Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

AMU में कोरोना से कई प्रोफेसर्स की मौत के बाद सीएम योगी ने लिया हालातों का जायज़ा

Published

on

अलीगढ। अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में पिछले 22 दिनों में 19 मौजूदा प्रोफेसर्स समेत 40 लोगों की कोरोना से मौत हो चुकी है। अभी भी कई प्रोफेसर और स्टाफ में ऐसे लोग हैं, जो कोरोना संक्रमित हैं और कोई घर पर ही रहकर तो कोई अस्पताल में इलाज करवा रहा है। ऐसे में सीएम योगी गुरुवार को खुद हालात का जायजा लेने अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी पहुंचे। । सीएम ने यहां वीसी समेत तमाम अधिकारियों से बातचीत की और संक्रमित कर्मचारियों के बारे में जानकारी ली।

इस दौरान सीएम योगी योगी ने एएमयू में कोरोना से संक्रमित लोगों के समुचित इलाज और हर संभव मदद के लिए प्रशासनिक अधिकारियों को निर्देश भी दिए हैं। सीएम योगी ने कहा कि एएमयू में कोविड-19 स्थिति को लेकर मैंने कल VC साहब से चर्चा की थी और उन्होंने मुझे यहां की स्थिति के बारे में अवगत कराया था। यहां पर ऑक्सीजन आपूर्ति को लेकर डिमांड की गई थी। यूपी सरकार द्वारा पहले LMO सेवा प्रारंभ कर दी गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान में अलीगढ़ मंडल में 85 एंबुलेंस डेडिकेटेड रूप से कोविड-19 सेवा में लगी हुई हैं।108 सेवा की 75% एंबुलेंस का उपयोग कोविड-19 मरीजों के लिए किया जाएगा। हर जनपद में महिलाओं और बच्चों के लिए अलग से हॉस्पिटल बनाने का निर्देश दिया गया हर एक व्यक्ति का जीवन अमूल्य है।हमने यह सुनिश्चित किया है कि किसी भी तरह की जरूरत की स्थिति में लोकल एडमिनिस्ट्रेशन, AMU प्रशासन व जनप्रतिनिधि मिलकर कार्य करेंगे।

 

 

 

नेशनल

कोवैक्सीन को लेकर आई अच्छी खबर, तीसरे फेज में 77.8% असरदार पाया गया टीका

Published

on

नई दिल्ली। भारत की वैक्सीन कोवैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है। इस स्वदेशी वैक्सीन को बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक के मुताबिक तीसरे चरण के ट्रायल में यह टीका 77.8 फीसदी असरदार पाया गया है। बता दें कि भारत में जिन दो वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल मिला है कोवैक्सीन उसमें से एक है।

सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी (SEC) ने भारत बायोटेक की ओर से उपलब्ध कराए गए डेटा की समीक्षा की है। हालांकि अभी इसे मंजूरी नहीं दी गई है। ट्रायल डेटा की समीक्षा के लिए मंगलवार को एक्सपर्ट पैनल की बैठक हुई।

SEC की ओर से इस डेटा को अब ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) के पास भेजा जाएगा। भारत बायोटेक ने पैनल के सामने डेटा को रखा है, जिसके मुताबिक यह 77.8 फीसदी प्रभावी पाया गया है। SEC में अब आंकड़ों को परखा जा रहा है।

Continue Reading

Trending