Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

प्रादेशिक

उत्तराखंड: बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह जीना का कोरोना से निधन, कुछ दिन पहले पत्नी की हुई थी मौत

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड से बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह जीना का कोरोना से निधन हो गया है। वह 50 वर्ष के थे। कुछ ही दिन पहले उनकी पत्नी की हार्ट अटैक से मौत मौत हो गई थी। कोरोना संक्रमित होने के बाद उनका दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में इलाज चल रहा था जहां उन्होंने अंतिम सांस ली। सुरेंद्र सिंह जीना अल्मोड़ा जिले में सल्ट निर्वाचन क्षेत्र से विधायक थे।

उधर, सुरेंद्र सिंह जीना के निधन पर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशी धर भगत ने गहरा शोक व्यक्त किया है। भगत ने कहा, “जीना हमारे युवा, ऊर्जावान और योग्य कार्यकर्त्ता और विधायक थे और हमेशा संगठन व जनहित में सक्रिय रहते थे। वे एक शालीन व्यक्ति थे और हर वर्ग में लोकप्रिय थे। उनके निधन से पार्टी व समाज को अपूर्णनीय क्षति हुई है।”

उन्होंने कहा कि ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करे व उनके परिवार को यह असीम दुःख सहन करने की शक्ति दे।

नेशनल

विक्टोरिया मेमोरियल पहुंचे पीएम मोदी, बोले-कोलकाता आकर भावुक महसूस कर रहा हूं

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज यानी शनिवार को पश्चिम बंगाल के दौरे पर हैं। राजधानी कोलकाता पहुंचने के बाद पीएम मोदी सबसे पहले नेशनल लाइब्रेरी पहुंचे। यहां प्रधानमंत्री करीब 15 मिनट तक रुके। इसके बाद पीएम मोदी विक्टोरिया मेमोरियल पहुंचे हैं। यहां उनके साथ बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी मौजूद हैं। कोलकाता पहुंचे पीएम नरेंद्र मोदी नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 125वीं जयंती के अवसर पर आयोजित पराक्रम दिवस समारोह पहुंचे हैं।

पीएम मोदी विक्टोरिया मेमोरियल में लोगों को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि कोलकाता आकर भावुक महसूस कर रहा हूं। नेताजी को नमन। बचपन से जब भी नेताजी सुभाष चंद्र बोस जी का नाम सुना, मैं किसी भी स्थिति-परिस्थिति में रहा, इस नाम से एक नई ऊर्जा से भर गया। पीएम ने कहा कि आज के ही दिन मां भारती की गोद में उस वीर सपूत ने जन्म लिया था, जिसने आजाद भारत के सपने को नई दिशा दी थी।

आज के ही दिन ग़ुलामी के अंधेरे में वो चेतना फूटी थी, जिसने दुनिया की सबसे बड़ी सत्ता के सामने खड़े होकर कहा था, मैं तुमसे आजादी मांगूंगा नहीं, छीन लूंगा। पीएम मोदी ने कहा कि मैं नेता जी की 125वीं जयंती पर कृतज्ञ राष्ट्र की ओर से उन्हें नमन करता हूं। मैं आज बालक सुभाष को नेताजी बनाने वाली, उनके जीवन को तप, त्याग और तितिक्षा से गढ़ने वाली बंगाल की इस पुण्यभूमि को भी नमन करता हूं। मैंने अनुभव किया है कि नेताजी का नाम सुनते ही हर कोई कितनी ऊर्जा से भर जाता है। नेताजी के जीवन की ऊर्जा जैसे उनके अंतर्मन से जुड़ गई है। उनकी ऊर्जा, आदर्श, तपस्या, त्याग देश के हर युवा के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

पीएम मोदी ने कहा कि आज जब भारत नेताजी की प्रेरणा से आगे बढ़ रहा है तो हम सभी का कर्तव्य है कि उनके योगदान को पीढ़ी दर पीढ़ी याद किया जाए। इसलिए देश ने ये तय किया है कि अब हर वर्ष हम नेताजी की जयंती, यानी 23 जनवरी को ‘पराक्रम दिवस’ के रूप में मनाया करेंगे. पीएम ने कहा कि आज जब इस वर्ष देश अपनी आजादी के 75 वर्ष में प्रवेश करने वाला है, जब देश आत्मनिर्भर भारत के संकल्प के साथ आगे बढ़ रहा है, तब नेताजी का जीवन, उनका हर कार्य, उनका हर फैसला, हम सभी के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है।

 

Continue Reading

Trending