Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

अन्तर्राष्ट्रीय

ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन अब बड़े पैमाने पर होगी इस्तेमाल, WHO ने दी मंजूरी

Published

on

नई दिल्ली। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के लार्ज स्केल यूज को हरी झंडी दे दी है। डब्ल्यूएचओ के एक्सपर्ट पैनल की ओर से ये मंजूरी दी गई। डब्ल्यूएचओ ने अपने बयान में कहा है कि यह वैक्सीन 65 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए भी सुरक्षित है।

डब्ल्यूएचओ के स्ट्रैटेजिक अडवाइजरी ग्रुप ऑफ एक्सपर्ट्स ऑन इम्यूनिजेशन ने अपनी गाइडलाइंस में कहा है कि इस वैक्सीन को दो डोज में दिया जाना चाहिए। पहले और दूसरे डोज के बीच में 8 से 12 हफ्तों का अंतर हो सकता है।

WHO के स्ट्रैटेजिक अडवाइजरी ग्रुप ऑफ एक्सपर्ट्स ऑन इम्यूनिजेशन ने यह भी कहा है कि कुछ लोगों ने कोविड के अफ्रीकी स्ट्रेन पर इस वैक्सीन के प्रभावी होने पर सवाल उठाए हैं। ऐसी कोई वजह नहीं है कि इस वैक्सीन को अप्रूवल ना दिया जाए।

बता दें कि हाल ही में दक्षिणा अफ्रीका में एस्ट्राजेनेका-ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी। इसके पीछे कोविड के नए स्ट्रेन पर वैक्सीन के कम प्रभावी होने का हवाला दिया गया था। ऐसे कुछ मामलों के सामने आने के बाद साउथ अफ्रीका में टीकाकरण अभियान को रोक दिया गया था।

अन्तर्राष्ट्रीय

आ गई कोरोना की एक और वैक्सीन, अमेरिका में मिला इमरजेंसी अप्रूवल

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिका ने कोरोना के खिलाफ जंग तेज कर दी है। इसी कड़ी में शनिवार को जॉनसन एंड जॉनसन की कोरोना वैक्सीन ‘जैनसेन’ को इमरजेंसी अप्रूवल दे दिया गया।

मंजूरी मिलने के बाद अमेरिका में यह तीसरी वैक्सीन है जिसे कोविड-19 के खिलाफ इस्तेमाल किया जाएगा। इससे पहले मॉडर्ना और फाइजर को भी इमरजेंसी अप्रूवल मिल चुका है।

CNN के मुताबिक, यह अमेरिका की पहली सिंगल डोज वैक्सीन है। व्हाइट हाउस के सीनियर ऑफिसर एंडी स्लाविट ने सोशल मीडिया पर कहा कि तीसरी सेफ और इफेक्टिव वैक्सीन का आना बहुत अच्छी खबर है।

बता दें कि इस वैक्सीन का ट्रायल अमेरिका, दक्षिण अफ्रीका और लैटिन अमेरिका के 44 हजार से ज्यादा लोगों पर किया गया था। FDA के मुताबिक, यह वैक्सीन कोरोना के मॉडरेट और क्रिटिकल मरीजों को दी गई। इस दौरान यह 66.1% इफेक्टिव रही।

 

Continue Reading

Trending