Connect with us
https://www.aajkikhabar.com/wp-content/uploads/2020/12/Digital-Strip-Ad-1.jpg

नेशनल

देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर हुई बेकाबू, पहली बार एक दिन में 3 हजार से ज्यादा मौतेंं

Published

on

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर कम होती नहीं दिख रही है। भारत में हर कोरोना के नए मरीजों की संख्या में लगातार इजाफा देखने को मिल रहा है। ताजा आंकड़ों के मुताबिक देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 3.62 लाख नए मरीज आए हैं।

वहीं भारत में पहली बार मौत का आंकड़ा 3 हजार के पार चला गया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक बीते 24 घंटे में 3,285 लोगों की इस वायरस की वजह से जान चली गई। इसी के साथ देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,79,88,637 हो गई है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर ठीक होने की दर गिरकर 82.54 प्रतिशत हो गई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, संक्रमण से 3285 और लोगों के दम तोड़ने से मृतक संख्या बढ़कर 2,01,165 हो गई है। उपचाराधीन मरीजों की संख्या में भी तेजी से वृद्धि हो रही है।

यह संख्या बढ़कर 29,72,106 हो गई है, जो कुल संक्रमितों का 16.34 प्रतिशत है। वहीं, राष्ट्रीय स्तर पर कोविड-19 से ठीक होने की दर गिरकर 82.54 प्रतिशत हो गई है। मंत्रालय के अनुसार, संक्रमण से स्वस्थ होने वाले लोगों की संख्या बढ़कर 1,48,07,704 हो गई है।

नेशनल

आईएमए के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ केके अग्रवाल का कोरोना से निधन

Published

on

नई दिल्ली। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ केके अग्रवाल का सोमवार को कोरोना वायरस की वजह से निधन हो गया। दिल्ली के एम्स में उन्होंने अंतिम सांस ली।

62 वर्षीय केके अग्रवाल पिछले कई दिनों से एम्स में भर्ती थे। उन्हें एक सप्ताह से वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया था। 2010 में उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया था। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा दिल्ली में की और नागपुर विश्वविद्यालय से एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी की थी।

पिछले एक साल से, वह कोविड महामारी पर वीडियो पोस्ट कर रहे थे और बीमारी के विभिन्न पहलुओं और इसके प्रबंधन के बारे में बात कर रहे थे। उनके ट्विटर प्रोफाइल पर पोस्ट किए गए एक बयान में कहा गया, “महामारी के दौरान भी, उन्होंने जनता को शिक्षित करने के लिए निरंतर प्रयास किए। इस दौरान उन्होंने कई वीडियो और शैक्षिक कार्यक्रमों के माध्यम से 10 करोड़ लोगों तक पहुंचने में सक्षम थे और अनगिनत लोगों की जान बचाई। वह चाहते थे कि उनके जीवन का जश्न मनाया जाए और शोक न किया जाए।”

Continue Reading

Trending