Connect with us

प्रादेशिक

मामूली विवाद में छोटे भाई को मार डाला, बचाने आई भाभी की भी हत्या, लाशें रोहतक में फेंकी

Published

on

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली से एक दिल दहला देने वाला मामला सामने आया है। यहां एक शख्स ने मामूली विवाद में अपने छोटे भाई और उसकी पत्नी की हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद वो शव को रोहतक फेंक आया। आरोपी के घरवालों को इस बात की जानकारी थी लेकिन उन्होंने घटना के दो दिन बाद दोनों की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करवाई। हालांकि पुलिस को आरोपी की संदिग्ध गतिविधियों पर शक हो गया। पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो उसने सारा सच उगल दिया।

जानकारी के अनुसार मुंडका के फ्रेंड्स इंक्लेव इलाके में 40 साल का राजेश लाकड़ा अपने छोटे भाई श्रीभगवान लाकड़ा और परिवार के साथ रहता था। बताया गया है कि राजेश अक्सर शराब पीकर इलाके में मारपीट करता रहता था। इसकी वजह से आसपास के लोग घर पर राजेश की शिकायत लेकर आते थे और दोनों भाईयों में इसी मुद्दे पर विवाद होता था।

बताया गया कि शुक्रवार रात को भी राजेश शराब के नशे में किसी की पिटाई करके घर आया था। इसी बात पर श्रीभगवान ने उसे टोक दिया। फिर दोनों में विवाद बढ़ गया और हाथापाई की नौबत आ गई। इससे नाराज होकर श्रीभगवान ने राड से अपने बड़े भाई के सिर पर प्रहार कर उसे घायल कर दिया और फिर ईंट से हमला कर मार डाला। तभी राजेश की पत्नी रुचि ने यह देखा तो अपने पति को बचाने के लिए पहुंची। लेकिन श्रीभगवान ने रुचि के सिर पर भी प्रहार कर उसकी भी हत्या कर दी। वारदात को अंजाम देने के बाद राजेश दोनों के शव को कार में लादकर रोहतक फेंक आया। हालांकि पुलिस पूछताछ में उसने सारा सच कबूल कर लिया। पुलिस ने आरोपी की निशानदेही पर शव को बरामद कर लिया है।

प्रादेशिक

गोरखपुर में सीएम योगी : कोविड-19 को लेकर कही ये बात

Published

on

By

गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद संस्थापक सप्ताह समारोह के उद्घाटन के मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोई व्यक्ति अचानक बड़ा नहीं होता इसके लिए प्रयास करना ज़रूरी है।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज़ आज से शुरू

सीएम ने कहा कि मैं रात में जनरल बिपिन रावत से चर्चा कर रहा था। मैंने कहा कि एक बात बताएं देश की सीमाओं की रक्षा करता हुआ हमारा एक सैनिक जब उन दुरूह क्षेत्रों में देश की रक्षा कैसे कर पाता है। ऐसी जगहों पर एक से दो दिन, चार दिन व्यक्ति गया और मौज-मस्ती कर वापस आ गया। लेकिन जवान दुरूह पस्थितियों में निरंतर दिन-रात देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए कैसे संभव हो पाता है।

इस पर जनरल बिपिन ने उत्‍तर दिया कि यह आसान कार्य है। सैनिकों को उन पहाड़ों पर नई ऊर्जा मिलती है।सीएम ने कहा कि हमको इस बात का ध्यान रखना होगा कि कोविड-19 हमारे सामने चुनौती जरूर प्रस्तुत किया। लेकिन आपदा में हमने नई कार्यपद्धि‍त को विकसित किया। इससे जीवन आसान हो गया।

Continue Reading

Trending