Connect with us

प्रादेशिक

कन्नौजः बस में लगी आग, 20 लोगों के जिंदा जलने की आशंका

Published

on

कन्नौज। उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में फरु खाबाद से गुरसहायगंज जा रही स्लीपर बस की जीटी रोड में ट्रक से भिड़त हो गई। हादसा इतना भीषण था की ट्रक का डीजल टैंक में फट गया, जिससे दोनों वाहनों में आग लग गई। इस हादसे में 20 से ज्यादा यात्रियों के जिंदा जलने की आशंका जताई गई है। पुलिस ने बताया कि हादसे में 20 से ज्यादा लोगों के जिंदा जलने की आशंका है क्योंकि शव इतनी बुरी तरह से जले हैं कि अभी निश्चित संख्या बता पाना मुश्किल है। इसका पता डीएनए टेस्ट के बाद ही चलेगा।

जिलाधिकारी रविन्द्र कुमार ने बताया कि बस में 43 यात्री थे, जिनमें से 21 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गंभीर रूप से झुलसे 13 लोगों को सैफई मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। हालांकि वहां पर मौजूद कुछ लोगों का कहना है कि यात्री ज्यादा थे। लेकिन अभी इसका अनुमान लगा पाना मुश्किल है। पुलिस ने बताया कि फरु खाबाद की स्लीपर बस गुरसहायगंज से होते हुए जयपुर जा रही थी, जिसकी छिबरामऊ से करीब चार किमी दूर घिलोई गांव के पास बेवर की तरफ से आ रहे तेज रफ्तार के ट्रक से भिड़त हो गई। इसके बाद ट्रक के डीजल टैंक में आग लगने से विस्फोट हो गया।

प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि घिलोई गांव के कुछ युवकों ने बस में मौजूद कुछ लोगों को बचाने का प्रयास किया लेकिन आग की लपटें तेज होने के कारण वे हिम्मत नहीं जुटा सके। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हादसे में पीड़ित परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करते हुए कन्नौज के डीएम से विस्तृत रिपोर्ट मांगी है। मुख्यमंत्री ने इसे दर्दनाक हादसा बताते हुए मृतकों के परिवारों को दो-दो लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये देने का एलान किया है। परिवहन मंत्री अशोक कटारिया ने हादसे की जांच कानपुर के डिप्टी ट्रांसपोर्ट कमिश्नर व संभागीय अधिकरी (आरटीओ) को सौंपी है।

प्रादेशिक

गोरखपुर में सीएम योगी : कोविड-19 को लेकर कही ये बात

Published

on

By

गोरखपुर में महाराणा प्रताप शिक्षा परिषद संस्थापक सप्ताह समारोह के उद्घाटन के मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोई व्यक्ति अचानक बड़ा नहीं होता इसके लिए प्रयास करना ज़रूरी है।

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच तीन मैचों की टी20 सीरीज़ आज से शुरू

सीएम ने कहा कि मैं रात में जनरल बिपिन रावत से चर्चा कर रहा था। मैंने कहा कि एक बात बताएं देश की सीमाओं की रक्षा करता हुआ हमारा एक सैनिक जब उन दुरूह क्षेत्रों में देश की रक्षा कैसे कर पाता है। ऐसी जगहों पर एक से दो दिन, चार दिन व्यक्ति गया और मौज-मस्ती कर वापस आ गया। लेकिन जवान दुरूह पस्थितियों में निरंतर दिन-रात देश की सीमाओं की रक्षा करते हुए कैसे संभव हो पाता है।

इस पर जनरल बिपिन ने उत्‍तर दिया कि यह आसान कार्य है। सैनिकों को उन पहाड़ों पर नई ऊर्जा मिलती है।सीएम ने कहा कि हमको इस बात का ध्यान रखना होगा कि कोविड-19 हमारे सामने चुनौती जरूर प्रस्तुत किया। लेकिन आपदा में हमने नई कार्यपद्धि‍त को विकसित किया। इससे जीवन आसान हो गया।

Continue Reading

Trending