Connect with us

प्रादेशिक

दहेज मांगने ससुराल पहुंच गया शख्स, ससुर ने की जमकर खातिरदारी

Published

on

पटना। बिहार के मुजफ्फरपुर में एक ऐसा मामला सामने आया है जिसे जानकर दहेज मांगने वाले लोग कांप जाएंगे। दरअसल, एक शख्स जब सुमेरा गांव में अपने ससुरालवालों से दहेज मांगने पहुंचा तो ससुर ने उसे पेड़ से बांधकर उसकी जमकर पिटाई कर दी।

लड़की के पिता अवधेश कुमार पर आरोप है कि उन्होंने गांववालों के साथ मिलकर अपने दामाद की पिटाई की है। इस पूरे मामले पर अवधेश कुमार ने कहा, ‘दामाद हमेशा बेटी के साथ दहेज लाने के नाम पर मारपीट करता था। पंचायत में कई बार इस मुद्दे को उठाने के बाद भी दामाद अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहा था।’ इसके बाद अवधेश की बेटी अपने पिता के पास आई और पति से तलाक लेने के लिए कोर्ट में अर्जी दे दी।

अवधेश कुमार के अनुसार उनकी बेटी की शादी साल 2011 में वैशाली के रहने वाले नटवरलाल से हुई थी। शादी के बाद चार सालों तक सब ठीक रहा लेकिन उसके बाद दामाद दहेज की मांग करते हुए बेटी को प्रताड़ित करने लगा। दामाद को कई बार समझाया भी लेकिन उस पर इसका कोई असर नहीं हुआ। अवधेश ने कहा कि सोमवार की रात अचानक दामाद घर आया और सभी से मारपीट करने लगा।

अवधेश की बेटी ने भी अपने पति पर मारपीट करने और जबरदस्ती दहेज मांगने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा,  ‘पति दहेज की मांग के साथ ही अक्सर उसके साथ मारपीट भी करता था।’

वहीं नटवरलाल ने ससुराल पक्ष के दावों को खारिज करते हुए अपनी पत्नी पर किसी दूसरे शख्स से फोन पर बातचीत करने का आरोप लगाया। जब उससे पूछा गया कि तलाक का केस चल रहा है तो वह ससुराल क्यों आया तब उसने कहा कि वो समझौता करने के लिए गया था लेकिन ससुर समेत परिवार के अन्य लोगों ने उसे पीटना शुरू कर दिया।

प्रादेशिक

मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने पर्वातरोहण अभियान दल को दिखाई हरी झंडी

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद, निम (नेहरू इन्स्टीटयूट ऑफ माउन्टनियरिंग) और एसडीआरएफ द्वारा सयुंक्त रूप से आयोजित पर्वतारोहण अभियान दल को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

गौरतलब है कि इस संयुक्त अभियान के तहत उत्तराखण्ड पर्यटन विकास परिषद, एसडीआरएफ व निम की सयुंक्त टीमों द्वारा हर्षिल वैली में स्थित हॉर्न ऑफ हर्षिल चोटी को लगभग 5, 6 दिन के भीतर फतह किया जाएगा।

उक्त अनाम चोटियों को अभी तक पर्वतारोहियों द्वारा फतह नही किया गया है। पर्वतारोही टीम को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि पर्वतारोही दलों द्वारा पर्वतारोहण अभियानों के माध्यम से पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हुए वृक्षारोपण, पॉलीथीन के प्रयोग न करने व पर्यावरण संरक्षण का संदेश भी दिया जाना चाहिए।

उन्होंने कहा कि उत्तराखण्ड को एडवेंचर टूरिज्म और अच्छे पर्यावरण के लिए जाना जाए, हमें इसके लिए लगातार अपने प्रयास जारी रखने होंगे। इस मौके पर जिलाधिकारी उत्तरकाशी डॉ. आशीष चौहान और प्रधानाचार्य निम कर्नल अमित बिष्ट भी मौजूद थे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending