Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

अन्तर्राष्ट्रीय

दुबई के अस्पताल ने कोरोना संक्रमित भारतीय श्रमिक का 1.52 करोड़ रु का बिल किया माफ़

Published

on

नई दिल्ली। दुबई के एक अस्पताल ने मानवता की नई मिसाल पेश करते हुए कोरोना संक्रमित एक भारतीय श्रमिक के 1.52 करोड़ रु के बिल को माफ़ कर दिया। 42 वर्षीय ओडाला राजेश का दुबई अस्पताल में करीब 80 दिनों तक इलाज चल। इस दौरान इलाज का खर्च बढ़कर डेढ़ करोड़ रु से ज्यादा हो गया। चूंकि ओडाला राजेश वहां श्रमिक थे ऐसे में उनके लिए इतनी बड़ी रकम चुका पाना संभव नहीं था। ऐसे में अस्पताल प्रशासन ने दरियादिली दिखाते हुए उनके इलाज में आए पूरे खर्च को माफ़ कर दिया।

ओडाला राजेश को कोरोना पॉजिटिव आने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां वे 80 दिन भर्ती रहे। इलाज के बाद उसे 1.52 करोड़ रुपये (762555 दिरहम) का बिल थमाया गया, जो चुकाने की उसकी हैसियत नहीं थी। राजेश को उस अस्पताल में भर्ती कराने वाले दुबई में गल्फ वर्कर्स प्रोटेक्शन सोसायटी के प्रेसीडेंट गुंडेल्ली नरसिम्हा ने इस मामले से दुबई स्थित भारतीय वाणिज्य दूतावास में वालेंटियर सुमंथ रेड्डी को अवगत कराया। रेड्डी और बीएपीएस स्वामीनारायण ट्रस्ट के अशोक कोटेचा ने भारतीय वाणिज्य दूतावास के वाणिज्य-दूत हरजीत सिंह से गरीब श्रमिक की मदद करने का अनुरोध किया।

हरजीत सिंह ने दुबई अस्पताल के प्रबंधन को पत्र लिखकर मानवीय आधार पर इस श्रमिक का बिल माफ करने का अनुरोध किया। इस पर अस्पताल प्रबंधन ने बड़ा दिल दिखाते हुए पूरा बिल माफ कर दिया।

#dubai #dubaihospital #corona #indian

अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिकी विशेषज्ञ की सलाह- भारत में कोरोना की चेन तोड़ने के लिए कुछ सप्ताह का लगे लॉकडाउन

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिका के महामारी विशेषज्ञ एंथनी फाउची ने भारत में कोरोना की चेन तोड़ने के लिए कुछ सप्ताह के लॉकडाउन की सलाह दी है। फाउची ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए उठाए जा सकने वाले तत्काल कदम के तौर पर भारत को ये सलाह दी है। फाउची ने ये सुझाव ऐसे समय पर दिया है जब भारत में हर रोज कोरोना के रिकॉर्ड मामले सामने आ रहे हैं।

उन्होंने ‘इंडियन एक्सप्रेस’ को दिए इंटरव्यू में कहा कि लॉकडाउन के अलावा ऑक्सीजन, दवाओं और पीपीई किट की उपलब्धता बढ़ाना दूसरी महत्वपूर्ण आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि संकट की भयावहता के मद्देनजर, भारत को एक संकट समूह बनाना चाहिए, जो बैठकें करे और चीजों को संगठित करना शुरू करे। बता दें कि फाउची अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के मुख्य स्वास्थ्य सलाहकार भी हैं।

Continue Reading

Trending