Connect with us

प्रादेशिक

गौरीगंज में अचानक पान की दुकान पर पहुंची स्मृति ईरानी, खरीदा टॉफी और चिप्स

Published

on

अमेठी। केंद्रीय महिला एवं बाल विकास व कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी बुधवार को दो दिवसीय दौरे पर अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी पहुंची।
यहां उन्होंने गौरीगंज में एक पान की दुकान पर पहुंचकर टॉफी व चिप्स खरीदा। उन्होंने दुकानदार से बातचीत कर उसका हाल पूछा और पॉलीथिन का इस्तेमाल न करने की सलाह दी। इसके बाद मंत्री ने शहर के सगरा ताल पहुंचकर वहां निरीक्षण किया। इस मौके पर लोगों की समस्याएं सुनी। इस दौरान उनके साथ प्रदेश के अपर मुख्य प्रमुख सचिव गृह अवनीश अवस्थी भी मौजूद रहे।

स्मृति ईरानी ने इसके पहले अमेठी-रायबरेली रेलखंड के पांच रेलवे स्टेशन अमेठी, ताला, मिश्रौली, गौरीगंज, बनी, जायस व फुरसतगंज पर वाईफाई सुविधा की शुरुआत की। अमेठी-रायबरेली रेलखंड पर 550 करोड़ रुपये की लागत से चल रहे रेलवे लाइन के डबलिंग के कार्यों का केंद्रीय मंत्री ने अमेठी से गौरीगंज तक विशेष ट्रेन से डीआरएम के साथ निरीक्षण भी किया।

मानवरहित रेलवे क्रासिंगों को बंद करने व गौरीगंज रेलवे स्टेशन पर स्थायी जीआरपी पुलिस चौकी खोले जाने की बात भी केंद्रीय मंत्री ने कही। मंत्री ने कहा, “फुरसतगंज में स्थानीय किसानों की सहूलियत के लिए विशेष सुविधाओं वाला स्टेशन विकसित किया जाएगा, जिससे किसान अपनी फसलों का दूर दूर तक व्यापार कर सकेंगे।” उन्होंने अमेठी को सलोन के रास्ते ऊंचाहार से जोड़ने वाली रेलवे लाइन के निर्माण का काम शीघ्र शुरू कराए जाने की बात कही।

प्रादेशिक

रोजगार से जोड़ा जाना चाहिए पर्यटनः सीएम योगी

Published

on

लखनऊ। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को पर्यटन पर बात करते हुए कहा कि पर्यटन को अध्यात्मिक पर्यटन तक ही सीमित नहीं रखा जाना चाहिए, बल्कि उसे हैरिटेज, वन्यजीवन तक बढ़ाया जाए और इसकी योजना बनाकर इसे रोजी-रोजगार से जोड़ा जा सकता है।

मुख्यमंत्री ने यहां इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान के सभागार में एक बहुभाषी समाचार एजेंसी द्वारा आयोजित उत्तर प्रदेश विकास संवाद-2 में तीर्थाटन, पर्यटन और क्षेत्रीय विकास पर केन्द्रित समारोह में अपने विचार व्यक्त कर रहे थे।

उन्होंने कहा, “उत्तर प्रदेश में पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं। पर्यटन क्षेत्र को तीर्थाटन से आगे ले जाकर हम आíथक स्वावलम्बन की ²ष्टि से बड़ी भूमिका निभा सकते हैं। लेकिन इसे तीर्थाटन तक सीमित करना ठीक नहीं है। इसे रोजगार से भी जोड़ा जाना चाहिए।”

मुख्यमंत्री ने कहा, “यह सच है कि पर्यटन का स्वरूप तीर्थाटन के रूप में रहा है, लेकिन तीर्थयात्री को भी कुछ सुविधा चाहिए। अगर उसके पास भुगतान क्षमता है तो यह एक अच्छी शुरुआत हो सकती है। काशी विश्वनाथ और उसके आसपास के क्षेत्र के विकास के लिए जब हम योजना बना रहे थे तो गाइड रखने का सुझाव आया था। पहले चरण में 30 गाइड रखे गए और वे सरकार पर बोझ बने बिना हर माह 30 हजार रुपये से लेकर एक लाख रुपये तक कमा रहे हैं।”

मुख्यमंत्री योगी ने कहा, “हमारे पास अयोया, मथुरा, काशी, वृंदावन, नैमिष आदि कई प्रमुख तीर्थस्थल, बौद्घस्थल हैं, जो धाíमक पर्यटन का हिस्सा हैं। यहां तमाम अनेक ऐसे हिस्से हैं, जहां रोजगार उत्पन्न हो सकते हैं। बस इसमें सकारात्मक दृष्टि से कार्य करने की आवश्यकता है।”

उन्होंने कहा, “परिवर्तन के लिए हमें मानसिक तौर पर तैयार रहना होगा। कूप मंडूक रहकर हम परिवर्तन नहीं ला सकते। इस स्थिति से उबरना होगा और आगे जाना होगा।”

उन्होंने कहा, “अयोया में पहले दीपावली पर शस्त्र पूजन आदि कर लिया जाता था, लेकिन हमारी सरकार ने संतों से बात करके सामूहिक रूप से दीपोत्सव मनाने की परम्परा शुरू की। अयोध्या के साथ दीपोत्सव अब जुड़ चुका है। योजना और सहभागिता साथ-साथ चले तो पर्यटन को नई दिशा दी जा सकती है।”

मुख्यमंत्री ने कहा, “अध्यात्मिक, सांस्कृतिक काया के साथ अगर हम अपने पर्यटन स्थल को नए कलेवर में नहीं रखेंगे तो दुनिया आकíषत नहीं होगी। उत्तर प्रदेश में विकास की सम्भावनाएं पहले से ही मौजूद हैं।”

मुख्यमंत्री ने कहा, “1916 में महात्मा गांधी काशी आए थे और विश्वनाथ मंदिर दर्शन करने गए थे। तब उन्होंने वहां गलियों में मौजूद गंदगी और संकीर्णता पर तल्ख टिप्पणी की थी। उनकी टिप्पणी के 100 साल बाद भी न तो गलियां चौड़ी हुईं और न ही गंदगी हटी। हमारी सरकार ने इस दिशा में प्रयास किया है। अब काशी में पांच फुट संकरी गलियां नहीं, बल्कि सौ फुट चौड़ा रास्ता मिलेगा।” योगी ने ईको टूरिज्म के विकास पर भी जोर दिया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending