Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

प्रादेशिक

निर्माण कार्यों को कराते समय कोरोना के प्रोटोकाॅल का हर स्तर पर पालन कराया जाएः डॉ महेंद्र सिंह

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के जलशक्ति मंत्री डा. महेन्द्र सिंह ने मानसून से पूर्व बाढ़ सुरक्षा के लिए ग्रामीण क्षेत्रो से जल-निकासी सुचारू बनाये जाने के लिए नालों व ड्रेनज की सफाई 15 जून से पहले पूरा किये जाने निर्देश दिये हैं। इसके साथ ही पुल-पुलियों की मरम्मत एवं प्रस्तावित निर्माण का कार्यों को लक्ष्य के अनुरूप इस माह के अन्त तक पूरा कराने को कहा है।

डा. महेन्द्र सिंह ने यह भी कहा है कि निर्माण कार्यों को कराते समय कोरोना के प्रोटोकाॅल का हर स्तर पर पालन कराया जाये। उन्होंने यह भी निर्देश दिये हैं कि कोरोना के कारण यह समय अत्यन्त कठिन है। इसके बावजूद भी सभी सावधानियों का ध्यान रखते हुए अपने कार्यों को पूरा करायें।

जलशक्ति मंत्री ने विभागाध्यक्ष के माध्यम से फील्ड स्तर के अधिकारियों को निर्देशित किया है कि 15 मई 2021 के पश्चात वह विभिन्न जनपदों के निरीक्षण पर निकलेंगे और इसके दौरान बाढ़ से बचाव सम्बन्धी कार्यो पुल-पुलियों की मरम्मत एवं निर्माण सम्बन्धी कार्य तथा नालों की सफाई के लिए कराये जा रहे कार्यों का सत्यापन एवं गुणवत्ता का अवलोकन करेंगे। मंत्री जी के इन निर्देशों की जानकारी सिंचाई मुख्यालय द्वारा उपलब्ध करायी गयी है।

डा. महेन्द्र सिंह ने सभी क्षेत्रीय अभियन्ताओं को शुरू किये गये कार्यों को गुणवत्ता पूर्वक पूरा कराये जाने के भी निर्देश दिये है। उन्होंने कहा है कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी जून माह के अन्त से बरसात होने की सम्भावना है। इसलिए बाढ़ से बचाव के लिए प्रस्तावित कार्यों को समय से पहले पूरा करा लिया जाये, जिससे बाढ़ के दौरान जन-धन की हानि न हो सके और बांधों एवं तटबन्धों को सुरक्षित बनाया जा सके।

उल्लेखनीय है कि मा0 मुख्यमंत्री जी द्वारा गत वर्ष समय-समय पर दिये गये मार्गदर्शन एवं जलशक्ति मंत्री द्वारा बाढ़ से बचाव के लिए तैयारी की लगातार समीक्षा के फलस्वरूप बाढ़ से जन-धन की हानि नहीं हुई और तटबन्ध भी सुरक्षित रहे।

प्रादेशिक

यूपीः 36,81,543 राशन कार्डधारकों को 90479.782 मीट्रिक टन खाद्यान्न का किया गया मुफ्त वितरण

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार कोविड-19 से उत्पन्न परिस्थितियों के कारण गरीबों और जरूरतमंदों को राहत पहुंचाने के लिए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम-2013 के अंतर्गत आच्छादित सभी अंत्योदय एवं पात्र गृहस्थी राशन कार्डधारकों को 03 माह (जून, जुलाई एवं अगस्त) तक मुफ्त राशन उपलब्ध करा रही है।

इस योजना के तहत जून माह के दूसरे चरण के वितरण के अन्तर्गत आज अंत्योदय और पात्र गृहस्थी के 3681543 राशन कार्डधारकों को 90479.782 मीट्रिक टन खाद्यान्न का मुफ्त वितरण किया गया है।

यह जानकारी प्रदेश के अपर खाद्य आयुक्त, श्री अनिल कुमार दुबे ने आज यहां देते हुए बताया कि 488967 अंत्योदय कार्डधारकों को 18551.317 मीट्रिक टन और 3192576 पात्र गृहस्थी राशन कार्डधारकों को 71928.465 मीट्रिक टन खाद्यान्न उपलब्ध कराया गया है।

उन्होंने बताया कि अन्त्योदय कार्डधारकों को जून माह में 03 किलोग्राम चीनी का वितरण 18 रू प्रति किलोग्राम की दर से किया जा रहा है। जिसके अन्तर्गत आज 495852 अंत्योदय कार्डधारकों को 1487.556 मीट्रिक टन चीनी का वितरण किया गया है। उन्होंने बताया कि जून माह का वितरण आगामी 30 जून तक जारी रहेगा।

श्री दुबे ने बताया कि इस अवधि में अन्त्योदय कार्डधारकों को 35 किग्रा0 खाद्यान्न (20 किग्रा0 गेहूं तथा 15 किग्रा0 चावल) तथा पात्र गृहस्थी राशन कार्डों से सम्बद्ध यूनिटों पर 05 किग्रा0 खाद्यान्न प्रति यूनिट (03 किग्रा0 गेहूं व 02 किग्रा0 चावल) का निःशुल्क वितरण लाभार्थियों में सुनिश्चित कराया जा रहा है।

उल्लेखनीय है कि इस योजना के तहत वितरण की अन्तिम तिथि 30 जून, 2021 होगी, जिस दिन आधार प्रमाणीकरण के माध्यम से खाद्यान्न प्राप्त न कर सकने वाले उपभोक्ताओं हेतु मोबाइल ओ.टी.पी. वेरीफिकेशन के माध्यम से वितरण सम्पन्न किया जा सकेगा।

Continue Reading

Trending