Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

खेल-कूद

न्यूजीलैंड को होना चाहिए था चैंपियन, जानिए क्या कहता है आईसीसी का ये नियम

Published

on

नई दिल्ली। विश्व कप 2019 के फाइनल में न्यूजीलैंड को हराकर इंग्लैंड विश्व विजेता बन गया। लेकिन विजेता बनने के फाइनल मैच विवादों में भी घिर गया।

रविवार को खेले गए मुकाबले में इंग्लैंड को विजेता घोषित करने के बाद आईसीसी के नियम पर सवाल उठने शुरू हो गए। कुछ लोगों का ये तक कहना है कि अगर आईसीसी के नियम को सही तरह से देखा जाए तो चैंपियन इंग्लैंड नहीं बल्कि न्यूजीलैंड होता। मामला इंग्लैंड की पारी के 50वें ओवर का है।

3 गेंदों में जब मेजबान टीम को 9 रन की दरकार थी तब चौथी गेंद पर बेन स्टोक्स ने मिड विकेट की ओर शॉट खेला और तेजी से एक रन लेने के बाद दूसरा रन पूरा करने के लिए स्ट्राइक एंड की तरफ डाइव लगा दी।

तभी गुप्टिल का थ्रो आकर उनके बैट पर लग गया और बॉल बाउंड्री पार चली गई। इससे इंग्लैंड को बिना कुछ किए चार अतिरिक्त रन (2+4 ओवर थ्रो) मिल गए थे। जो कि मैच का टर्निंग प्वाइंट बन गया।

इसके बाद अंपायर ने आपस में बातचीत करने के बाद इंग्लैंड को 6 रन दे दिए। इस तरह जहां सिर्फ 2 रन होने चाहिए थे वहां इंग्लैंड को 4 रन और अतिरिक्त मिल गए यानी कुल मिलाकर इंग्लैंड के खाते में 6 रन जुड़ गए। इसके बाद इंग्लैंड के लिए लक्ष्य आसान हो गया।

वहीं अगर आईसीसी के नियम को देखा जाए तो इंग्लैंड को ओवरथ्रो के 4 रन नहीं मिलने चाहिए थे। क्रिकेट के 19.8 नियम के मुताबिक अगर गेंद ओवरथ्रो पर बाउंड्री के पार चली जाए (चाहे वह गैरइरादतन बल्ले से ही क्यों न लगी हो) तो ओवरथ्रो से पहले लिए गए रनों में बाउंड्री के चार रन जुड़ जाएंगे।

अगर ओवर थ्रो या फिर फील्डर के जानबूझ कर किए गए एक्ट से गेंद बाउंड्री पार कर जाती है तो इसका फायदा दूसरी टीम को मिलता है। रन लेते समय रन का फायदा तभी मिलता है, जब बल्लेबाज ने थ्रो से पहले रन पूरा कर लिया हो या फिर थ्रो से पहले ही दोनों बल्लेबाज क्रॉस कर जाते हैं तभी उनको इसका फायदा मिलेगा।

लेकिन जब मार्टिन गप्टिल ने थ्रो फेंकी, तब बेन स्टोक्स और आदिल रशीद ने दूसरे रन के लिए एक दूसरे को क्रॉस नहीं किया था। इस तरह इंग्लैंड को जहां दो रन मिले, वहां सिर्फ एक रन ही होना चाहिए था।

खेल-कूद

केविन पीटरसन ने हिंदी में ट्वीट कर दी टीम इंडिया को बधाई, साथ ही दे दी ये चेतावनी

Published

on

नई दिल्ली| इंग्लैंड क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान केविन पीटरसन ने भारतीय टीम को आस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीतने पर हिंदी में बधाई दी है। बधाई के साथ पीटरसन ने टीम इंडिया को एक चेतावनी भी दी है।

पीटरसन ने लिखा, “भारत, यह ऐतिहासिक जीत का जश्न मनाएं क्योंकि यह सभी बाधाओं के खिलाफ हासिल हुई है, लेकिन असली टीम तो कुछ हफ्तों बाद आ रही है जिसे आपको हराना होगा अपने घर में। सतर्क रहें दो सप्ताह में बहुत अधिक जश्न मनाने से सावधान रहें।”

रोमांच से भरपूर इस मैच में पल-पल जीत का कांटा इधर-उधर फिसलता रहा लेकिन आखिरकार टीम इंडिया की युवा ब्रिगेड ने भारत की झोली में जीत डाल दी। मैच की चौथी पारी में भारत को 328 रन की दरकार थी. शुबमन गिल (91), चेतेश्वर पुजारा (56) और रिषभ पंत (85*) की बेहतरीन पारियों की बदौलत भारत ने यहां इतिहास रच दिया।

इससे पहले इस मैदान पर कभी भी 250 रन का टारगेट चेज नहीं हुआ था लेकिन अपने स्टार खिलाड़ियों के बिना खेल रही टीम इंडिया ने यहां यह भी करके दिखाया। ऋषभ पंत को उनकी बेहतरीन पारी के लिए मैन ऑफ़ द मैच का पुरूस्कार मिला, वहीं 4 मैचों में 21 विकेट लेने वाले ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाद पैट कमिंस मैन ऑफ़ द सीरीज घोषित किए गए।

बता दें कि पिछली बार भारत ने ऑस्ट्रेलिया को उसके ही घर में 2018-19 टेस्ट सीरीज में 2-1 से हराया था। भारतीय टीम ने बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी लगातार तीसरी बार अपने नाम कर जीत की हैट्रिक लगाई है।

Continue Reading

Trending