्द्र नरवरिया और लखनऊ के बैरिएटिक सर्जन डाॅ राहुल सिंह ने वर्कशाॅप के दौरान मोटापे से ग्रसित चार मरीजों का आपरेशन किया।

इस मौके पर पत्रकारों से बातचीत में दोनों सर्जनों ने बताया कि कैसे आधुनिक बैरिएटिक सर्जरी डायबिटीज, उच्च रक्तचाप व कोलेस्ट्रोल और अधिक वजन से मरीज को जादुई फायदा दिलाती है। उन्होंने बताया कि पहले के जमाने में पीड़ित बैरिएटिक सर्जरी को लेकर उलझन में रहते थे कि कराएं या नहीं लेकिन अब जागरूकता और बेहतर परिणाम के चलते उन्हें बैरिएटिक सर्जरी पर पूरा विश्वास हो चला है अपनी परेशानी से पूरी तरह से छुटकारा पाने के लिए।

कार्यशाला में डाॅ राहुल सिंह ने बताया, ” अजंता हाॅस्पिटल में जितने भी मरीजों ने ये सर्जरी करवाई उन्हें जैसे एक नया जन्म मिला और उन्होंने अन्य पीड़ितों को भी इस चमत्कारिक सर्जरी के बारे में जागरूक किया। जिन डाॅक्टरों ने इस सत्र में भाग लिया उन्होंने सभी प्रमुख सर्जरी के बारे में न केवल बारीकी से समझा बल्कि संशोधित बैरिएटिक आॅपरेशन को भी करीब से जाना।”

इतना ही नहीं इस कार्यक्रम का लाइव ब्राॅडकास्ट भी किया गया उन डाॅक्टरों के लिए जो कि व्यस्तता के कारण इस वर्कशाॅप का हिस्सा नहीं बन सके। अजंता अस्पताल के प्रबंध निदेशक और लैप्रोस्कोपिक सर्जन अनिल खन्ना ने इस अवसर पर बताया कि गुजरे तीन साल में अब तक इस सर्जरी के माध्यम से हमारे हाॅस्पिटल में 73 पीड़ितों का सफल आॅपरेशन कर उनको नया जीवन प्रदान किया गया है।

उन्होंने बताया कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों और ईएसआई वर्ग के लिए तो अब इस सर्जरी के लिए अब कैशलेस सुविधा भी उपलब्ध है। उन्होंने आगे बताया कि लखनऊ में अब इस सर्जरी की सफलता को देखते हुए लोग मेट्रो शहरों की तरफ रूख नहीं करते क्योंकि ये आॅपरेशन राजधानी में कहीं सस्ता और सुलभ है।

मनोरंजन

इन टॉप सेलेब्रिटीज को है डायबिटीज, आखिरी वाली चली गई थी कोमा में

Published

on

यह तथ्य चिंताजनक है कि दुनिया में डायबिटीज (मधुमेह) से ग्रस्त सबसे ज्यादा मरीज भारत में हैं। डायबिटीज एक ऐसा रोग है, जिस पर अगर नियंत्रण न किया गया, तो यह कई रोगों और स्वास्थ्य समस्याओं को बुलावा दे देता है। मधुमेह या डायबिटीज (Diabetes) मेटाबोलिक बीमारियों का एक समूह है. यह एक क्रानिकल बीमारी (chronic disease) है जिसमें पैनक्रियाज जरूरी इंसुलिन बनाना बंद कर देते हैं। जिससे खून में ग्लूकोज या ब्लड शुगर (Blood sugar level) का स्तर सामान्य से अधिक हो जाता है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

डायबिटीज आनुवांशिक या उम्र बढ़ने पर या मोटापे के कारण या तनाव के कारण हो सकता है। डायबिटीज ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को काफी परहेज से रहना होता है। डायबिटीज आनुवांशिक या उम्र बढ़ने पर या मोटापे के कारण या तनाव के कारण हो सकता है। डायबिटीज ऐसा रोग है जिसमें व्यक्ति को काफी परहेज से रहना होता है। ये बीमारी सिर्फ आम आदमी को ही नहीं होती हैं। इस बीमारी से इंडिया के टॉप सेलेब्रिटीज भी ग्रसित हैं। आइए आज हम आपको उन सेलेब्रिटीज के बारे में बताते हैं, जो इस बीमारी से ग्रसित हैं –

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

कमल हसन – नेता और एक्टर कमल हसन टाइप 1 डायबिटीज़ से पीड़ित हैं। उन्होंने कभी इसे खुद पर हावी नहीं होने दिया और हमेशा कंट्रोल में रखा है। वे डायबिटीज़ के खिलाफ चलाए जाने वाले अभियान के ब्रांड एम्बेसडर भी हैं। कमल शराब और दूध से बानी चीज़ों का सेवन नहीं करते हैं। रोज़ एक्सरसाइज करते हैं ।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

सोनम कपूर – बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनम कपूर को 17 साल की उम्र से ही डायबिटीज़ है। वे बचपन में अपने शरीर का ख्याल नहीं रखती थी और उन्होंने अपना वज़न बहुत बढ़ा लिया था। तभी उन्होंने मालूम हुआ कि वे डायबिटीज़ से भी पीड़ित हैं। लेकिन सख्ती से डाइट करने और लगातार एक्सरसाइज से उन्होंने इसपर काबू पा लिया। अब उनकी डायबिटीज़ कन्ट्रोल में है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

फवाद खान – पाकिस्तानी एक्टर फवाद खान को 17 साल की उम्र में ही टाइप 1 डायबिटीज़ हो गई थी। वे शाकाहारी हैं और बहुत सख्ती से डाइट को फॉलो करते हैं। डायबिटीज़ कंट्रोल में है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

सलमा हायेक – हॉलीवुड एक्ट्रेस सलमा हायेक को गर्भावस्था के दौरान पता चला कि वे डायबिटिक हैं। यह हाई ब्लड शुगर होने के कारण हो जाता है। सलमा ने गर्भावस्था के दौरान ही सही दवाइयों और खानपान में बदलाव से इसपर काबू पा लिया।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

गौरव कपूर – वीजे गौरव कपूर को अपने आईपीएल के दौरान एंकरिंग करते देखा होगा। वे भी दो दशक से डायबिटीज़ से पीड़ित हैं। लेकिन उनकी सेहत पर इसका असर नहीं दिखता क्योकि वे अपने ब्लड शुगर लेवल हमेशा स्टेबल रखते हैं।योग को उन्होंने डायबिटीज़ से लड़ने का माध्यम बनाया है।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

सुधा चंद्रन – प्रसिद्ध नृत्यांगना और कलाकार सुधा चंद्रन को 16 की उम्र से ही डायबिटीज़ है। एक एक्सीडेंट के बाद उन्हें अपना एक पैर खोना पड़ा था। लाइफस्टाइल और खानपान में बदलाव से उन्होंने डायबिटीज़ को काबू में किया और अब वे स्वस्थ जीवन जी रही हैं।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

वसीम अकरम – पूर्व पाकिस्तानी स्विंग गेंदबाज़ वसीम अकरम भी 30 साल की उम्र से डायबिटीज़ से पीड़ित हैं। अकरम को जब पता चला कि उन्हें डायबिटीज़ है तो वे सदमे में थे क्योकि उन्हें लगा कि किसी खिलाडी को यह बीमारी कैसे हो सकती है। लेकिन अकरम ने इसपर काबू पाया और अपने खेल पर इसका असर बिलकुल नहीं पड़ने दिया।

IMAGE COPYRIGHT: GOOGLE

हैले बेरी – हॉलीवुड एक्ट्रेस हैले बेरी की डायबिटीज़ इतनी ख़राब थी कि वे डायबिटिक कोमा में चली गई थी। सात दिन बाद होश आने के बाद उन्होंने योग को अपनाया और उसी से अपना स्वस्थ्य बेहतर बनाया। अब उनकी डायबिटीज़ कंट्रोल में है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending