Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

दोनों डोज लगने के बाद भी संक्रमित कर सकता है कोरोना का डेल्टा संस्करण-स्टडी

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस को लेकर एक हैरान कर देने वाली स्टडी सामने आई है। एम्स (दिल्ली) और राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी) की ओर से अलग-अलग की गई स्टडी के मुताबिक, COVID-19 का ‘डेल्टा’ संस्करण कोवैक्सिन या कोविशील्ड टीकों की दोनों डोज लगने वाले लोगों को भी अपनी चपेट में ले सकता है। एम्स के अध्ययन में यह कहा गया है कि ‘डेल्टा’ संस्करण ‘अल्फा’ संस्करण की तुलना में 40 से 50 प्रतिशत अधिक संक्रामक है।

एम्स-आईजीआईबी (इंस्टीट्यूट ऑफ जीनोमिक्स एंड इंटीग्रेटिव बायोलॉजी) का अध्ययन 63 रोगसूचक रोगियों के विश्लेषण पर आधारित था, जिन्होंने अस्पताल के आपातकालीन वार्ड में पांच से सात दिनों तक तेज बुखार की शिकायत की थी। इन 63 लोगों में से 53 को कोवैक्सिन की कम से कम एक खुराक और बाकी को कोविशील्ड की कम से कम एक खुराक दी गई थी। 36 को इनमें से एक टीके की दोनों खुराकें मिली थीं।

‘डेल्टा’ संस्करण द्वारा 76.9 प्रतिशत संक्रमण उन लोगों में दर्ज किए गए जिन्हें एक खुराक मिली थी। वहीं, 60 प्रतिशत उन लोगों में दर्ज किए गए थे जिन्होंने दोनों खुराक प्राप्त की थी। एनसीडीसी-आईजीआईबी अध्ययन के आंकड़ों से संकेत मिलता है कि ‘डेल्टा’ संस्करण का संक्रमण कोविशील्ड लेने वाले लोगों को प्रभावित करता है।

नेशनल

कोवैक्सीन को लेकर आई अच्छी खबर, तीसरे फेज में 77.8% असरदार पाया गया टीका

Published

on

नई दिल्ली। भारत की वैक्सीन कोवैक्सीन को लेकर एक अच्छी खबर सामने आई है। इस स्वदेशी वैक्सीन को बनाने वाली कंपनी भारत बायोटेक के मुताबिक तीसरे चरण के ट्रायल में यह टीका 77.8 फीसदी असरदार पाया गया है। बता दें कि भारत में जिन दो वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल मिला है कोवैक्सीन उसमें से एक है।

सब्जेक्ट एक्सपर्ट कमिटी (SEC) ने भारत बायोटेक की ओर से उपलब्ध कराए गए डेटा की समीक्षा की है। हालांकि अभी इसे मंजूरी नहीं दी गई है। ट्रायल डेटा की समीक्षा के लिए मंगलवार को एक्सपर्ट पैनल की बैठक हुई।

SEC की ओर से इस डेटा को अब ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) के पास भेजा जाएगा। भारत बायोटेक ने पैनल के सामने डेटा को रखा है, जिसके मुताबिक यह 77.8 फीसदी प्रभावी पाया गया है। SEC में अब आंकड़ों को परखा जा रहा है।

Continue Reading

Trending