Connect with us

नेशनल

भारत में कोरोना के मामले बढ़े, 29 हजार के पार हुई संख्या

Published

on

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। देश में कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या बढ़कर अब 29 हजार के पार चली गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए रिपोर्ट के मुताबिक भारत में अबतक 29,435 लोग इस वायरस से पीड़ित हैं, जिसमें से 21,632 लोग कोरोना पॉजिटीव हैं। 6868 लोगों को देश के विभिन्न अस्पतालों से डिस्चार्ज कर दिया गया है। देश मे मंगलवार सुबह तक मरने वालों को तादाद 934 हो गई है ।

मंत्रालय के मुताबिक मंगलवार सुबह तक अंडमान-निकोबार में 33 कोरोना के मामले सामने आए हैं, जिनमें से 11 को डिस्चार्ज कर दिया गया है। उधर, आंध्र प्रदेश में मंगलवार सुबह तक 1183 मामले सामने आए।

235 को डिस्चार्ज किया जा चुका है, जबकि 31 की मौत हुई है। अरुणाचल प्रदेश में सिर्फ 1 मामला सामने आया है। असम में अब तक 36 लोग इस वायरस से पीड़ित बताये गए हैं जबकि 27 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है । यहां एक की मौत हुई है।

बिहार में यह आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। अब तक स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक 345 लोग इस वायरस से पीड़ित है, जिनमें से 57 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां दो की मौत हुई है। चंडीगढ़ में 40 मामले सामने आए है। इनमें से 17 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। छत्तीसगढ़ में 37 मामले सामने आएए 32 लोगों को डिस्चार्ज किया है।

इधर, दिल्ली में कोरोना से संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। मंत्रालय के मुताबिक 3108 लोग इस वायरस से पीड़ित हैं, 877 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 54 की मौत हुई है।

गोवा कोरोना फ्री स्टेट बना हुआ है जबकि गुजरात में 3548 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 394 को डिस्चार्ज किया है चुका है। यहां 162 लोगों की मौत हुई है।

हरियाणा में 296 मामले सामने आए 183 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 3 की मौत हुई है। हिमाचल में 40 मामले सामने आए 22 को डिस्चार्ज किया गया। यहां एक की मौत हो गई है।

जम्मू कश्मीर में 546 मामले सामने आए हैं। 164 को डिस्चार्ज किया गया। 7 की मौत हो गई है। झारखंड में 82 मामले सामने आए ए13 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहाँ अब 3 लोगों की मौत हुई है।

कर्नाटक में स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक मंगलवार सुबह तक 512 लोग कोरोना वायरस से पीड़ित थे, इसमें से 193 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 20 लोगों की मौत हुई है। केरल में आंकड़ा 481 पहुंच चुका है।

358 लोगों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है जबकि 7 की मौत हुई है। उधर लद्दाख में आंकड़ा 20 पहुंच चुका है लेकिन यहां 14 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है।

मध्यप्रदेश में कोरोना पीड़ित लोगों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। यहां अब तक मिली रिपोटरें के मुताबिक 2168 लोग कोरोना पीड़ित बताए गए हैं। इनमें से 302 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 110 की मौत हुई है।

महाराष्ट्र अभी भी देश में कोरोना के मामले में सबसे ऊपर बना हुआ है। अब तक यहां 8590 लोग कोविड-19 से संक्रमित बताए गए हैं। 1282 को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। लेकिन यहां मरने वालों की संख्या मंगलवार सुबह तक 369 तक पहुंच गई है। उधर मणिपुर में दो, मेघालय में 12, मिजोरम में एक मामले सामने आए हैं।

उड़ीसा में 118 मामले सामने आए हैं, जिनमें से 37 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। एक की मौत हुई है। पुडुचेरी में 8 मामले सामने आए, 3 को डिस्चार्ज किया चुका है।

पंजाब में 313 मामले सामने आए हैं, 72 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 18 की मौत हुई है। राजस्थान में भी आंकड़ा तेजी से बढ़ा है। यहां मंगलवार सुबह तक 2262 लोग इस भारत से पीड़ित बताए गए हैं। इनमें से 669 लोगों को डिस्चार्ज किया जा चुका है। 46 की मौत हुई है ।

तमिलनाडु में यह आंकड़ा 1937 है, 1101 को डिस्चार्ज किया जा चुका 24 की मौत हुई है। तेलंगाना में 1004 मामले सामने आए हैं। 321 को डिस्चार्ज किया गया है। 26 की मौत हो गई है। त्रिपुरा में 2 मामले सामने आए हैं जबकि उत्तराखंड में 52 मामले अभी तक रजिस्टर्ड किए गए हैं जिनमें से 33 को डिस्चार्ज किया जा चुका है ।

इस बीच, उत्तर प्रदेश में मंगलवार सुबह तक 1955 कोरोना पीड़ित लोगों की संख्या हो गई है। जिनमें से अभी तक 325 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 31 लोगों की मौत हो गई है। पश्चिम बंगाल में ये आंकड़ा 697 पहुंच गया है। 109 को डिस्चार्ज किया जा चुका है। यहां 20 लोगों की मौत हुई है।

 

नेशनल

दिल्ली पुलिस के इंस्पेक्टर की कोरोना से मौत, मिल चुका है वीरता पुरस्कार

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना काल अपनी जान की परवाह न कर ड्यूटी कर रहे कई पुलिस वाले इसका शिकार बने हैं। अब देश की राजधानी दिल्ली में स्पेशल सेल में तैनात एक इंस्पेक्टर की कोरोना से मौत हो गई है। इंस्पेक्टर संजीव कुमार यादव की हालत गंभीर थी और वो 14 दिन से वेंटिलेटर पर थे। बीती रात उन्होंने अंतिम सांस ली।

जानकारी के अनुसार, इंस्पेक्टर संजीव कुमार यादव 14 दिनों से वेंटिलेटर पर कोरोना से जंग लड़ रहे थे. इस दौरान उन्हें प्लाज्मा थेरेपी भी दी गई थी, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. डॉक्टरों के अनुसार उनका दो बार प्लाज्मा थेरेपी से इलाज किया गया था लेकिन कोरोना के अधिक लक्षण होने के कारण उन्हें बचाया नहीं जा सका।

आपको बताते चलें कि इंस्पेक्टर संजीव कुमार यादव दिल्ली पुलिस के सबसे जांबाज पुलिसकर्मियों की गिनती में आते हैं। बीते 26 जनवरी 2020 को उन्हें वीरता के लिए पुलिस पदक से भी सम्मानित किया गया था।

Continue Reading

Trending