Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

अगर हो जाता ऑपरेशन सनडाउन, तो न होता ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ और न जाती इंदिरा गांधी की जान

Published

on

अमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर परिसर में 6 जून 1984 को भारतीय सेना की कार्रवाई को ऑपरेशन ब्लूस्टार नाम दिया गया था। दरअसल, स्वर्ण मंदिर के अंदर छिपे खालिस्तान समर्थक आतंकियों को बाहर निकालने के लिए भारतीय सेना स्वर्ण मंदिर में दाखिल हुई थी। ऑपरेशन के दौरान मरने वालों में जरनैल सिंह भिंडरावाले भी शामिल था, जिसकी अगुवाई में सिखों के लिए अलग खालिस्तान की मांग हो रही थी।

ऑपरेशन ब्लूस्टार के विरोध में इंदिरा गांधी की हत्या कर दी गई, ऐसा न होता अगर इंदिरा गांधी ऑपरेशन सनडाउन को मंजूरी दे देतीं, तो न ऑपरेशन ब्लू स्टार होता और न ही इंदिरा गांधी की जान जाती।

कहा जाता है कि इंदिरा की हत्या उस घटना के प्रतिशोध में की गई, जो उन्होंने सिखों के सबसे पवित्र स्थल स्वर्ण मंदिर में ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ के रूप में कराई थी। जरनैल सिंह भिंडरवाले पर कार्रवाई के लिए सेना को स्वर्ण मंदिर में घुसने की अनुमति दी गई थी।

लगभग डेढ़ दिन तक चले देश के इस युद्ध में स्वर्ण मंदिर के पवित्र चबूतरे लोगों के खून से लाल हो गए थे। इस युद्ध में भिंडरवाला तो मारा गया लेकिन इसकी बड़ी कीमत देश और सेना को चुकानी पड़ी। हमले में 83 के करीब सैनिक जिनमें तीन अफसर भी थे और 492 आम नागरिक मारे गए। ऑपरेशन खत्म हुआ तो स्वर्ण मंदिर के हर गलियारे में लाशों के ढेर पड़े थे।

7 जून 1984 की सुबह हर तरफ मौत का मंजर था। इतिहास में स्वर्ण मंदिर में चले ‘ऑपरेशन ब्लू स्टार’ के बारे में बहुत कुछ लिखा जा चुका है और न जाने कितने पन्ने इस मनहूस ऑपरेशन के नाम पर स्याह हो चुके हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ऑपरेशन ब्लू स्टार टल सकता था? और ऐसा होता तो शायद इंदिरा गांधी भी आज हमारे बीच हो सकती थीं।

असल में पंजाब में लगातार बढ़ रहे आतंकवाद और भिंडरवाले के देश विरोधी बयानों ने प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को चिंतित कर दिया था। इसी बीच 5 अक्टूबर, 1983 को सिख उग्रवादियों ने कपूरथला से जालंधर जा रही बस को रोक लिया। इसके बाद बस में सवार हिंदू सवारियों को चुन चुन कर गोलियों मारी गईं। इस घटना से इंदिरा गांधी गुस्से से भर उठीं।

घटना के अगले ही दिन उन्होंने पंजाब में कांग्रेस के मुख्यमंत्री दरबारा सिंह की सरकार को भंग करके वहां राष्ट्रपति शासन लगा दिया। इसके बाद इंदिरा गांधी ने भिंडरवाले और उसके साथियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का मूड़ बना लिया। उन्होंने कुछ वरिष्ठ अधिकारियों और नेताओं के साथ चर्चा के दौरान इस पर सहमति बनी।

स्वर्ण मंदिर को भिंडरवाला समर्थकों से खाली कराने के लिए सेना की कार्रवाई की जाए। इसके लिए आधी रात में ऑपरेशन चलाया जाए। शुरूआती ना नुकुर के बाद इंदिरा भी इस ऑपरेशन के लिए मान गई, जिसका नाम रखा गया ‘ऑपरेशन सन डाउन’। सरकार की तैयारियां पूरी थी और सेना की भी।

‘ऑपरेशन सनडाउन’ को ऑपरेशन ब्लूस्टार के मुकाबले कम जोखिम भरा और आसान माना गया था। जैसे ही ऑपरेशन को शुरू करने का वक्त आया इंदिरा ने पूछा कि ऑपरेशन में कितने लोगों की जान जा सकती है, जिसके जवाब में बताया गया 30-40।

इंदिरा ने तुरंत इस अभियान के लिए मना कर दिया। वो नहीं चाहती थीं कि सिखों से सबसे पवित्र धर्मस्थल में कोई खून खराबा हो। कहा ये भी जाता है कि  राजीव गांधी भी इस पक्ष में नहीं थे कि स्वर्ण मंदिर पर सेना से हमला करवाया जाए। लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था, इसलिए मात्र 30-40 लोगों की मौत की आशंका के चलते ऑपरेशन सन डाउन से इंकार करने वाली इंदिरा गांधी साढ़े पांच सौ से ज्यादा लोगों की मौत की गवाह बनीं।

असल में इंदिरा ने ‘ऑपरेशन ब्लूस्टार’ को भी सेनाध्यक्ष जनरल आरएस वैध के उस आश्वासन के बाद हरी झंडी दी थी, जिसमें उन्होंने सैनिक कार्रवाई में किसी के न मारे जाने की बात कही थी। कहा भी जाता है कि इस मुद्दे पर अधिकारियों ने इंदिरा गांधी को अंधेरे में रखा, जिसकी बहुत बड़ी कीमत देश को चुकानी पड़ी और इंदिरा गांधी के नाम पर भी धब्बा लगा।

ऑपरेशन ब्लू स्टार के पांच महीने बाद 31 अक्टूबर 1984 को तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की उन्हीं के सिख अंगरक्षकों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। इसके बाद देशभर में बड़े पैमाने पर सिख विरोधी दंगे भड़क गए थे।

नेशनल

इन जिलों में 110 रु लीटर के करीब पहुंचा पेट्रोल

Published

on

नई दिल्ली। देश में पेट्रोल और डीजल के दाम आसमान छू रहे हैं। लगातार बढ़ रहे तेल के दामों ने आम आदमी की कमर तोड़कर रख दी है। देश के कई राज्यों में शतक लगा चुका पेट्रोल अब 110 रु लीटर बिकने की कगार पर पहुंच गया है। श्रीगंगानगर, अनूपपुर और रीवा में पेट्रोल 108 रु प्रति लीटर बिक रहा है। अगर ऐसे ही दाम बढ़ते हुए तो जल्द ही ये 110 रु प्रति लीटर हो जाएगा।

वहीं, आज पेट्रोल की कीमत 26 पैसे और डीजल का दाम 7 पैसे प्रति लीटर बढ़ गए। जहां दिल्ली में गुरुवार को पेट्रोल का दाम 97.76 रू प्रति लीटर रहा वहीं डीजल भी बढ़कर 88.30 रुपय प्रति लीटर हो गया। दिल्ली में जून में अब तक पेट्रोल का मू्ल्य 3.53 रुपय बढ़ चुका है, वहीं डीजल का मूल्य भी 3.15 रुपय बढ़ा है। इससे पहले पेट्रोल 3.83 और डीजल 4.42 रुपय महंगा हुआ था।

बीते 4 मई से अब तक रुक-रुक कर 30 दिनों में ही डीजल का दाम 7.52 रुपये प्रति लीटर बढ़ चुका है। वहीं, इतने ही दिनों में ही पेट्रोल 7.44 रुपये प्रति लीटर महंगा हो गया है। अब आठ राज्यों राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, कर्नाटक, जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में पेट्रोल का खुदरा दाम 100 रुपये प्रति लीटर के पार हो गया है। महानगरों में मुंबई, हैदराबाद और बेंगलुरु में पेट्रोल पहले ही 100 रुपये प्रति लीटर के आंकड़े को पार कर चुका है।

Continue Reading

Trending