Connect with us

प्रादेशिक

नॉनवेज परोसना Zomato को पड़ा भारी, उपभोक्ता फोरम ने लगाया 55 हजार का जुर्माना

Published

on

मुंबई। महाराष्ट्र के पुणे में एक हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। यहां बॉम्बे हाईकोर्ट (नागपुर बेंच) के वकील देशमुख ने जोमैटो से पनीर बटर मसाला ऑर्डर किया लेकिन उन्हें अपने ऑडर की जगह नॉनवेज भेज दिया गया जिसके बाद उपभोक्ता फोरम ने इस लापरवाही के लिए जोमैटो पर 55 हजार का जुर्माना लगाया है।

देशमुख ने बताया कि वह पिछले साल 31 मई को पुणे गए थे। यहां जोमैटो एप से पनीर बटर मसाला ऑर्डर किया, लेकिन डिलीवरी बॉय उन्हें चिकन बटर मसाला दे गया।

शिकायत करने पर रेस्तरां ने पनीर बटर मसाला भेजने की बात कही। लेकिन दूसरी बार भी उन्हें बटर चिकन ही मिला। उस दिन गुरुवार था और मेरा उपवास था।

दोबारा नॉनवेज मिलने पर वकील ने इस लापरवाही की शिकायत उपभोक्ता फोरम में कर दी। उपभोक्ता फोरम ने मामले की सुनवाई करते हुए जोमैटो और रेस्तरां पर 55 हजार रुपये का जुर्माना लगाया है। फोरम ने 45 दिन में जुर्माने की रकम चुकाने का आदेश दिया है।

उपभोक्ता फोरम ने आदेश में कहा- यदि जुर्माने की रकम निर्धारित समय पर नहीं चुकाई गई तो जोमैटो और रेस्तरां को इस राशि पर 10 फीसदी का ब्याज भी देना होगा।

देशमुख को रेस्तरां की लापरवाही के लिए जुर्माने के तौर पर 50 हजार रुपये और मानसिक प्रताड़ना के एवज में 5 हजार रुपये मिलेंगे।

प्रादेशिक

मैदान में फुटबॉल प्रैक्टिस करा रहा था कोच, अचानक गिरी बिजली, और फिर….

Published

on

रांची। झारखंड के धनबाद में एक फुटबॉल कोच की आकाशीय बिजली गिरने से मौत हो गई। प्रैक्टिस के दौरान अचानक फुटबॉल कोच पर बिजली गिर गई जिससे वह बेहोश हो गए। आनन-फानन में उन्हें पीएमसीएच ले जाया गया जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

एक प्रशिक्षु फुटबॉलर ने बताया कि कोच अभिजीत गांगुली उर्फ सोनू दा प्रैक्टिस करवा रहे थे। इसी बीच तेज आवाज के साथ आसमानी बिजली चमकी और सभी खिलाड़ी जमीन पर लेट गए। थोड़ी देर के लिए पूरे मैदान में अंधेरा छा गया। जब सभी उठे तो देखा कि कोच गिरे पड़े हुए थे, उनका पूरा शरीर झुलसा हुआ था।

संजय ने बताया कि हादसे के बाद हम तुरंत उन्हें उठाकर इलाज के लिए असर्फी अस्पताल पहुंचे, लेकिन उनकी गंभीर हालत को देखते हुए वहां के डॉक्टरों ने उन्हें पीएमसीएच धनबाद रेफर कर दिया।

खिलाड़ियों ने अपने गुरु को पीएमसीएच ले जाने के लिए वहां एंबुलेस खोजी, लेकिन उन्हें एंबुलेंस तो खड़ी मिली लेकिन उसका ड्राइवर नदारद था। इसके बाद अभिजीत दा के शिष्य बिना समय गंवाए उन्हें अपनी स्कूटी से ही पीएमसीएच लेकर पहुंचे, लेकिन वो बच नहीं सके।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending