Connect with us

प्रादेशिक

भिखारी की मौत के बाद घर पहुंची पुलिस, खजाना देखकर उड़ गए होश

Published

on

मुंबई। देश की आर्थिक राजधानी कहलाने वाली मुंबई से एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक 82 साल के इस भिखारी की शुक्रवार को मानखुर्द और गोवंडी स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक पार करने की कोशिश में ट्रेन से कटकर मौत हो गई।

भिखारी की मौत के बाद राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) जब उसके घर पहुंची तो घर में रखी दौलत देखकर दंग रह गई। वासी राजकीय रेलवे पुलिस (जीआरपी) को एक झोपड़ी में रहने वाले भिखारी बिरादीचंद पन्नारामजी आजाद के पास से 8.77 लाख रुपये का फिक्स डिपॉजिट (सावधि जमा), बैंक खातों में जमा 96,000 रुपये और 1.75 लाख के सिक्के मिले।

इस मामले में जीआरपी के वरिष्ठ पुलिस इंस्पेक्टर नंदकुमार सास्ते ने कहा, ‘आगे जांच करने पर हम उसकी झोपड़ी तक पहुंचे। एक पड़ोसी ने हमें बताया कि आजाद अकेला रहता था और उसका कोई रिश्तेदार नहीं है। हमने उसकी झोपड़ी में छानबीन की ताकि उसके परिवार के बारे में कुछ पता चल सके।’

आजाद की झोपड़ी में छानबीन करने वाले वाशी जीआरपी के सब इंस्पेक्टर प्रवीण कांबले ने कहा, ‘हमें वहां चार बड़े डिब्बे और एक गैलन मिला। उसने इनके अंदर एक, दो, पांच और 10 रुपये के सिक्कों को प्लास्टिक की थैलियों में रखा हुआ था। हमने शनिवार शाम से रविवार तक सिक्कों को गिना और यह 1.75 लाख रुपये निकले।’

पुलिस को झोपड़ी के एक कोने में रखा हुआ स्टील का डिब्बा मिला। सास्ते ने कहा, ‘हमें स्टील के डिब्बे में पैन कार्ड, आधार कार्ड और वरिष्ठ नागरिक कार्ड मिला जो सभी आजाद के नाम पर थे। दस्तावेजों के अनुसार उसका जन्म 27 फरवरी को 1937 में हुआ था। वह पहले शिवाजी नगर मे रहता था।’

सास्ते ने कहा, ‘हमें जो अन्य दस्तावेज मिले हैं उसमें 8.77 लाख रुपये के फिक्स डिपॉजिट की रसीद, दो बैंक खातों की पासबुक मिली है जिसमें 96,000 रुपये जमा हैं। रसीद से पता चलता है कि आजाद राजस्थान के रामगढ़ का रहने वाला था और उसका सुखदेव नाम का बेटा है। जो उसके बैंक खातों का नॉमिनी है। हम सुखदेव से संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं।’

प्रादेशिक

लखनऊ की दिव्यांशी ने CBSE की 12वीं की परीक्षा में रचा इतिहास, हासिल किए 600 में 600 अंक

Published

on

लखनऊ। लखनऊ के नवयुग रेडियंस कॉलेज की छात्रा दिव्यांशी जैन ने 12वीं की परीक्षा में 100% अंक हासिल कर इतिहास रच दिया है। दिव्यांशी ने 600 में 600 अंक हासिल किए हैं। दिव्यांशी जैन हिस्ट्री, ज्योग्राफी, इकोनॉमिक्स, इंश्योरेंस, संस्कृत और इंग्लिश विषयों से 12वीं की पढ़ाई कर रही थीं। इस साल की परीक्षा में उनके सभी विषयों में 100 फीसदी मार्क्स आए हैं।

दिव्यांशी ने कहा कि उसने कभी कोचिंग नही ली और सिर्फ स्कूल में पढ़ाए गए पाठ को रटने के बजाय समझ कर कंठस्थ करने का प्रयास किया। उसने शॉर्ट नोट्स बनाए, लेकिन कभी गाइड का सहारा नहीं लिया, बल्कि एनसीईआरटी की किताबो से ही पढ़ा। दिव्यांशी के पिता राजेश जैन स्टेशनरी का व्यवसाय करते हैं। वहीं मां सीमा जैन गृहणी हैं। उनकी बड़ी बहन श्रेयांशी जैन स्नातक में पढ़ती हैं। उनके पिता राजेश प्रकाश जैन ने कहा कि हमें बेटी पर गर्व है। उसने अपनी मेहनत से हमारा सपना पूरा कर दिया है।

दिव्यांशी को यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने बधाई दी है। ट्विटर पर अखिलेश ने लिखा है कि ‘सीबीएसई बोर्ड की इंटरमीडिएट परीक्षा में शत प्रतिशत अंक प्राप्त करने वाली लखनऊ की छात्रा दिव्यांशी जैन को बहुत-बहुत बधाई एवं उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं।’

यह है दिव्यांशी की रिपोर्ट कार्ड
अंग्रेजी 100
संस्कृत 100
भूगोल 100
अर्थशास्त्र 100
इंश्योरेंस 100
इतिहास 100

#lucknow #divynashijain #12th result #cbse

Continue Reading

Trending