Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

उत्तराखंड

उत्तराखंड में कोरोना का कहर जारी, 1 हफ्ते के लिए बढ़ा कर्फ्यू

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना की दूसरी लहर का कहर उत्तराखंड कम होता नहीं दिख रहा है। लगातार बढ़ कोरोना के नए मामलों को देखते हुए तीरथ सिंह रावत की सरकार ने एक हफ्ते के लिए लॉकडाउन बढ़ाने का फैसला किया है।

अब राज्य में 18 मई से 1 हफ्ते और पाबंदियां जारी रहेंगी। सरकार के इस फैसले के मुताबिक कर्फ्यू में पहले की तरह की पाबंदियां जारी रहेंगी। उत्तराखंड में फल-सब्जी, डेयरी और किराने की दुकानें सुबह 7 बजे से लेकर 10 बजे तक पहले की तरह ही खुली रहेंगी। इस दौरान शॉपिंग मॉल और शराब की दुकानें बंद रहेंगी।

हालांकि इस दौरान वैक्सीनेशन का काम पहले की तरह चलता रहेगा। बता दें कि बीते दिन यानी रविवार को कोरोना के कुल 4 हजार 496 नए केस सामने आए थे। राज्य में कोरोना के कुल एक्टिव केस 78 हजार के पार हो गए हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी किए गए ताजा अपडेट के मुताबिक उत्तराखंड में 78802 कोविड के सक्रिय मामले हैं। वहीं इस खतरनाक वायरस की वजह से 4811 लोगों की जान जा चुकी है।

उत्तराखंड

उत्तराखंड की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश के निधन पर सीएम योगी ने जताया दुख

Published

on

देहरादून। कांग्रेस की वरिष्ठ नेत्री और उत्तराखंड की नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश का रविवार की सुबह निधन हो गया। वह 80 साल की थीं। जानकारी के अनुसार दिल्ली में हृदय गति रुकने से उनका देहांत हो गया।

सालों के अपने राजनीतिक करियर में इंदिरा हृदयेश ने उत्तराखंड की राजनीति को कई नए मुकाम दिए और प्रदेश में काफी कुछ विकास के काम किए, खासकर कुमाऊं मंडल में उनको मदद का मसीहा माना जाता रहा है।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड विधानसभा की नेता प्रतिपक्ष श्रीमती इंदिरा हृदयेश जी के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। सीएम योगी ने दिवंगत आत्मा की शान्ति की कामना करते हुए शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है।

इंदिरा हरदेश के राजनीतिक सफर पर नजर डालें तो 1974 में उत्तर प्रदेश के विधान परिषद में पहली बार चुनी गईं जिसके बाद 1986, 1992 और 1998 में इंदिरा ह्रदयेश लगातार चार बार अविभाजित उत्तर प्रदेश विधान परिषद के लिए चुनी गईं। साल 2000 में अंतरिम उत्तराखंड विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष भी बनीं और प्रखरता से उत्तराखंड के मुद्दों को सदन में रखा।

Continue Reading

Trending