Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

अन्तर्राष्ट्रीय

एक शख्स जिसने खुजली मिटाने के लिए अपने ‘प्राइवेट पार्ट’ में डाल लिया ‘केबल तार’

Published

on

नई दिल्ली। गर्मियों में अक्सर इंसान खुजली से परेशान रहता है। कई बार खुजली इतना परेशान करती है कि इंसान पागलपन की हद तक पहुँच जाता है। ऐसा ही कुछ देखने को मिला चीन में। वैसे भी चीन अक्सर दुनिया में अपनी अजीबोगारीब टेक्नोलॉजी के लिए विख्यात और कुख्यात रहता है। लेकिन टेक्नोलॉजी का ऐसा रूप पहली बार देखने को मिला जब एक शख्स ने अपने प्राइवेट पार्ट में हो रही ज़बरदस्त खुजली को ख़त्म करने के लिए एक मोबाइल केबल तार प्राइवेट पार्ट के अन्दर डाल लिया। अफसोस ये प्रयोग असफ़ल रहा और उसे डॉक्टर के पास जाना पड़ा।

चीन में रहने वाला एक 60 का व्यक्ति अपने प्राइवेट पार्ट में हो रही बहुत तेज़ खुजली को बर्दाश्त नहीं कर पाया और बिना सोचे समझे अपने मोबाइल केबल से खुजली करने लगा। आखिर में उसने केबल प्राइवेट पार्ट के अन्दर डाल लिया और वो केबल उसके ब्लैडर में फंस गया। फिर उसको इलाज के लिए डॉक्टर्स के पास जाना पड़ा। डॉक्टर्स की कई घंटों की कड़ी मशक्कत के बाद व्यक्ति के प्राइवेट पार्ट में से 3 फुट लंबी मोबाइल केबल तार निकाली गई और उसकी जान बच गई। उसे क्या पता था कि डॉक्टर के पास जाना ही पड़ेगा नहीं तो खुजली के इलाज के लिए जाता न कि प्राइवेट पार्ट से केबल निकलवाने।

आखिर में आपके लिए एक फ्री की सलाह कि इस तरह किसी भी चीज़ को कहीं भी इस्तेमाल न करें। ये आपके लिए खतरनाक साबित हो सकता है और ख़ास कर शरीर के नाज़ुक अंगों के साथ तो कतई छेड़खानी न करें।

अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिका में कोरोना का कहर घटा, वैक्सीन की वजह से कम हो रही मौतें

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिका में लंबे समय तक कहर बरपाने के बाद कोरोना संक्रमण बहुत कम हो गया है। बीते 24 घंटे में यहां कोरोना के लगभग 10 हजार नए मामले सामने आए। इस दौरान 205 लोगों की मौत हो गई।

ताजा आंकड़ो के मुताबिक अमेरिका में कोरोना वायरस से 6 लाख लोगों की मौत हो चुकी है। न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक, 113 दिन में 1 लाख मौतें हुईं हैं। हालांकि अब वैक्सीनेशन की वजह से मौतों का आंकड़ा बढ़ने की रफ्तार धीमी पड़ी है।

मौतों का आंकड़ा 5 लाख से 6 लाख तक पहुंचने में 113 दिन का वक्त लगा है। इससे पहले 4 लाख से 5 लाख मौतें होने में 35 दिन ही लगे थे। मौतों की रफ्तार में कमी की वजह वैक्सीनेशन को माना जा रहा है।

रॉयटर्स के डेटा के मुताबिक, अमेरिका में मई में 18,587 मौतें दर्ज हुईं जो जनवरी की तुलना में 81% कम है। जनवरी में वहां पीक आया था। अमेरिका में अब कोरोना की रफ्तार भले ही धीमी पड़ गई हो, लेकिन अब तक सबसे ज्यादा मौतें यहीं हुई हैं।

Continue Reading

Trending