Connect with us

प्रादेशिक

किसी में इतना दम नहीं जो उद्धव को अयोध्या आने से रोक सके: चंपत राय

Published

on

अयोध्या। महाराष्ट्र सरकार और कंगना रनौत के बीच चल रहे विवाद पर अयोध्या के संतों ने कंगना को खुला समर्थन दिया है। अयोध्या के संतों का तो यहां तक कहना है कि वह अब उद्धव ठाकरे को अयोध्या में घुसने तक नहीं देंगे। वहीँ श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव तथा विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय खुलकर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्घव ठाकरे के पक्ष में आ गए हैं। राय ने अयोध्या के संतों द्वारा उद्घव के विरोध किए जाने को गलत बताया। उन्होंने यहां तक कह डाला कि किसमें है इतना दम जो उद्घव को अयोध्या आने से रोक सके।

अयोध्या में तमाम साधु-संतों ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ठाकरे को अयोध्या में न घुसने देने का एलान किया था। इसके विपरीत श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने साफ कह दिया है कि उद्घव ठाकरे को अयोध्या आने से कोई नहीं रोक सकता। अभी किसी में इतना दम नहीं है कि वह उद्घव ठाकरे को अयोध्या आने से रोक सके।

ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय इतने पर ही नहीं रुके। चंपत राय ने अयोध्या के संतों का उद्घव के विरोध को बेहद गलत बताया है। उन्होंने यहां तक कह दिया कि, अगर किसी में जरा भी दम है तो उद्घव को अयोध्या आने से रोक ले। जिसकी मां ने दूध पिलाया वो उद्घव का सामना करे। बेवजह विवाद को बढ़ाया जा रहा है।

कारसेवकपुरम में चंपत राय ने कहा कि राजस्थान में एक गीत है, जिसमें कहा जाता है कि किसकी मां ने जीरा खाया जो गंगा का पानी रोक सके। ठीक उसी तरह से अयोध्या में किसकी मां ने इतना जीरा खाया है कि ऐसी ताकतवर संतान पैदा की है जो कि उद्घव ठाकरे को अयोध्या आने से रोक सके। किसी की मां ने दूध पीया है और पिलाया है अपने बच्चे को, जो उद्घव ठाकरे का सामना करेगा अयोध्या में। उन्होंने कहा कि सब बेकार की बातें हैं सिर्फ एक विवाद खड़ा किया जा रहा है।

#champatrai #uddhavthackrey #ayodhya #kanganaranaut

प्रादेशिक

अनुराग कश्यप के खिलाफ केस दर्ज, एक्ट्रेस पायल घोष ने लगाया है रेप का आरोप

Published

on

मुंबई। फिल्म निर्देशक अनुराग कश्यप के लिए आने वाला समय मुश्किलों भरा हो सकता है। एक्ट्रेस पायल घोष ने उनके खिलाफ रेप के मामले में एफआईआर दर्ज कराई है। एक अधिकारी ने बताया है कि घोष और उनके वकील नितिन सातपुते पुलिस में पहुंचे जिसके बाद मंगलवार देर रात वर्सोवा पुलिस स्टेशन कश्यप के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई.

कश्यप के खिलाफ आईपीसी की 376 (I) (रेप), 354 (महिला की शीलता भंग करने के इरादे के साथ उसका शोषण करना या आपराधिक दबाव डालना), 341 (गलत तरीके से नियंत्रण करना) और 342 (गलत तरीके से रोकना) धाराओं में केस दर्ज किया गया है।पायल के वकील नितिन सतपुते ने बुधवार तड़के अपने ट्विटर अकाउंट पर जारी एक बयान में प्राथमिकी का विवरण साझा किया। एफआईआर मंगलवार देर रात दर्ज की गई।

सतपुते ने पोस्ट में लिखा, पायल घोष की एफआईआर अंतत: दर्ज की गई, आरोपी के खिलाफ दुष्कर्म, गलत बर्ताव, गलत इरादे से रोकना और महिला का अपमान करने पर आईपीसी के तहत यू / एस 376 (1), 354, 341, 342 सहित कई धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। पायल ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शनिवार को कश्यप के खिलाफ आधिकारिक रूप से मीटू आरोप लगाए थे। आरोप लगाने के एक दिन बाद उन्होंने दावा किया कि कश्यप ने साल 2014 में उनके सामने अपने कपड़े उतारे और उनसे छेड़छाड़ करने की कोशिश की।

Continue Reading

Trending