Connect with us

खेल-कूद

युवाओं को दीवाना बनाएंगी 100 बाल क्रिकेट पर सौरभ गांगुली ने क्यों कहा, सावधान

Published

on

युवा क्रिकेट की तरफ आकर्षित नहीं है इसलिए 100 बॉल क्रिकेट बेहद जरूरी हो गया है। ऐसा मानना है इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के चैयरमेन कोलिन ग्रेवस का। वहीं दूसरी तरफ भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा कि ईसीबी से प्रस्तावित 100-बाल क्रिकेट टूर्नामेंट से सावधान रहने की जरूरत है।

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के चैयरमेन कोलिन ग्रेवस

इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) के चैयरमेन कोलिन ग्रेवस का मानना है कि युवा क्रिकेट के प्रति आकर्षित नहीं है इसलिए 100 बाल क्रिकेट का विचार लाया गया है।

बीबीसी ने कोलिन ग्रेवस के हवाले से लिखा है, “आप माने या न माने, लेकिन हमने जो सर्वे किए हैं और जो शोध की है उससे पता चला है कि युवा सिर्फ क्रिकेट के प्रति आकर्षक नहीं हैं।” उन्होंने कहा, “वो और ज्यादा मनोरंजन चाहते हैं। वो इसे और छोटा साथ ही और सरल रूप में देखना चाहते हैं। यह चीजें हमने इस नई प्रतिस्पर्धा से सीखी हैं और हम यही करना चाहते हैं।”

इस प्रस्तावित टूर्नामेंट में 15 ओवर छह गेंदों के ही होंगे लेकिन अंतिम ओवर 10 गेंदों का होगा।

ग्रेवस के मुताबिक, “हमने इसे बनाएंगे और खिलाड़ियों के साथ काम करेंगे क्योंकि हम उन्हें अपने साथ जोड़ना चाहते हैं। खिलाड़ियों के नजरिए से यह उनके वेतन में आठ मिलियन की बढ़ोत्तरी होगी।”

वहीं टेलीग्राफ को दिए गए इंटरव्यू में ग्रेवस ने कहा है कि उन्हें अगर इस प्रारुप को लागू करना है तो उन्हें इसके लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध होना होगा।उन्होंने कहा, “अगर कोई सोचता है कि इसे आयोजित करना हंसी मजाक है तो मैं उससे पूरी तरह से असहमत हूं।”

अप्रैल में 100-बाल क्रिकेट का प्रस्ताव आया था जिसका मकसद युवा दर्शकों को आकर्षित करना है। हालांकि इंग्लैंड के ही कुछ खिलाड़ी इस प्रारुप के खिलाफ हैं। ईसीबी के निदेशक एंड्रयू स्ट्रास ने कहा था कि यह प्रस्ताव वह 2020 में लागू करेंगे जिसका मकसद बच्चों और मांओं को ग्रीष्मकाल की छुट्टियों में खेल से जोड़ना होगा।

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली ने कहा, “यह हकीकत में 16.3 ओवर का खेल है। 50 ओवर से क्रिकेट 20 ओवर तक आया और अब लगभग साढ़े 16 ओवर तक। देखते हैं कि क्या होता है। मुझे लगता है कि उनके दिमाग में ओवरों की वजह 100 की संख्या है। हमें देखना होगा कि क्रिकेट और कितना छोटा होता है।”

एक मौके पर सौरव गांगुली ने कहा, “आपको इसे लेकर सावधान रहना होगा। ऐसा नहीं होना चाहिए की दर्शक आएं, पलक झपके और मैच खत्म। दर्शक खेल का लुत्फ लेना चाहते हैं जिसे एक निश्चित समय तक ले जाने का दबाव रहे और जिसमें उन्हें सही प्रतिभा और सही विजेता दिखे।”

गांगुली का मानना है कि खेल का प्रारुप जितना छोटा होता जाएगा, सर्वश्रेष्ठ और आम प्रतिभा के बीच अंतर कम होता जाएगा। उन्होंने कहा, “प्रारुप जितना छोटा होता जाएगा, अच्छे और आम खिलाड़ी के बीच का अंतर उतना कम होता जाएगा।”

गांगुली ने कहा कि असल क्रिकेट तो टेस्ट मैच ही है क्योंकि आपको एक ही ऊर्जा से दिन के आखिरी सत्र तक गेंद फेंकनी होती है। उन्होंने कहा, “इसलिए टेस्ट क्रिकेट अभी तक सबसे बड़ी चुनौती है। यहां आपको सुबह आकर गेंदबाजी करनी है फिर दिन में भी और फिर चायकाल के बाद भी और अंत तक आपको 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से गेंदबाजी करनी होती है।”

भारत के सबसे सफल कप्तानों में गिने जाने वाले गांगुली ने कहा, “इसके लिए एकाग्रता की जरूरत होती है, तकनीक की जरूरत होती है। टी-20 बना रहेगा क्योंकि इसके वित्तिय कारण हैं और इसमें मजा भी आता है लेकिन असल मजा लंबे प्रारुप में है।” इनपुट आईएएनएस

अन्तर्राष्ट्रीय

कोरोनाः इस क्रिकेटर का किडनी-लीवर पहले से खराब, अब हुआ वायरस से संक्रमित

Published

on

नई दिल्ली। साउथ अफ्रीका की ओर से फर्स्ट क्लास क्रिकेट खेलने वाले क्रिकेटर सोलो सोलो एनक्वेनी कोरोना की चपेट में आ गए हैं। इसकी जानकारी खुद उन्होंने ट्वीट के जरिए दी।

एनक्वेनी ने गुरुवार को ट्विटर पर लिखा, “पिछले साले मुझे जीबीएस हुआ था और मैं बीते 10 महीने से इस बीमारी से लड़ रहा था। मैं ठीक होने के आधे रास्ते पर था।”

उन्होंने लिखा, “मुझे टीबी हुआ। मेरी किडनी खराब हो गई। आज मैं कोरोनावायरस से पॉजिटिव पाया गया हूं। ईमानदारी से कहूं तो मुझे समझ नहीं आ रहा कि मेरे साथ क्या हो रहा है।”

26 साल का यह खिलाड़ी 2012 में दक्षिण अफ्रीका की अंडर-19 टीम के लिए खेला है। उनका करार ईस्टर्न प्रोविंस से था और साथ ही वह वॉरियर्स फ्रेंचाइजी के लिए भी खेलते हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending