Connect with us

प्रादेशिक

गुजरात में सुनाया गया तुगलकी फरमान, लड़कियों के मोबाइल इस्तेमाल पर लगेगा 1.5 लाख का जुर्माना

Published

on

नई दिल्ली। गुजरात के बनासकांठा में ठाकोर समुदाय ने अविवाहित लड़कियों को लेकर तुगलकी फरमान सुनाया है। रविवार को बनासकांठा के जलोल गांव में बैठी पंचायत में ठाकोर सुमदाय के लोगों ने सर्वसम्मति से लड़कियों के मोबाइल इस्तेमाल करने पर पाबंदी लगा दी।

 

इस फैसले के बाद अगर कोई अविवाहित लड़की मोबाइल इस्तेमाल करती है तो उसके पिता पर 1.5 लाख रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा।

जिला पंचायत के सदस्य जयंतीभाई ठाकोर ने कहा, “हमारे समुदाय की रविवार को बैठक हुई, इसमें हमने फैसला किया कि शादियों में फिजूलखर्ची को रोका जाए, डीजे और पटाखों का इस्तेमाल बंद किया जाए।

इससे हम पैसे बचा सकते हैं।” पंचायत में ये भी फैसला लिया गया है कि अगर लड़की को अपनी मर्जी से शादी करनी है तो उसे परिवार की सहमति लेनी पड़ेगी। अगर वो ऐसा नहीं करती है तो इसे अपराध माना जाएगा।

पंचायत के कुछ फैसलों पर ठाकोर नेता अल्पेश ठाकोर ने आपत्ति जताई है। इस फैसले पर ठाकोर ने कहा, “शादियों में खर्च घटाने का फैसला तो सही है, लेकिन इस फैसले में पेंच है कि अविवाहित लड़कियों को मोबाइल का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। यदि वे लड़कों के बारे में भी ऐसा ही कानून बनाते तो अच्छा होता, लव मैरिज के बारे में तो मैं कुछ नहीं कहूंगा, मैंने खुद लव मैरिज की थी।”

प्रादेशिक

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पर्वातरोहण अभियान दल को दिखाई हरी झंडी

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद, निम (नेहरू इन्स्टीटयूट ऑफ माउन्टनियरिंग) और एसडीआरएफ द्वारा सयुंक्त रूप से आयोजित पर्वतारोहण अभियान दल को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

गौरतलब है कि इस संयुक्त अभियान के तहत उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद, एसडीआरएफ व निम की सयुंक्त टीमों द्वारा हर्षिल वैली में स्थित हॉर्न ऑफ हर्षिल चोटी को लगभग 5, 6 दिन के भीतर फतह किया जाएगा।

उक्त अनाम चोटियों को अभी तक पर्वतारोहियों द्वारा फतह नही किया गया है। पर्वतारोही टीम को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पर्वतारोही दलों द्वारा पर्वतारोहण अभियानों के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हुए वृक्षारोपण, पॉलीथीन के प्रयोग न करने व पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड को एडवेंचर टूरिज्म और अच्छे पर्यावरण के लिए जाना जाए, हमें इसके लिए लगातार अपने प्रयास जारी रखने होंगे। इस मौके पर जिलाधिकारी उत्तरकाशी डॉ. आशीष चौहान और प्रधानाचार्य निम कर्नल अमित बिष्ट भी मौजूद थे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending