Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

प्रादेशिक

अब लालू के दिल व गुर्दे का इलाज एम्स में नहीं रिम्स में होगा

Published

on

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद को मंगलवार को राष्ट्रीय राजधानी के एम्स से छुट्टी दिए जाने के बाद यहां के राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) में स्थानांतरित कर दिया गया। राजद प्रमुख का एम्स में दिल व गुर्दे से जुड़ी बीमारियों का इलाज चल रहा था।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राजधानी एक्सप्रेस से रांची पहुंचे। उन्हें एंबुलेंस में रिम्स ले जाया गया और कार्डियोलॉजी विभाग में भर्ती किया गया है।

बिरसा मुंडा सेंट्रल जेल के एक अधिकारी ने कहा, हम रिम्स से चिकित्सकीय रिपोर्ट मिलने का इंतजार कर रहे हैं। इसके आधार पर हम लालू प्रसाद को जेल ले जाने का फैसला करेंगे।

लालू प्रसाद यादव को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात के बाद एम्स से स्थानांतरित किया गया। रांची मेडिकल कॉलेज व अस्पताल स्थानांतरित करने पर नाराज लालू प्रसाद ने अपनी प्रतिक्रिया देते हुए चिकित्सकों से कहा, राजनीतिक दबाव के तहत उनके जीवन को खतरे में नहीं डाल जाए।

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने एम्स के निदेशक रणदीप गुलेरिया को लिखे एक पत्र में कहा है, “अगर मुझे एम्स से रांची मेडिकल कॉलेज भेजा जाता है तो मेरे जीवन को किसी प्रकार की हानि होने पर पूरी जिम्मेदारी आप सभी की होगी।”

लालू प्रसाद को एम्स में 29 मार्च को भर्ती कराया गया था। एम्स के छह चिकित्सकों का एक दल उनके स्वास्थ्य की निगरानी कर रहा है। इसमें शल्य चिकित्सा, कार्डियोलॉजी, नेफ्रोलॉजी व न्यूरोलॉजी विभाग के चिकित्सक शामिल हैं।

लालू प्रसाद को स्वास्थ्य संबंधी शिकायत के बाद 17 मार्च को रिम्स में भर्ती कराया गया था। वह बिरसा मुंडा जेल में चारा घोटाले से जुड़े मामले में 23 दिसंबर 2017 से जेल की सजा काट रहे हैं। हाल ही में उन्हें दुमका कोषागार मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 14 साल जेल की सजा सुनाई।

इनपुट आईएएनएस

नेशनल

पुणे: सीरम इंस्टीट्यूट के प्लांट में लगी भीषण आग

Published

on

पुणे। पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के प्लांट में गुरुवार दोपहर भीषण आग लग गई। आग लगने की वजह अभी पता नहीं चल पाई है। फिलहाल जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। मौके पर दमकल की 10 गाड़ियां मौजूद हैं। बिल्डिंग से चार कर्मचारियों को सुरक्षित निकाला गया है।

गोपालपट्टी में एसआईआई परिसर के इमारतों में से एक में से धुएं के घने बादल देखे जा सकते हैं। हालांकि कंपनी के अधिकारी घटना पर चुप्पी साधे रहे। पुणे फायर ब्रिगेड के कम से कम 10 फायर-टेंडर साइट पर पहुंच चुके हैं और आग बुझाने की कोशिश कर रहे हैं।

बता दें कि सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ही कोरोना वैक्सीन कोविशिल्ड बना रही है, जिसकी आपूर्ति भारत समेत कई देशों में की जा रही है। हालांकि अभी कोरोना वैक्सीन का प्रोडक्शन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के नए प्लांट से करीब एक से दो किलोमीटर दूरी पर स्थित पुराने प्लांट से किया जा रहा है। इस बीच सीरम इंस्टीट्यूट के एक अधिकारी ने यह बताने से इनकार कर दिया कि क्या आग लगने की इस घटना से कोविड-19 वैक्सीन का उत्पादन प्रभावित होगा।

Continue Reading

Trending