Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

शहीद दिवस: जब मुस्कुराते हुए फांसी पर झूल गए थे भगत सिंह

Published

on

लखनऊ। भारत को आजाद कराने के लिये अनेकों भारतीय देशभक्तों ने अपना बलिदान दे दिया। ऐसे ही देशभक्त शहीदों में से एक थे, भगत सिंह जिन्होंने अपना सम्पूर्ण जीवन भारत को अंग्रेजों की बेंड़ियों से मुक्त कराने के लिये समर्पित कर दिया। भगत सिंह का जन्म 28 सिंतबर, 1907 में पंजाब के लायलपुर जिल्ले के बंगा गांव में हुआ था जो आज पाकिस्तान का एक हिस्सा है। जिस परिवार में वो जन्मे थे वो एक देशभक्त सिख परिवार था। उसके पिता का नाम सरदार किशन सिंह और माता का नाम विद्यावती कौर था।

भगत सिंह जब पांच-सात साल के थे तब वे एक खेल खेला करते थे, जिसमे अपने सभी दोस्तों को सो टुकड़ियों में बाट देते थे और एक दूसरे पर आक्रमण करते थे। जब अंग्रेजो द्वारा पंजाब के अमृतसर में 13 अप्रैल, 1919 में जलियावाला बाग हत्याकांड हुआ, उस वक्त भगत सिंह अपनी स्कूल में पढ़ रहे थे और जैसे ही उसे यह पता चला तब वो स्कूल से 12 किलोमीटर पैदल चलकर जलियावाला बाग आ पहुंचे और इस हत्याकांड को देखकर भगत सिंह की सोच पर गहरा असर पड़ा।

समय रहते एक तरफ गांधीजी का असहयोग आंदोलन शुरू हुआ तो दूसरी ओर क्रांतिकारियों के हिंचक आंदोलन शुरू हुए, जिनमे भगत सिंह को अपने लिए रास्ता चुनना था कि वे किस आंदोलन का हिस्सा बने। कुछ समय बाद गांधीजी का असहयोग आंदोलन को बंध कर दिया गया और भगत सिंह ने देश की आजादी के लिए क्रांति के रास्ते पर चलना ठीक समझा, उसके बाद वें क्रन्तिकारी दल के सदस्य बन गए।

भगत सिंह ने लाहौर में ‘सांडर्स-वध’ और उसके बाद दिल्ली की सेंट्रल असेम्बली में चंद्रशेखर आजाद व पार्टी के अन्य सदस्यों के साथ बम-विस्फोट कर ब्रिटिश साम्राज्य के विरुद्ध खुले विद्रोह को बुलंदी दी। भगत सिह ने इन सभी कार्यो के लिए वीर सावरकर के क्रांतिदल ‘अभिनव भारत’ की भी सहायता ली और इसी दल से बम बनाने के गुर सीखे। वीर स्वतंत्रता सेनानी ने अपने दो अन्य साथियों-सुखदेव और राजगुरु के साथ मिलकर काकोरी कांड को अंजाम दिया, जिसने अंग्रेजों के दिल में भगत सिह के नाम का खौफ पैदा कर दिया।

भगत सिह को पूंजीपतियों की मजदूरों के प्रति शोषण की नीति पसंद नहीं आती थी। 8 अप्रैल 1929 को सेंट्रल असेम्बली में पब्लिक सेफ्टी और ट्रेड डिस्प्यूट बिल पेश हुआ। बहरी हुकूमत को अपनी आवाज सुनाने और अंग्रेजों की नीतियों के प्रति विरोध प्रदर्शन के लिए भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने असेम्बली में बम फोड़कर अपनी बात सरकार के सामने रखी। दोनों चाहते तो भाग सकते थे, लेकिन भारत के निडर पुत्रों ने हंसत-हंसते आत्मसमर्पण कर दिया।

दो साल तक जेल में रहने के बाद 23 मार्च, 1931 को सुखदेव, राजगुरु के साथ 24 साल की उम्र में भगत सिह को लाहौर जेल में फांसी दे दी गई। फांसी के बाद हिस्दुस्तान में हिंसा न भड़क उठे इस डर से अंग्रेजो ने इनके शवो को काटकर बोरियो में भरके फिरोजपुर के पास जलाने लगे, पर आग को देखकर वह लोग इकट्ठा होने लगे जिस वजह से इन तीनो को सतलज नदी में फैक दिया। आजादी के पहले का भारत यानि की आज का भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश के लोग भगत सिंह को आजादी के प्रमुख लड़वैये में से एक मानती है।

नेशनल

इन जिलों में 110 रु लीटर के करीब पहुंचा पेट्रोल

Published

on

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। लगातार बढ़ रहे तेल के दामों ने आम आदमी की कमर तोड़कर रख दी है। देश के कई राज्यों में शतक लगा चुका पेट्रोल अब 110 रु लीटर बिकने की कगार पर पहुंच गया है। श्रीगंगानगर, अनूपपुर और रीवा में पेट्रोल 108 रु प्रति लीटर बिक रहा है। अगर ऐसे ही दाम बढ़ते हुए तो जल्द ही ये 110 रु प्रति लीटर हो जाएगा।

वहीं, आज पेट्रोल की कीमत 26 पैसे और डीजल का दाम 7 पैसे प्रति लीटर बढ़ गए। जहां दिल्ली में गुरुवार को पेट्रोल का दाम 97.76 रू प्रति लीटर रहा वहीं डीजल भी बढ़कर 88.30 रुपय प्रति लीटर हो गया। दिल्ली में जून में अब तक पेट्रोल का मू्ल्य 3.53 रुपय बढ़ चुका है, वहीं डीजल का मूल्य भी 3.15 रुपय बढ़ा है। इससे पहले पेट्रोल 3.83 और डीजल 4.42 रुपय महंगा हुआ था।

बीते 4 मई से अब तक रुक-रुक कर 30 दिनों में ही डीजल का दाम 7.52 रुपये प्रति लीटर बढ़ चुका है। वहीं, इतने ही दिनों में ही पेट्रोल 7.44 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है। अब आठ राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में पेट्रोल का खुदरा दाम 100 रुपये प्रति लीटर के पार हो गया है। महानगरों में मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरु में पेट्रोल पहले ही 100 रुपये प्रति लीटर के आंकड़े को पार कर चुका है।

Continue Reading

Trending