Connect with us

नेशनल

सीमांचल एक्सप्रेस के 11 डिब्बे पटरी से उतरे, 7 लोगों की मौत

Published

on

पटना। बिहार के हाजीपुर के पास सहदेई बुजुर्ग में रविवार की सुबह सीमांचल एक्सप्रेस के 11 डिब्बे पटरी से उतर गए। इस हादसे में 7 लोगों की मौत हो गई। हादसा किस वजह से हुआ फिलहाल यह साफ नहीं हो पाया है।

माना जा रहा है कि पटरियों के टूटने की वजह से यह रेल हादसा हुआ। आपको बता दें कि 1 फरवरी को अंतरिम बजट पेश करने के दौरान रेल मंत्री पीयूष गोयल ने नए साल को रेलवे के इतिहास का सबसे सुरक्षित साल बताया था जिसके 1 दिन बाद ही यह भीषण हादसा हो गया।

पीयूष गोयल के इस बयान के बाद ही दो दिन में दो रेल हादसे देखने को मिले। यह रेल हादसा सुबह करीब 3 बजकर 58 मिनट पर हुआ। सीमांचल एक्सप्रेस जोगबनी से दिल्ली जा रही थी और अचानक ट्रेन के 11 कोच पटरियों से पलट गई।

मिली जानकारी के अनुसार हादसे में 6 लोगों की मौत और 24 लोग घयल हो गए हैं। इस हादसे से गुस्साए ग्रामीणों ने पुलिसवालों पर पथराव भी किए।

हादसे के बाद रेलवे ने मृतकों के परिवार को 5 लाख रुपये जबकि गंभीर रूप से घायलों को एक लाख रुपये और मामूली घायलों को 50,000 रुपए देने का एलान किया है। साथ ही घायलों के सभी चिकित्सा व्यय भी रेलवे द्वारा वहन किया जाएगा। बिहार सरकार ने भी मृतकों और घायलों के लिए मुआवजे का ऐलान किया है। सरकार मृतकों के परिजनों को 4 लाख रुपये जबकि घायलों को 50,000 रुपये देगी।

ईस्ट सेंट्रल रेलवे के सीपीआरओ राजेश कुमार ने बताया कि इस घटना में 6 लोगों की मौत हुई है। बताया जा रहा है कि मृतकों और घायलों की संख्या में इजाफा हो सकता है। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि घटनास्थल पर करीब 7 से आठ शवों को निकाला गया है। यह ट्रेन जोगबनी से दिल्ली आ रही थी।

 

नेशनल

कपिल सिब्बल का मोदी सरकार पर पलटवार, बोले-आपने वाजपेयी की नहीं सुनी हमारी क्या सुनेंगे

Published

on

दिल्ली में हुई हिंसा पर कांग्रेस और केंद्र सरकार के बीच जुबानी जंग तेज हो गई है। शुक्रवार को केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के कांग्रेस पार्टी पर दिए बयान पर कपिल सिब्बल ने पलटवार किया है।

कपिल सिब्बल ने शनिवार को एक ट्वीट किया, ‘कानून मंत्री कांग्रेस से कहते हैं कि प्लीज, हमें राजधर्म न सिखाएं। हम कैसे आपको सिखा सकते हैं मंत्री महोदय। जब आपने गुजरात में वाजपेयी जी की नसीहत नहीं सुनी, आप हमें क्यों सुनेंगे। सुनना, सीखना और राजधर्म का पालन करना आपके मजबूत बिंदुओं में से एक नहीं है।’

दरअसल साल 2002 में जब गुजरात में दंगे भड़के थे, तब तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने उस वक्त के मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी से राजधर्म का पालन करने को कहा था।

गुजरात दंगों में सैकड़ों लोग मारे गए थे। बता दें कि दिल्ली हिंसा के बाद कांग्रेस पार्टी के नेताओं ने राष्ट्रपति से मुलाकात कर राष्ट्रपति से अपील की थी वह केंद्र सरकार से राजधर्म का पालन कराएं और गृह मंत्री अमित शाह को हटाने के लिए कदम उठाएं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending