Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिका ने अखिरकार खोज ली कोरोना की दवा, वैज्ञानिक ने किया बड़ा दावा

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस की दवा को लेकर अमेरिकी साइंटिस्ट ने बड़ा दावा किया है। नेटफ्लिक्स डॉक्यूमेंट्री पैन्डेमिक से चर्चा में आए वैज्ञानिक के मुताबिक उन्होंने कोरोना वायरस का इलाज ढूंढ लिया है।

वैज्ञानिक का नाम डॉ. जैकब ग्लानविले है। जैकब ने इस बारे में बात करते हुए बताया कि सार्स (Severe acute respiratory syndrome) पैदा करने वाले वायरस के खिलाफ इस्तेमाल किए गए कई एंटीबॉडीज के इस्तेमाल से ही उन्होंने ये सफलता हासिल की है।

डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, कैलिफोर्निया में रहने वाले फिजिशियन और डिस्ट्रीब्यूटेड बायो के सीईओ डॉ. जैकब ग्लानविले ने कहा है कि उन्हें यह बताते हुए खुशी हो रही कि इंजीनियरिंग का काम पूरा कर लिया गया है। अब हमारे पास एक प्रभावशाली एंटीबॉडीज है जो कोरोना के खिलाफ काम कर सकता है।

साइंटिस्ट के मुताबिक उनकी टीम ने सार्स के खिलाफ 2002 में इस्तेमाल किए गए 5 एंटीबॉडीज का इस्तेमाल किया है। इन्हीं एंटीबॉडिज के जरिए उन्होंने कोरोना वायरस (COVID-19) का इलाज तलाशने की कोशिश की है। SARS-CoV-2 और COVID-19 एक ही फैमिली के वायरस हैं।

अमेरिकी साइंटिस्ट ने कहा कि अब तक वे एंटीबॉडीज के लाखों वर्जन तैयार कर चुके हैं। इन्हें म्यूटेट भी किया गया है। नए एंटीबॉडीज के इंसानों पर परीक्षण होने के बाद इसका इस्तेमाल कोरोना वायरस के खिलाफ किया जा सकता है। परीक्षण सफल होने के बाद सरकारी एजेंसी के पास इसे मंजूरी के लिए भेजा जा सकता है।

डॉ. जैकब ग्लानविले ने कहा कि ये एंटीबॉडीज एस-प्रोटीन्स को बाइन्ड करते हैं जिसके जरिए कोरोना वायरस शरीर में प्रवेश करता है। उन्होंने कहा कि सभी रिसर्च फिर से शुरू करने के बाद एंटीबॉडी तैयार करने में अधिक वक्त लग सकता है, इसलिए उन्होंने पहले से मौजूद एंटीबॉडीज का इस्तेमाल किया है।

अगर इस एंटीबॉडी का परीक्षण सफल होता है तो शॉर्ट टर्म के लिए इसका इस्तेमाल किया जा सकता है। असल वैक्सीन लोगों की आजीवन रक्षा करती है, लेकिन शॉर्ट टर्म वैक्सीन 10 साल तक सुरक्षा दे सकती है।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के रूप में पूरी दुनिया में फैल चुका है। इससे अब तक दुनियाभर में 8,62,500 से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं जबकि 42,500 से अधिक लोग कोरोना से जान भी गंवा चुके हैं।

अन्तर्राष्ट्रीय

चीन के दावे की खुली पोल, वुहान में सामने आए इतने नए मामले

Published

on

नई दिल्ली। चीन के वुहान शहर से निकला कोरोना वायरस अब पूरी दुनिया में फैल चुका है। हालांकि कुछ महीने के लॉकडाउन के बाद चीन इस वायरस पर पूरी तरह काबू पाने का दावा कर रहा है।

लेकिन सच्चाई बिल्कुल इसके उलट नजर आ रही है। चीन में कोरोना के 51 नए मामले मिले हैं इसमें ज्यादातर मामले वुहान के हैं जहां से यह वायरस पूरी दुनिया में फैला।

चीन के स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक देश में 51 नए कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए हैं। इनमें से अधिकांश वुहान से हैं। कोरोना पर नियंत्रण के लिए बीते 10 दिनों में वहां छह मिलियन से ज्यादा लोगों का परीक्षण किया गया है। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग (NHC) के मुताबिक रविवार को कोरोना संक्रमण के 11 मामले सामने आए हैं।

एनएचसी ने अपनी दैनिक रिपोर्ट में कहा है कि रविवार को चीन में घरेलू स्तर पर कोरोना का कोई भी संक्रमित केस सामने नहीं आया है जबकि स्वायत्तशासी क्षेत्र इनर मंगोलिया में 10 और सिचुआन प्रांत में 11 मामले सामने आए हैं।

स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, वर्तमान में, वुहान में 326 कोरोना संक्रमित और ऐसे लक्षणों वाले 396 लोग डॉक्टरों की देखरेख में हैं। वुहान नगरपालिका द्वारा जारी किए गए नए आंकड़ों के अनुसार, शहर में 14 से 23 मई के बीच 6 मिलियन से अधिक लोगों का न्यूक्लिक एसिड टेस्ट किया गया है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की खबर के मुताबिक, शनिवार को शहर में करीब 1.15 मिलियन परीक्षण किए गए।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending