Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

अन्तर्राष्ट्रीय

म्यांमार में बड़ी प्राकृतिक आपदा, बारिश के बाद खदान धंसने से 113 मजदूरों की मौत

Published

on

यंगून| म्यांमार के कचिन राज्य में गुरुवार को एक हरिताश्म खनन क्षेत्र में भूस्खलन की चपेट में आने के बाद करीब 113 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य लोगों के लापता होने की सूचना है। लोगों ने बताया कि भारी बारिश के बाद कीचड़ का एक बड़ा सैलाब लहर की तरह आया जिसके नीचे पत्थर इकट्ठा कर रहे लोग दब गए| म्यांमार में दुनिया में सबसे अधिक जेड पत्थर या हरिताश्म यानी हरे रंग के कीमती रत्न पाए जाते हैं|

सूचना मंत्रालय के एक स्थानीय अधिकारी टार लिन माउंग ने कहा कि अभी तक हमने 100 से अधिक शव बरामद किए हैं। अभी और शव कीचड़ में फंसे हुए हैं। मृतकों की संख्या बढ़ने वाली है। इस इलाके में पिछले एक हफ्ते से भारी बारिश हो रही है जिससे बचाव कार्य में भी परेशानी पैदा हो रही है।

बता दें कि जेड की इन खदानों में पहले भी भूस्खलन से कई लोगों की मौत हो चुकी है। हादसे के प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि उन्होंने लोगों को मलबे के एक ढेर पर देखा जो ढहने के कगार पर था। थोड़ी ही देर बाद पहाड़ी से पूरा मलबा भरभराकर नीचे आ गिरा। जिसकी चपेट में आने से सैकड़ों लोग मारे गए।

#myanmar #death #mine

अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिका में कोरोना का कहर घटा, वैक्सीन की वजह से कम हो रही मौतें

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिका में लंबे समय तक कहर बरपाने के बाद कोरोना संक्रमण बहुत कम हो गया है। बीते 24 घंटे में यहां कोरोना के लगभग 10 हजार नए मामले सामने आए। इस दौरान 205 लोगों की मौत हो गई।

ताजा आंकड़ो के मुताबिक अमेरिका में कोरोना वायरस से 6 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, 113 दिन में 1 लाख मौतें हुईं हैं। हालांकि अब वैक्सीनेशन की वजह से मौतों का आंकड़ा बढ़ने की रफ्तार धीमी पड़ी है।

मौतों का आंकड़ा 5 लाख से 6 लाख तक पहुंचने में 113 दिन का वक्त लगा है। इससे पहले 4 लाख से 5 लाख मौतें होने में 35 दिन ही लगे थे। मौतों की रफ्तार में कमी की वजह वैक्सीनेशन को माना जा रहा है।

रॉयटर्स के डेटा के मुताबिक, अमेरिका में मई में 18,587 मौतें दर्ज हुईं जो जनवरी की तुलना में 81% कम है। जनवरी में वहां पीक आया था। अमेरिका में अब कोरोना की रफ्तार भले ही धीमी पड़ गई हो, लेकिन अब तक सबसे ज्यादा मौतें यहीं हुई हैं।

Continue Reading

Trending